--Advertisement--

आनी का राहत कोष खाली, कई प्रभावितों को नहीं मिली है राशि

कुल्लू जिला के उपमंडल आनी में प्राकृतिक आपदाओं से हुई क्षति की प्रभावितों को राहत देने के लिए बनाया गया कोष पिछली...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 02:00 AM IST
कुल्लू जिला के उपमंडल आनी में प्राकृतिक आपदाओं से हुई क्षति की प्रभावितों को राहत देने के लिए बनाया गया कोष पिछली बरसातों से खाली पड़ा है। फलस्वरूप मृत्य, आगजनी, बाढ़ प्रभावित और पालतू पशुओं आदि की मौत के राहत के करीब 100 केस लंबित पड़े हैं। इसके लिए आनी उपमंडल से जिला राजस्व अधिकारी को डेढ़ करोड़ के बजट मुहैया करवाने की मांग का पत्र करीब एक माह पहले भेज दिया गया है।

जानकारी के अनुसार करीब 6 माह पहले बरसातों के बाद से आपदा के दौरान हुए नुकसान की राहत वरदान करने को लेकर जारी बजट की एक फूटी कौड़ी तक आनी को नहीं मिल पाई है। इसके चलते मृत्यु के करीब 35, आगजनी,बाढ़, भूस्खलन आदि से हुए नुकसान के करीब 40 और पालतू पशुओं की मौत के करीब 20 से ज्यादा केस हैं । इनमें प्रभावितों को राहत राशि जारी की जानी बाकी है। इसके लिए सरकार से आनी उपमंडल के लिए ही करीब डेढ़ करोड़ से ज्यादा का बजट वांछित है।

हाल ही में देवठी पंचायत के धार गांव में आगजनी से बेघर हुए 3 भाइयों के परिवार को फौरी राहत तो दी गयी।राहत का केस भी बनकर तैयार है , लेकिन उपमण्डल आनी में बजट न होने के कारण राहत राशि प्रदान नहीं हो पा रही है। वहीं खनाग पंचायत के भरठी नाला निवासी ज्ञान चन्द और तवारु राम का कहना है कि गत वर्ष नाले में आई बाढ़ से जहां उनके 90 से ज्यादा सेब के पौधे बह गए थे,वहीं जमीन भी बह गयी थी। जिसकी सरकार द्वारा प्राथमिक रिपोर्ट तो तैयार कर दी गयी। मगर राहत राशि आज तक ना मिली। इसी तरह के करीब 100 केस उपमण्डल कार्यालय आनी में लंबित हैं,जो राहत कोष में राहत राशि आने की बाट जोह रहे हैं। ताकि प्रभावित परिवारों को राहत मिल सके।

संज्ञान में नहीं मामला