• Home
  • Himachal Pradesh News
  • Shimla News
  • करसोग के तुमन में स्वास्थ्य उपकेंद्र में 6 महीने से लटका पड़ा है ताला
--Advertisement--

करसोग के तुमन में स्वास्थ्य उपकेंद्र में 6 महीने से लटका पड़ा है ताला

प्रदेश के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के गृह जिला मंडी में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा चुकी हैं। खास कर...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:00 AM IST
प्रदेश के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के गृह जिला मंडी में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा चुकी हैं। खास कर मुख्यमंत्री के घर के साथ लगते करसोग उपमंडल की ग्रामीण पंचायतों गवालपुर, महोग आदि में हजारों लोगों का स्वास्थ्य या तो भगवान भरोसे है या फिर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के हवाले। आनी के साथ लगते गवालपुर पंचायत के तुमन गांव में पूर्व कांग्रेस द्वारा चुनावों से पहले खोले गए स्वास्थ्य उपकेंद्र में स्टाफ ना होने के कारण पिछले 6 माह से लगातार ताला लटका पड़ा है। जिसके चलते इस स्वास्थ्य उपकेंद्र से लाभान्वित हो सकने वाले तुमन, बखौन, नावर, नफ़्तन, स्वीन,मेहच, चखाना, खरोआ आदि गांवों के एक हजार से ज्यादा लोगों को प्राथमिक उपचार तक के लिए या तो 50-55 किलोमीटर दूर करसोग या करीब 20 किलोमीटर दूर आनी के सिविल अस्पताल पहुंचना पड़ रहा है।

अगस्त 2017 में खुला स्वास्थ्य उपकेंद्र, 6 माह से बंद : गांव के पंच भीम चन्द शर्मा, किशोरी लाल शर्मा, छविंद्र शर्मा, चेत राम शर्मा, डालमिया, भुवनेश कुमार, सोनू शर्मा, सत्यदेव शर्मा सहित दर्जनों लोगों का कहना है कि पूर्व सरकार के सीपीएस और करसोग के विधायक मनसा राम द्वारा अगस्त 2017 में इसके उद्घाटन अवसर पर इसमें स्थायी स्टाफ ना आने तक डेपुटेशन के सहारे लोगों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने का वादा किया था। जो इसके खुलने के करीब दो माह तक जारी भी रहा। इस स्वास्थ्य उपकेंद्र में शुरू शुरू में महोग,अश्ला या नांज आदि स्वास्थ्य उपकेंद्रों से फीमेल हेल्थ वर्कर या पैरामेडिकल स्टाफ हफ्ते में 3 या 4 दिन डेपुटेशन पर आकर सेवाएं दे देता था। लेकिन 8 माह पहले खुले इस स्वास्थ्य उपकेंद्र में पिछले करीब 6 माह से डेपुटेशन पर सेवाएं कोई नहीं दे रहा और अब 6 माह से लगातार इस स्वास्थ्य उपकेन्द्र में ताला लटका चुका है। लोग प्राथमिक उपचार तक के लिए कई किलोमीटर दूर जाकर भटकने को मजबूर हैं।

लोगों का कहना है कि आसपास के गांवों के लोगों की जरूरत को मद्देनजर रखते हुए तुमन गांव के कुम्भ राम ने स्वास्थ्य उपकेंद्र खोलने के लिए दो साल तक बिना किराए लिए ही अपने घर मे इसे खोलने की अनुमति भी दी है।

पहले स्वास्थ्य मंत्री और अब मुख्यमंत्री का है गृह जिला

विडंबना यह है कि पूर्व कांग्रेस सरकार के दौरान मंडी जिला से ही संबंध रखने वाले स्वास्थ्य मंत्री कॉल सिंह ने तुमन, सेरी और माहूंनाग में स्वास्थ्य उपकेंद्र तो दे दिए,लेकिन आने ही गृह जिला में स्टाफ मुहैया ना करवा सके और सभी स्वास्थ्य उपकेंद्र डेपुटेशन पर चलते रहे। बठाड़ में भाजपा की जय राम ठाकुर के नेतृत्व में बनने वाली सरकार के आते ही लोगों को उम्मीद बंधी की अब मुख्यमंत्री का गृह जिला होने के कारण स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर हो सकेगी। लेकिन बेहतर होना तो दूर इनमें ताला लटका गया और पहले डेपुटेशन के सहारे चलने वाले उपस्वास्थ्य केंद्रों में ताला खोलने वाला ही कोई नहीं,इलाज करने वाला तो दूर की बात है।