शिमला

--Advertisement--

आठ फरवरी को सभी जिलों में करवाई जाएगी मॉकड्रिल

भूकंप के दौरान होने वाली आपदा से बचाव को लेकर 8 फरवरी को प्रदेश भर में मॉकड्रिल अभ्यास का आयोजित होगा। इसमें सभी 12...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:05 AM IST
भूकंप के दौरान होने वाली आपदा से बचाव को लेकर 8 फरवरी को प्रदेश भर में मॉकड्रिल अभ्यास का आयोजित होगा। इसमें सभी 12 जिले भाग लेंगे। प्रधान सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन ओंकार चंद शर्मा ने कहा कि अति-संवेदनशील जोन चार तथा पांच में आने के मध्य नजर हिमाचल प्रदेश भूकंप की दृष्टि से अति-संवेदनशील क्षेत्र है। वीरवार को प्रतिक्रिया प्रणाली पर आधारित जागरूकता कार्यक्रम और अभ्यास एवं समन्वय सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए जानकारी दी। ओंकार शर्मा ने कहा कि 7 फरवरी को 11 बजे टेबल टॉप अभ्यास किया जाएगा, जिस अभ्यास में सभी जिलों के उपायुक्त वीडियो काॅन्फ्रेंस के माध्यम से शामिल होंगे, जबकि राज्य स्तरीय अधिकारी राज्य सचिवालय में उपस्थित रहेंगे। आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण को हिपा तथा अन्य विभागात्मक प्रशिक्षण के प्रत्येक प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा। इस मॉक अभ्यास से रणनीति बढ़ाने तैयारियों के स्तर में वृद्धि और जोखिम को कम करने में मद्द मिलेगी। विशेष सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन डीसी राणा ने कहा कि यह अभ्यास प्रत्येक जिले में कम से कम पांच स्थानों और विभिन्न स्थलों जिनमें आवासीय, गैर आवासीय, अस्पताल, शिक्षण संस्थान व व्यवसायिक परिसरों में आयोजित किया जाएगा। भूकंप का परिदृश्य अध्ययन आईआईटी मुंबई तथा एनडीएमए के व्यवस्थित अध्ययन के अनुसार किया जाएगा, जिसमें यह अनुमान लगाया है कि हिमाचल में रात को रिक्टर स्केल 12 पर यदि सुंदरनगर व मंडी के मध्य भूकम्प आता है तो इससे न केवल प्रदेश बल्कि पड़ोसी राज्य भी प्रभावित होंगे।

प्रदेश में बल गठित करने का निर्णय लिया: मारवाह

एनडीएमए के सदस्य सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल एनसी मारवाह ने कहा कि मॉकड्रिल अभ्यास से स्थानीय लोगों में क्षमता निर्माण और विभिन्न एजेंसियों के मध्य समन्वय स्थापित करने में सहायता मिलेगी। हिमाचल प्रदेश ने राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल गठित करने का निर्णय लिया है। एनडीएमए इसके लिए सभी आवश्यक सहायता तथा विशेषज्ञ प्रशिक्षण उपलब्ध करवाएगा। एनडीएमए के वरिष्ठ विशेषज्ञ सेवानिवृत मेजर जनरल डॉ. वीके नायक ने घटना प्रतिक्रिया प्रणाली के बारे में जागरूकता कार्यक्रम पर विस्तृत प्रस्तुति दी।

X
Click to listen..