Hindi News »Himachal »Shimla» रोहड़ू के 240 स्कूलों में बच्चे सीखेंगे जीवन में संस्कारों का महत्व

रोहड़ू के 240 स्कूलों में बच्चे सीखेंगे जीवन में संस्कारों का महत्व

प्रदेश भर में एकल विद्यालय अभियान के तहत 5520 स्कूलों के माध्यम से बच्चों में संस्कृति व संस्कारों की शिक्षा के साथ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 02:05 AM IST

प्रदेश भर में एकल विद्यालय अभियान के तहत 5520 स्कूलों के माध्यम से बच्चों में संस्कृति व संस्कारों की शिक्षा के साथ प्राथमिक शिक्षा का मजबूत आधार प्रदान किया जा रहा है। अभियान के तहत जुड़े हजारों शिक्षक प्रशिक्षण हासिल कर बच्चों को शिक्षा के पंचमुखी सिद्धांत के मुताबित आरोगय शिक्षा, ग्रामीण विकास, स्वाभिमान जागरण व संस्कारी शिक्षा के गुर सिखा रहे हैं।

एकल विद्यालयों की सक्रीयता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है पुरे प्रदेश में 5520 विद्यालय कार्य कर रहे हैं, जबकि जिला शिमला में इनकी संख्या 780 हैं । इनमें से रोहड़ू में 240 एकल विद्यालय काम कर रहे हैं। उक्त विद्यालय में स्कूली बच्चों को पंचमुखी शिक्षा प्रदान करने वाले शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए अंचल, जिला व मंडल स्तर पर प्रशिक्षण शिविरों का समय-समय पर आयोजन किया जा रहा है। एकल विद्यालय के इसी अभियान के तहत कांसाकोटी में एकल विद्यालयों के अध्यापकों को प्रशिक्षित किया जा रहा । इस शिविर में सरस्वती नगर क्षेत्र को प्रशिक्षित किया जा रहा है। इस पांच दिवसीय प्रशिक्षण में पचास अध्यापकों को प्रशिक्षित कर एकल विद्यालयों की कमान साैंपी जानी है। ये शिक्षक गांव में संध्यकालीन सत्रों में गांव के स्कूली बच्चों को शिक्षा प्रदान करेंगे।

रोहड़ू में एकल विद्यालय अभियान के प्रथम आचार्य रहे बलबीर मांटा ने पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का उद्‌घाटन करते हुए बताया कि उकल विद्यालय स्कूली बच्चों में स्वाभिमान, आरोग्य व संस्कार की शिक्षा प्रदान कर मजबूती प्रदान कर रहे हैं। एकल विद्यालय सराहनीय कार्य कर रहे हैं। इस अवसर पर एकल विद्यालय अभिायान से जुडे पुनीत, प्रियंका, सतीश कुमार, रेखा, शर्मिला नेगी, आर्दश कपिल, मनिषा, दिव्या,हर्ष व मेनिका भी उपस्थित थे।

एकल विद्यालय के प्रशिक्षण शििवर में मौजूद अध्यापक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shimla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×