Hindi News »Himachal »Shimla» निगम पानी तो समय पर नहीं दे रहा और दरें बढ़ाकर डाल रहा बोझ

निगम पानी तो समय पर नहीं दे रहा और दरें बढ़ाकर डाल रहा बोझ

टूरिज्म इंडस्ट्री स्टेक होल्डर्स एसोसिएशन शिमला ने नगर निगम की ओर से की गई पानी की दरों में 10 फीसदी बढ़ोतरी की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:10 AM IST

निगम पानी तो समय पर नहीं दे रहा और दरें बढ़ाकर डाल रहा बोझ
टूरिज्म इंडस्ट्री स्टेक होल्डर्स एसोसिएशन शिमला ने नगर निगम की ओर से की गई पानी की दरों में 10 फीसदी बढ़ोतरी की निंदा की है। एसोसिएशन पदाधिकारियों ने कहा कि उन्होंने इस मामले को लेकर नगर निगम शिमला की मेयर कुसुम सदरेट व अन्य पार्षदों से मिले थे। इस दौरान उन्होंने होटल मालिकों को आ रही समस्याओं के बारे में भी अवगत करवाया था और पानी की दरों में बढ़ोतरी न करने का आग्रह किया था। पदाधिकारियों का कहना है कि होटल उद्योग पहले से ही कई प्रकार के टैक्स, उच्च कर्मचारी वेतन, वास्तविक बिजली की खपत, उच्चतम जल दर, जल बिलों और कचरा संग्रह शुल्क आदि पर 30 फीसदी सीवरेज सेस के रूप में अधिक होने कारण परेशान हैं। इस पर पानी की दरों में भी वह कमर्शियल दरों से भी 25 फीसदी अधिक दाम दे रहे हैं। उनका कहना है कि अब फिर से 10 फीसदी दाम बढ़ने के बाद होटल कारोबारियों को अपना खर्चा निकालना मुश्किल हो गया है। मेयर ने उन्हें आश्वासन दिया था कि वह पानी, हाउस टैक्स और डोर-टु-डोर गारबेज शुल्क की दरों पर विचार करेंगे, लेकिन कमर्शियल उपभोक्ताओं के साथ पानी की दरों को लाने के बजाय नगर निगम ने सभी प्रकार के लिए 10 फीसदी से पानी की दर बढ़ाने का निर्णय लिया है। उनका कहना है कि निगम पानी की सप्लाई तो समय पर कर नहीं पाता। होटल कारोबारियों को उनसे महंगे दामों पर टैंकर मंगवाने पड़ते हैं। ऐसे में यह शुल्क बढ़ाना सही नहीं है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shimla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×