--Advertisement--

21% तक बढ़ेगा बस किराया: ठाकुर

प्राइवेट बस ऑपरेटर यूनियन के दबाव में हिमाचल सरकार बसों के किराये में 21% तक बढ़ोतरी करने जा रही है। परिवहन मंत्री...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 02:11 AM IST
प्राइवेट बस ऑपरेटर यूनियन के दबाव में हिमाचल सरकार बसों के किराये में 21% तक बढ़ोतरी करने जा रही है। परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर की अध्यक्षता में बुधवार को प्राइवेट बस ऑपरेटर यूनियन के साथ हुई बैठक में इस पर सहमति बन गई है। 25 सितंबर को होने वाली राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में इस पर अंतिम मुहर लगेगी। ठाकुर ने कहा कि मैदानी क्षेत्र में बस का किराया फिलहाल 93 पैसे प्रति किलोमीटर है। इसे बढ़ाकर 1.12 रुपए किया जाएगा। पहाड़ी क्षेत्रों में किराया 1.45 रुपए है जिसे बढ़ाकर 1.75 रुपए किया जाएगा। बैठक में प्रधान सचिव परिवहन जेसी शर्मा सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। परिवहन मंत्री ने कहा कि डीजल के दाम आए दिन बढ़ते जा रहे हैं और ये अब तक के सर्वाधिक हैं। काफी समय से किराया बढ़ाया भी नहीं गया, इसलिए ये जरूरी भी है।

इतना बढ़ सकता है किराया

रूट का नाम पहले नया अंतर

शिमला से मंडी 219 रुपए 265 रुपए 46 रुपए

शिमला से धर्मशाला 361 रुपए 432.40 रुपए 71.4 रुपए

हमीरपुर से शिमला 222 रुपए 269 रुपए 47 रुपए

शिमला से रोहडू 170 रुपए 205 रुपए 35 रुपए

बिलासपुर से शिमला 133 रुपए 160 रुपए 27 रुपए

साेलन से शिमला 65 रुपए 78 रुपए 13 रुपए

नालागढ़ से शिमला 175 रुपए 211 रुपए 36 रुपए

कुल्लू से शिमला 335 रुपए 405 रुपए 70 रुपए


परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने यूनियन की मांगों को सुनने के बाद समस्याओं के समाधान के लिए आरएम व आरटीओ से बैठक करने के भी निर्देश दिए। प्रदेशाध्यक्ष राजेश पराशर के अलावा जिला मंडी प्रधान वीरेंद्र गुलेरिया, सचिव भूपेंद्र राव सहित प्रदेश के पदाधिकारी उपस्थित रहे।



निजी बस ऑपरेटर्स को सरकार की ने न्यूनतम किराया 5 व 10 रुपए करने का भी आश्वासन दिया है। अभी न्यूनतम किराया 3 रुपए है। अब सवाल यह उठ रहा है कि अगर न्यूनतम किराया भी बढ़ाया गया तो यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।


प्रदेश में एचआरटीसी की तर्ज पर निजी बसों में भी टिकट देने वाली इलेक्ट्रिक टिकटिंग मशीन निजी बस ऑपरेटरों को दी जाएगी। जिसका कंट्रोल परिवहन निदेशक के पास रहेगा। परिवहन एवं वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने बुधवार को सुंदरनगर में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि इस मशीन के माध्यम से निजी बसों में निर्धारित किराए से न तो ज्यादा और न ही कम निजी बस कंडक्टर वसूल कर पाएंगे। इस प्रकार की योजना परिवहन निगम तैयार कर रहा है। जिसे शीघ्र ही अमलीजामा पहनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि निजी बस ऑपरेटरों की समस्याओं को गंभीरता से सुना गया है।