Hindi News »Himachal »Shimla» Dangerous Roads In Himachal Pradesh

एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता

हिमाचल प्रदेश को देश के अंदर घूमनेवाले लोग पहली पसंद मानते हैं।

DainikBhaskar.Com | Last Modified - Apr 10, 2018, 12:32 AM IST

  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें

    नूरपुर (शिमला).हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के नूरपुर में सोमवार शाम को एक स्कूल बस 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। इस हादसे में 29 बच्चों समेत 32 की मौत हो गई और 15 लोग जख्मी हैं। बस स्कूल से बच्चों को घर छोड़ने के लिए जा रही थी। बता दें कि हिमाचल प्रदेश देश के पसंदीदा टूरिस्ट स्पॉट्स में से एक है। यहां की वादियां कई विदेशी टूरिस्ट को इतनी पसंद आती हैं कि कई लोगों ने यहीं बस गए। हिमाचल की खूबसूरती को देखने के लिए कई बार जान जोखिम में भी डालना पड़ता है, इसकी वजह यहां की सड़के हैं। हजारों फीट ऊंचाई पर बनी हिमाचल की सड़कों पर ड्राइविंग करना आसान नहीं होता है। यहां एक चूक से हमेशा जान जाने का खतरा बना रहता है। इस बात का डर रहता है लोगों में...

    - हिमाचल प्रदेश के किन्नौर, चंबा, लाहौल-स्पीति जिलों में पहाड़ काटकर सड़कें बनाई गई है।
    - इन सड़कों पर थोड़ी सी चूक होने पर गाड़ियां हजारों फीट खाई में गिर जाती है।
    - इसके बाद जान बचने की गुंजाइश बिल्कुल खत्म हो जाती है। यानि, यहां की सड़कों पर एक गलती कई लोगों की मौत की वजह बन सकती है।
    - यही कारण है कि ऊंची घाटियों में चलनेवाली गाड़ियों में बैठे बाहरी लोगों के जेहन में हमेशा एक डर समाया रहता है।

    लोकल ड्राइवर चलाते हैं गाड़ियां

    - इन रास्तों पर यहां के लोकल ड्राइवरों को ही गाड़ियां चलाने की परमिशन दी जाती है।
    - विदेशी टूरिस्टों के साथ-साथ दूसरे राज्यों के लोगों की प्राइवेट गाड़ियों को भी यहां के लोग ही ड्राइव करते हैं।
    - हिमाचल की स्टेट बस जिस रास्तों से होकर गुजरती है। उनमें सवार बाहरी लोग ड्राइवरों के हौंसले की तारीफ करते हैं।

    ये हैं यहां कि खतरनाक सड़कें

    - मनाली से कल्पा, लाहौल-स्पीति से रिकांगपिओ और रोहतांग की सड़कें बेहद खतरनाक मानी जाती है।
    - इन सड़कों पर थोड़ी सी चूक से किसी भी समय हादसे होने का डर रहता है।
    - सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, हर साल सड़क हादसे में इस रास्तों पर करीब 700 लोगों की जान चली जाती है।
    - पिछले साल सितंबर में ही किन्नौर की ऊंची सड़क पर बस पलटने से करीब 50 लोगों की मौत हो गई थी।
    - हालांकि, एडवेंचर के शौकिन लोग इन सड़कों पर जमकर लुत्फ उठाते हैं।
    - टूरिस्ट हजारों फीट की ऊंचाई से हिमाचल की वादियों की खूबसूरती को देखकर यहां के फैन हो जाते हैं।

  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
  • एक तरफ पहाड़ी-दूसरी तरफ हजारों फीट गहरी खाई, जरा सी चूक मतलब मौत का न्यौता
    +9और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shimla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×