शिक्षा,आईटी व आयुर्वेद विभाग की रिपोर्ट से खुश नहीं है सरकार

Shimla News - 7 व 8 नवंबर काे धर्मशाला में हाेने वाली ग्लोबल इनवेस्टर मीट के लिए राज्य सरकार अब एक्शन माेड़ में अा गई है।...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:25 AM IST
Shimla News - government is not happy with the report of department of education it and ayurveda
7 व 8 नवंबर काे धर्मशाला में हाेने वाली ग्लोबल इनवेस्टर मीट के लिए राज्य सरकार अब एक्शन माेड़ में अा गई है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अाईटी, आयुर्वेद अाैर शिक्षा विभाग काे इनवेस्टमेंट में खराब परफार्मेंस के लिए फटकार लगाई है। ग्लोबल इनवेस्टर मीट के लिए निवेश लाने अाैर एमअाेयू साइन करवाने में इन तीनाें विभागाें की परफार्मेंस अपेक्षा से काफी कम है। दाे राेज पूर्व मुख्यमंत्री ने इन तीनाें विभागाें के सचिव अाैर निदेशकों काे निर्देश दिए हैं कि वह बड़े निवेशकाें के साथ संपर्क स्थापित करें। सात नवंबर से पहले निवेशकाें के साथ एमअाेयू साइन करने काे लेकर सारी औपचारिकताएं पूरी करें ताकि राज्य सरकार तय लक्ष्य काे हासिल कर सकें। सूचना एवं प्रौद्यागिकी विभाग ने 466 कराेड़ के दाे एमअाेयू अाैर शिक्षा विभाग ने 500 कराेड़ के एमअाेयू एक साथ कर अपने टारगेट में सुधार किया था बावजूद इसके सरकार इनकी परफार्मेंस से ज्यादा खुश नहीं है।

3 विभागाें से इसलिए थी ज्यादा उम्मीद

अार्युवेद, अाईटी अाैर शिक्षा तीनाें ही विभागाें से राज्य सरकार काे निवेश की सबसे ज्यादा उम्मीद थी। प्रदेश में अार्युवेद के क्षेत्र में निवेश की सबसे ज्यादा संभावनाएं है। राज्य सरकार केरल की तर्ज पर हिमाचल में भी हेल्थ टूरिज्म को बढ़ावा देना चाहती है। सरकार ने अार्युवेद पॉलिसी में भी बदलाव किया था। विलेज रिसॉर्ट, हेल्थ वैलनेस अाैर पंचकर्मा काे प्रमाेट करने की याेजना थी। आयुर्वेद विभाग ने 45 निवेशकों ने अपना-अपना प्रोजेक्ट सौंपा हैं। दूसरी तरफ प्रदेश में दाे अाईटी पार्क पहले से प्रस्तावित हैं। सरकार ने अाईटी क्षेत्र में निवेश के लिए पॉलिसी में भी बदलाव किया था। बावजूद इसके काफी कम रुझान इस क्षेत्र में देखने काे मिला है। तीसरा शिक्षा का क्षेत्र हैं। इस क्षेत्र में पूर्व में काफी निवेश हुअा है। सरकार ने तीनाें विभागाें की ब्रांडिंग भी की लेकिन उम्मीद से भी कम निवेश अभी तक अाया है।

ऊर्जा विभाग सबसे बड़ा निवेश लेकर अाया

इन्वेस्टर मीट के लिए ऊर्जा निदेशालय सबसे ज्यादा निवेश लेकर आया है। इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अधिकारियाें काे बधाई दे चूके हैं। सरकार अभी तक 570 एमओयू कर चुकी है।

अभी तक 77 हजार कराेड़ का छुअा टारगेट

ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के लिए प्रदेश सरकार ने 77 हजार करोड़ के निवेश का आंकड़ा छू लिया है। ऊर्जा विभाग ने एक ही दिन में 25,772 करोड़ के एमअाेयू साइन करके लंबी छलांग लगाई है। राज्य सरकार ने ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के लिए 85 हजार करोड़ के लक्ष्य निर्धारित किया हुअा है। अब सरकार का दावा है कि इस टारगेट काे अाेवर अचीव किया जाएगा।

अभी तक इन विभागाें में सबसे ज्यादा अचीवमेंट

ऊर्जा 27 हजार कराेड़

हाउसिंग 9200 कराेड़

टूरिज्म 12,400 कराेड़

उद्याेग 12,300 कराेड़

शहरी विकास 5700 कराेड़

अार्युवेद अाैर हेल्थ 1900 कराेड़

अाईटी 1850 कराेड़

शिक्षा 500 कराेड़

निर्देश: बेहतर प्रदर्शन करें विभाग ताकि ज्यादा निवेश हो: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि ग्लाेबल इनवेस्टर मीट के लिए काफी कम समय बच गया है। सभी विभाग बेहतर प्रदर्शन करे ताकि ज्यादा निवेश अाए अाैर युवाअाें काे राेजगार मिल सके। इनवेस्टर मीट के लिए हर विभाग की समीक्षा की जा रही है।

X
Shimla News - government is not happy with the report of department of education it and ayurveda
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना