--Advertisement--

सीएम ने सुरेश प्रभु से मंडी एयरपोर्ट की आधारशिला रखवाने का किया आग्रह

केंद्रीय मंत्री ने गग्गल एयरपोर्ट के विस्तार की रिपोर्ट तैयार करने के दिए निर्देश

Danik Bhaskar | Sep 09, 2018, 04:36 AM IST

शिमला. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने शनिवार को नई दिल्ली में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु से मुलाकात की। उन्होंने मंडी में हवाई अड्डे की आधारशिला रखने के लिए इसकी औपचारिकताओं को शीघ्र पूरा करने का आग्रह किया।मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडी में हवाई अड्डे के बनने से राज्य में पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा। इसके अलावा सैलानियों को मनाली और आस-पास के क्षेत्रों के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों तक आसानी से पहुंचने की सुविधा मिलेगी। प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए राज्य सरकार विशेष कार्य बल के सृजन के लिए मुख्य सचिव और अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन को नामांकित करेगी। इनकी कमेटी इसके लिए भूमि केंद्रीय विभाग के नाम सौंपने से लेकर अन्य सभी औपचारिकताएं पूरी करेगी। राज्य सरकार के दोनों आला अधिकारी मंत्रालय की आेर से इस काम के लिए तय किए अधिकारियों के साथ रोजाना अपडेट देंगे। इस काम में जो भी आपत्तियां होगी, उसे दूर कर शीघ्र ही सरकार की आेर से औपचारिकताएं पूरी की जानी है। मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह आैर मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी इस दौरान बैठक में उपस्थित रहे।
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने गगल हवाई अड्डे के विस्तार के मामले पर भी केंद्रीय मंत्री से विस्तार से चर्चा की। इसमें मंत्री को अवगत करवाया कि उड़ान-दो परियोजना में तेजी लाने के लिए केंद्र के सहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने इसके लिए राज्य के अन्य हवाई अड्डों का उपयोग करने की अनुमति के लिए भी आग्रह किया। सुरेश प्रभु ने मुख्यमंत्री को मंत्रालय के सक्रिय समर्थन का आश्वासन दिया कि तुरंत ही केंद्रीय दल गग्गल हवाई अड्डे के स्थल का दौरा करेगा। उन्होंने अधिकारियों को शीघ्र टॉस्क फोर्स के निर्माण आैर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए ताकि औपचारिकताओं को दो माह के भीतर पूरा किया जा सके। उन्होंने मुख्यमंत्री द्वारा उठाए गए अन्य मुद्दों के भी शीघ्र समाधान के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।


सीएम आैर केंद्रीय मंत्री हर सप्ताह करेंगे समीक्षा
मंडी के एयरपोर्ट का काम जल्द से पूरा हो सके। इसके लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर खुद हर सप्ताह इसकी रिपोर्ट अधिकारियों से लेंगे। इसी तरह केंद्रीय मंत्री भी अपने विभाग के अधिकारियों से हर सप्ताह रिपोर्ट लेंगे। इस काम जल्द ही पूरा करने के लिए डे टू डू रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश भी दिए हैं।