कांगड़ा यात्रा से लौटी ईष्ट को सामने देख भावुक हुए कलैणे

Shimla News - ठियोग उपमंडल की टियाली पंचायत की ग्राम देवी जयेश्वरी माता के अपने स्थान दलैयां पहुंचने पर हजारों लोगों ने देवी व...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:30 AM IST
Thiyog News - kalaye who was passionate looking forward to the fest turned back from kangra
ठियोग उपमंडल की टियाली पंचायत की ग्राम देवी जयेश्वरी माता के अपने स्थान दलैयां पहुंचने पर हजारों लोगों ने देवी व उनके साथ गए कारदारों व कलैणों का स्वागत किया। तीन सप्ताह से बंद पड़े देव वाद्य बज उठे। स्वागत के लिए जमीन पर सफेद कपड़ा बिछाकर उन्हें उनके कक्ष तक पहुंचाया गया। इस दौरान देव परंपरा के अनुसार मंत्रोच्चार के साथ देवी अपने कक्ष तक पहुंचीं जहां देवी शांद यज्ञ तक रहेंगी।

हजारों की संख्या में एकत्र पुरूष व महिलाएं अपनी ईष्ट देवी के वापस लौटने पर काफी भावुक हो उठे। महिलाएं गोमूत्र के छींटों से देवी के रास्ते को शुद्ध कर रही थीं। इस स्वागत कार्यक्रम में क्षेत्र के युवा बड़ी संख्या में शामिल हुए और देवी के प्रति अपनी आस्था व समर्पण जाहिर किया। देवी के कलैणों ने 19 दिन बाद लौटी देवी के चरणों में चढ़ावा चढ़ाकर अपनी आस्था का प्रदर्शन किया। देवी की 23 साल बाद नगरकोट कांगड़ा की इस पैदल यात्रा में उनके साथ गए तीन दर्जन के लगभग कारदार व कलैणे भी सकुशल वापिस पहुंचे जिनका भी लोगों ने मालाएं पहनाकर स्वागत किया। इस यात्रा में देवी की प्रतिमा पुजारी रामसरन की गोद में रहती है जबकि देवता के गुर रामकृष्ण, वजीर लायकराम सहित प्रमुख कारदार व हर गांव से एक कलैणा इस यात्रा में शामिल रहता है।

जईश्वरी माता के यात्रा से लौटने के बाद उनका स्वागत करते लोग।

28 से शुरू होगा शांद यज्ञ इस यात्रा के बाद देवी जयेश्वरी माता मंदिर में ही बने कक्ष में रहेंगी जिसे नेरी झाकड़ी कहा जाता है। 28 से 30 जून तक देवठी में शांद यज्ञ का आयोजन होगा जिसमें 6 से 7 हजार लोग देवी की विशेष पूजा व मंदिर की प्रतिष्ठा में शामिल होंगे। तीन दिवसीय इस देव आयोजन के बाद ही देवी अपनी देवठी में विराजमान होंगी। इस शांद यज्ञ में देवी जईश्वरी माता धरेच, देवता गरियांज और देवता बखोग के भी शामिल होने की संभावना है।

पहली रात चियोग में रूकी देवी नगरकोट की यात्रा की वापसी के दौरान मंगलवार रात्रि देवी जयेश्वरी चियोग में स्थित देव स्थान पर रुकीं। स्थानीय लोगों ने कारदारों व कलैणों का स्वागत किया और उन्हें रात्रि भोज परोसा। देवी के निर्धारित कक्ष में विराजमान होने के बाद लोगों के लिए भंडारे का इंतजाम मंदिर प्रशासन की ओर से किया गया।

X
Thiyog News - kalaye who was passionate looking forward to the fest turned back from kangra
COMMENT