• Hindi News
  • Himachal Pradesh News
  • Shimla News
  • पेयजल लाइन पंक्चर कर रसूखदारों ने जोड़ रखे हंै अपने कनेक्शन, नहीं पहुंचता कई गांवों में पानी
--Advertisement--

पेयजल लाइन पंक्चर कर रसूखदारों ने जोड़ रखे हंै अपने कनेक्शन, नहीं पहुंचता कई गांवों में पानी

गर्मियां बढ़ते ही आईपीएच के आनी मंडल के अंतर्गत पेयजल समस्या गंभीर हो रही हैं। पेयजल किल्लत के लिए ग्रामीणों सीधे...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 02:05 AM IST
पेयजल लाइन पंक्चर कर रसूखदारों ने जोड़ रखे हंै अपने कनेक्शन, नहीं पहुंचता कई गांवों में पानी
गर्मियां बढ़ते ही आईपीएच के आनी मंडल के अंतर्गत पेयजल समस्या गंभीर हो रही हैं। पेयजल किल्लत के लिए ग्रामीणों सीधे तौर पर आईपीएच विभाग को जिम्मेवार ठहराया है। आईपीएच के दलाश सब डिवीजन के तहत आनी सदर पंचायत थाबोली, शाई, बर्गेइधार, अर्था, मातल आदि गांवों में बीते कई सालों से पेयजल किल्लत की समस्या ने डेरा डाल रखा है। इन गांवों में बीते एक माह से पानी नहीं है। थबोली गांव निवासी और भाजपा के आनी शक्ति केंद्र के महामंत्री के चमन शर्मा, शाई गांव के बालक राम, अर्था के गुलाब ठाकुर, बर्गेइधार के लोभ राम का कहना है कि उनके गांवों की बरसों से चली आ रही पेयजल किल्लत को दूर करने के लिए करोड़ों रुपयों की लागत की विभिन्न पेयजल योजनाओं का काम कछुआ गति से चल रहा है। किसी भी जिम्मेवार नेता या जन प्रतिनिधि ने उनकी समस्या को देखते हुए इन योजनाओं के निर्माण में तेजी लाने के प्रयास नहीं िकए। ग्रामीणों को पेयजल के लिए कई कई किमी दूर से प्रकृति स्रोतों से पानी लाना पड़ रहा है। लोगों का कहना है कि करीब एक सप्ताह पहले विभाग के कर्मचारियों के साथ मिलकर बारवी से शाई गांव के लिए पुरानी लाइन को विकल्प के तौर पर जोड़ने से गांव में पेयजल आपूर्ति हो पाई।

नहीं शुरू हो रहा क्यारटू सरोग पेयजल योजना का दूसरा चरण

पूर्व विधायक का योजना को जल्द चालू करने का आग्रह

ठियोग | ठियोग उपमंडल की सरोग पंचायत के ग्रामीण बड़ी बेसब्री से क्यारटू से बनी उठाऊ पेयजल योजना के दूसरे चरण के चालू होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इस योजना का पहला चरण डोबा गांव तक कई माह पूर्व पूरा हो चुका है और यहां आसपास के ग्रामीणों को पानी भी मिल रहा है लेकिन दूसरे चरण के पंप हाऊस न चलने के कारण पानी सरोग नहीं पहुंच रहा है। सरोग पंचायत के लिए दूसरी योजना छोगा खड्ड में पानी की कमी के कारण इस पंचायत व बड़ोग पंचायत के कई गांवों में पानी का गंभीर संकट है।

मीटर लगना है बाकी: आईपीएच विभाग के अधिकारियों के अनुसार डोबा में इस योजना के दूसरे चरण में पंप पहुंच चुके हैं और अब वहां पर बिजली का मीटर लगना बाकी है। जिसके लिए बिजली विभाग को कहा गया है। मीटर लगते ही पानी की पंपिंग सरोग के लिए शुरू कर दी जाएगी। दूसरा चरण शुरू होने से सरोग व आसपास के गावों में पानी की पर्याप्त सप्लाई हो सकेगी।

जल्द शुरू हो योजना: उधर ठियोग के पूर्व विधायक राकेश वर्मा ने आईपीएच व बिजली विभाग के अधिकारियों से आग्रह किया है कि डोबा से सरोग इस पेयजल योजना को जल्द शुरू किया जाए ताकि दलित बस्ती सरोग व आसपास के ग्रामीणों को गर्मियों में पीने का पानी मिल सके।

जल्द लगाएंगे मीटर: उधर बिजली विभाग के एसडीओ जीवनलाल शर्मा ने बताया कि आईपीएच विभाग से बिजली मीटर लगाने की औपचारिकताएं मांगी गई हैं एक दो दिन में योजना के दूसरे चरण में मीटर लगा दिया जाएगा।

बागीचों के लिए भी ले रखे हैं अवैध कनेक्शन

थबोली व शाई आदि गांवों के लोगों का आरोप है कि पूर्व में विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत के चलते कंडागई से कष्टा, बारवी, लढ़ोग, थबोली, शाई आदि गांवों को आने वाली में लाइन में पानी कष्टा तक आता है, लेकिन उसके आगे पानी नहीं आता। क्योंकि इस मेन लाइन को अनगिनितों जगह से अवैध रूप से पंक्चर कर रसूखदारों को कनेक्शन दिए गए हैं। यही हाल शाई गांव का है जहां गांव तक पहुंचने वाली लाइन से अवैध कनेक्शन जोड़े गए हैं। लोगों का कहना है कि जिसके खेत या जमीन होकर लाइन जा रही है उसने अपने बगीचे में सिंचाई के लिए अवैध कनेक्शन लिए हैं। जबकि जिसकी जमीन में टैंक बनाया गया है, वह टैंक से पानी वितरित होने नहीं दे रहा। लोगों का कहना है कि समस्या को लेकर कई बार आईपीएच दफ्तर का घेराव किया गया, कई बार लिखित शिकायतें दी, व्यक्तिगत तौर पर लोग मिल चुके हैं। हालांकि विभाग मानता है कि अवैध कनेक्शन लिए गए हैं, लेकिन आजतक कार्रवाई के नाम पर किया कुछ नहीं गया।


ननखड़ी के टुटू गांव में दो माह से पेयजल किल्लत, ग्रामीण परेशान

आईपीएच विभाग से शिकायत करने पर भी नहीं हुआ समाधान

रामपुर बुशहर |गर्मिया शुरू होते ही विभिन्न क्षेत्रों में पेयजल किल्लत शुरू हो गई है। ऐसे में अब ग्रामीणों को बावड़ियाें का सहारा लेना पड़ रहा है। ननखड़ी खंड के टुटू गांव के ग्रामीणों को पिछले 2 माह से पेयजल किल्लत से जूझना पड़ रहा है। इस बारे में ग्रामीणों ने कई बार विभाग से शिकायत की, लेकिन समस्या आज भी जस की तस बनी हुई है। ऐसे में टुटू गांव के सैंकड़ों ग्रामीणों को बावड़ी और प्राकृतिक स्त्रोतों का सहारा लेना पड़ रहा है। इसके चलते ग्रामीणों में आईपीएच विभाग के प्रति खासा रोष है।

टुटू ग्राम सुधार कमेटी अध्यक्ष कैलाश शर्मा, युवक मंडल टुटू के प्रधान नरेंद्र शर्मा, भूमनेश शर्मा, परस राम शर्मा, महिला मंडल प्रधान कमला देवी, गुड्डी देवी कश्यप, चेतना शर्मा, धर्मपाल, परस राम कश्यप, हेमंत कुमार, मान दास, ताराचंद, महेश, अवतार सिंह राणा, हुकम चंद, सतीश शर्मा ने बताया कि टुटू में दो माह से पेयजल किल्लत की समस्या से जुझ रहे है। हालांकि आईपीएच विभाग एक सप्ताह के बाद ग्रामीणों को कम पानी दिया जा रहा है। ऐसे में ग्रामीणों को मजबूरन गांव से दूर बावड़ी जाकर पानी लाना पड़ रहा है। िवभाग का कहना है कि गर्मी अधिक होने सेे अधिकांश प्राकृतिक स्रोतों में पानी की मात्र कम हो गई है। जिससे कई गांवों को पानी दो तीन दिन बाद दिया जा रहा है।


X
पेयजल लाइन पंक्चर कर रसूखदारों ने जोड़ रखे हंै अपने कनेक्शन, नहीं पहुंचता कई गांवों में पानी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..