--Advertisement--

पांवटा में 200 से ज्यादा हैडपंप खराब

श्यामलाल पुंडीर | पांवटा साहिब पांवटा आईपीएच डिविजन में अभी भी करीब 200 से ज्यादा हैडपंप विभिन्न सब डिविजनों में...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:05 AM IST
श्यामलाल पुंडीर | पांवटा साहिब

पांवटा आईपीएच डिविजन में अभी भी करीब 200 से ज्यादा हैडपंप विभिन्न सब डिविजनों में बंद पड़े हैं। गर्मियों का मौसम शुरु हो चुका है। लेकिन विभाग खराब हैडपंपों को ठीक नहीं किया जा रहा ह। पांवटा डिवीजन के तहत चार विधानसभा क्षेत्र नाहन, पांवटा, रेणुका व शिलाई आते हंै। पांवटा साहिब इनका केंद्र होने से यह सबसे बड़ी डिवीजन है। इसके कारण आईपीएच विभाग के अधिकारी इसे संभालने में नाकाम हो रहे हंै। स्थिति ऐसी हो गई है कि कई गांव व बस्तीयों की जनता बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रही है। इस डिवीजन में 4 से ज्यादा उठाऊ पेयजल की योजनाएं खराब पड़ी हैं। 3 से अधिक सिंचाई योजनाएं खराब हैं। कई स्थानों पर मोटरें खराब हो गई हैं। जबकि 200 से ज्यादा हैडपंप भी खराब हैं। जो लंबे समय से ठीक नहीं हो रहे है। स्थिति यह है कि पांवटा डिवीजन में हैंडपंप तो लगा दिए जाते हैं। मगर इसे ठीक करने के लिए विभाग आगे नहीं आता। इस डिवीजन के तहत दूरदराज का क्षेत्र शिलाई भी है। इस डिवीजन में चार सब डिवीजन है। इसमें माजरा, पांवटा, शिलाई व कफ ोटा हैं। इनमें एसडीओ भी तैनात हैं। मगर पेयजल की योजनाएं व हैडपंप संभाल नहीं पा रहे हंै।

लोग अब विभाग के खिलाफ सडक़ पर उतरने की तैयारी कर रहे हंै। पांवटा साहिब आईपीएच डिवीजन के तहत आने वाली चार सब डिवीजनों में सबसे ज्यादा हैंडपंप पांवटा सब डिवीजन में खराब पड़े हैं। इसमें करीब 70 से ज्यादा हैंडपंप खराब हैं। इसके अलावा तीन सब डिवीजनो में कई हैंडपंप खराब है। गिरिपार के मानपुर देवड़ा व पांवटा के भांटावाली पंचायत में ही करीब 9 से ज्यादा हैंडपंप खराब हैं। जिससे लोगों को भारी परेशानी हो रही है। पांवटा विधानसभा क्षेत्र की 30 पंचायतों में कई हैंडपंप खराब पड़े हैं। जिस कारण लोगो को भारी परेशानी हो रही है। इस बारे में आईपीएच के एक्सईएन अष्श्वनी कुमार धीमान ने बताया कि जो सिंचाई व पेयजल की योजनाएं खराब हंै। उनको ठीक किया जा रहा है।