--Advertisement--

दूध के फैट की मात्रा कम आंकने की शिकायत पर कोर्ट को लिखा पत्र

बिलासपुर के कामधेनु हितकारी मंच नमहोल पर दूध के फैट की मात्रा कम आंक कर किसानों से धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हुए...

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 02:05 AM IST
बिलासपुर के कामधेनु हितकारी मंच नमहोल पर दूध के फैट की मात्रा कम आंक कर किसानों से धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हुए एक किसान ने हाईकोर्ट को पत्र लिखा है। किसान के मुताबिक फैट की मात्रा कम आंकने से किसानों को दूध का उचित मूल्य नहीं मिल पाता है। पत्र पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने मामले में सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। हाईकोर्ट ने मुख्य सचिव, प्रधान सचिव गृह , एडीजीपी विजिलेंस के अलावा मैसेज कामधेनु हितकारी मंच नमहोल व हिमाचल प्रदेश को-ऑपरेटिव मिल्क फैडरेशन टुटू को मामले में नोटिस जारी कर 8 मई तक जवाब तलब किया है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश संजय करोल व न्यायाधीश अजय मोहन गोयल की खंडपीठ ने हाईकोर्ट के नाम लिखे पत्र पर संज्ञान लेने के बाद यह आदेश पारित किए। कोर्ट के नाम लिखे गए पत्र में प्रार्थी ने यह आरोप लगाया है कि कामधेनु हितकारी मंच नमहोल हर रोज अपनी जीप द्वारा किसानों से दूध एकत्रित कर रहा है। अपने उपकरणों के साथ छेड़छाड़ करते हुए किसानों को दूध का कम दाम दे रहा है। प्रार्थी के अनुसार उसके दूध में फैट की मात्रा 4.6 % आंकी गई और उसे 33.34 रुपए के हिसाब से प्रति लीटर पैसा दिया गया। जब उसी दूध की मिल्क फैडरेशन से जांच करवाई तो फैट की मात्रा 7.1 % निकली। इस तरह उसे दूध का मूल्य उचित मूल्य 54.56 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से दिया जाना चाहिए था। प्रार्थी के अनुसार कामधेनु हितकारी मंच लेक्टोमीटर द्वारा दूध की फैट कम दर्शाते हुए दूध बेचने वालों को कम पैसे दे रहा है। ये मंच वाले सरेआम धोखाधड़ी कर रहा है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..