• Home
  • Himachal Pradesh News
  • Shimla News
  • गेस्ट हाउस का अवैध निर्माण तोड़ने गई टीम पर फायरिंग, महिला अफसर की मौत
--Advertisement--

गेस्ट हाउस का अवैध निर्माण तोड़ने गई टीम पर फायरिंग, महिला अफसर की मौत

होटलों के अवैध निर्माण तोड़ने कसौली गई प्रशासन की टीम पर एक गेस्ट हाउस के मालिक के बेटे ने फायरिंग कर दी। घटना में...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:05 AM IST
होटलों के अवैध निर्माण तोड़ने कसौली गई प्रशासन की टीम पर एक गेस्ट हाउस के मालिक के बेटे ने फायरिंग कर दी। घटना में टीसीपी की एसिस्टेंट टाउन प्लानर शैलबाला की मौत हो गई जबकि पीडब्ल्यूडी का एक कर्मी जख्मी है। घटना के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। गेस्ट हाउस की मालकिन का बेटा बिजली बोर्ड के कुमार हाउस शिमला में कार्यरत बताया जा रहा है। खबर लिखे जाने तक पुलिस उनकी तलाश कर रही थी।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मंगलवार सुबह 11 बजे एटीपी कसौली शैलबाला के नेतृत्व मे एक टीम नारायणी गेस्ट हाउस पहुंची तो उसकी मालकिन नारायणी देवी और बेटे विजय ने अवैध निर्माण गिराने का विरोध किया। काफी देर गहमागहमी हुई। एसडीएम व डीएसपी परवाणू ने कार्रवाई मे खलल डाल रहे गेस्ट हाउस मालकिन के बेटे विजय को हिरासत में लेने को कहा तो पुलिस ने उसे घेर लिया। इस पर विजय ने अफसरों से कुछ समय मांगा। टीम कुछ समय देकर बाद में आने की बात कहकर वहां से वापस लौट गई।

रिसेप्शन पर पहुंचते ही मार दी गोली


दोपहर बाद करीब 2.30 बजे एटीपी शैलबाला की टीम दोबारा वापस नारायणी गेस्ट हाउस पहुंची। टीम के सदस्य जैसे ही गेस्ट हाउस के अंदर पहुंचे, रिसेप्शन के पास खड़े विजय ने पिस्टल निकाल कर दो फायर किए। इससे अवैध निर्माण तोड़ रहे पीडब्ल्यूडी कर्मी गुलाब सिंह घायल हो गए। वहां भगदड़ मच गई। शैलबाला भी भागी। जब वे पीछे मुड़ी तो एक गोली उनके भी लग गई। उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। गोली कांड के बाद नारायणी गेस्ट हाउस का अवैध निर्माण तोड़ने का का भी बंद कर दिया गया।

मैं मर जाऊंगा, बच्चों को देख लेना: आरोपी

जब प्रशासन ने नारायणी देवी को गेस्ट हाउस खाली करने का कुछ समय दिया तो आरोपी विजय अपनी मां से कह रहा था, ‘मैं मर जाऊंगा, आप मेरे बच्चों को देख लेना और उनका पालन-पोषण करना।’ एसडीएम सोलन ने उसे समझाने की कोशिश भी की मगर मां-बेटा अपनी जिद पर कायम थे। नारायणी देवी का कहना था कि- हमने कोई अवैध निर्माण नहीं किया है। उसने गेस्ट हाउस के दस्तावेज भी टीम को दिखाए और दावा किया वह सही है। इस बीच प्रशासनिक टीम दूसरी जगह कार्रवाई का निरीक्षण करने के लिए चली गई।

घटना से तीन घंटे पहले एटीपी शैलबाला समझाती रहीं कि वे सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर फॉलो कर रहीं है। जब वे दोबारा पहुंची तो विजय ने उन्हें गोली मार दी।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था 15 दिन का समय

सुप्रीम कोर्ट ने 17 अप्रैल को होटल मालिकों को 15 दिन के भीतर अवैध निर्माण स्वयं हटाने का समय दिया था। यह अवधि सामप्त होने के बाद आज प्रशासन की चार टीमें धर्मपुर-कसौली क्षेत्र में होटलों व गेस्ट हाउस के अवैध निर्माण हटाने के काम का निरीक्षण करने और तोड़ने के लिए निकली थी।

सूचना देने वाले को एक लाख रुपए इनाम देगी पुलिस

शिमला | कसौली में सहायक टाउन प्लानर की गोली मारकर हत्या के बाद फरार हुए आरोपी विजय सिंह की सूचना देने वाले को सोलन पुलिस ने एक लाख रुपए इनाम देने की घोषणा की है। एडीजीपी लॉ एवं ऑर्डर अनुराग गर्ग ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने अपील की है कि आरोपी के बारे में जानकारी दें, ताकि पुलिस उसे गिरफ्तार कर सके। सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।

13 अवैध होटलों व गेस्ट हाउस पर होनी है कार्रवाई

कसौली-धर्मपुर क्षेत्र के 13 होटलों में अवैध निर्माण हटाए जाने हैं। इनमें होटल शिवालिक, नारायणी गेस्ट हाउस, दीपशिखा, एएए, होटल वर्ड व्यू, सनराइज कॉटेज, सेवन पाइनस, व्हिसपरिंग विंड्स होटल, नीलगिरी होटल, ईशर स्वीट्स, होटल पाइन व्यू, होटल इन व एक अन्य है।