--Advertisement--

वर्ल्ड लाइफ सेंक्चुरी से गुजरेगी दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची सड़क

हिमाचल में प्रस्तावित दुनिया की दूसरी सबसे अधिक ऊंचाई वाली सड़क (अतारगो भावा-मुद-पिन वैली रोड) को बनाने का रास्ता...

Dainik Bhaskar

May 07, 2018, 02:05 AM IST
हिमाचल में प्रस्तावित दुनिया की दूसरी सबसे अधिक ऊंचाई वाली सड़क (अतारगो भावा-मुद-पिन वैली रोड) को बनाने का रास्ता लगभग साफ हो गया है। वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी के बीच से होकर बनने वाली इस सड़क के लिए नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने अपनी मंजूरी दे दी है। अब फॉरेस्ट कंजर्वेशन एक्ट (एफसीए) की मंजूरी बाकी है।

सरकार ने उसका केस बनाकर भेज दिया है। पिछले 7 साल से ये प्रोजेक्ट कागजों में ही चल रहा है। उम्मीद जताई जा रही है कि अगले 2-3 महीनों में इस के लिए फाइनल मंजूरी मिल जाएगी। फरवरी-2017 में नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने इस पर कई आपत्तियां लगाई थी। राज्य सरकार ने दोबारा केस बनाकर केंद्र को भेजा था जिसके बाद ये मंजूरी मिली है। दुनिया की सबसे ऊंची सड़क लेह में है। इसकी समुद्र तल से ऊंचाई 5,387 मीटर है। हिमाचल के भावा टॉप की ऊंचाई 4,865 मीटर है।

शिमला से काजा की दूरी 432 किलोमीटर है। सड़क बन जाने के बाद ये दूरी सौ किमी घटकर 332 किमी रह जाएगी। यह सड़क अतारगो से मुद-भावा-पिन वैली होते हुए वांगतू तक बनाई जाएगी। स्थानीय लोगों अलावा इंडो-चाइना बॉर्डर पर तैनात आईटीबीपी के जवानों को भी फायदा मिलेगा।
अभी ये समस्या थी

अतारगो से मुद वैली तक 33.500 किमी सड़क बना गई है। 28.430 किमी क्षेत्र पिन वैली वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी का है। 37.400 किमी क्षेत्र में वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी और 6.710 किमी में फॉरेस्ट एरिया है। इसके लिए स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड और नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड की मंजूरी जरूरी है। सेंक्चुरी के बीच से सरकार खुद अपनी मर्जी से सड़क नहीं बना सकती। पिछले साल स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने इसकी मंजूरी दी थी।

अनिल ठाकुर | शिमला

हिमाचल में प्रस्तावित दुनिया की दूसरी सबसे अधिक ऊंचाई वाली सड़क (अतारगो भावा-मुद-पिन वैली रोड) को बनाने का रास्ता लगभग साफ हो गया है। वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी के बीच से होकर बनने वाली इस सड़क के लिए नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने अपनी मंजूरी दे दी है। अब फॉरेस्ट कंजर्वेशन एक्ट (एफसीए) की मंजूरी बाकी है।

सरकार ने उसका केस बनाकर भेज दिया है। पिछले 7 साल से ये प्रोजेक्ट कागजों में ही चल रहा है। उम्मीद जताई जा रही है कि अगले 2-3 महीनों में इस के लिए फाइनल मंजूरी मिल जाएगी। फरवरी-2017 में नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने इस पर कई आपत्तियां लगाई थी। राज्य सरकार ने दोबारा केस बनाकर केंद्र को भेजा था जिसके बाद ये मंजूरी मिली है। दुनिया की सबसे ऊंची सड़क लेह में है। इसकी समुद्र तल से ऊंचाई 5,387 मीटर है। हिमाचल के भावा टॉप की ऊंचाई 4,865 मीटर है।

शिमला से काजा की दूरी 432 किलोमीटर है। सड़क बन जाने के बाद ये दूरी सौ किमी घटकर 332 किमी रह जाएगी। यह सड़क अतारगो से मुद-भावा-पिन वैली होते हुए वांगतू तक बनाई जाएगी। स्थानीय लोगों अलावा इंडो-चाइना बॉर्डर पर तैनात आईटीबीपी के जवानों को भी फायदा मिलेगा।
X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..