शिमला

  • Hindi News
  • Himachal Pradesh News
  • Shimla News
  • राजनीति ही नहीं प्रदेश को बांटने का प्रयास कर रहे महेंद्र सिंह: कुलदीप
--Advertisement--

राजनीति ही नहीं प्रदेश को बांटने का प्रयास कर रहे महेंद्र सिंह: कुलदीप

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 02:05 AM IST

शिमला| पूर्व कांग्रेस सरकार के समय में हिमाचल को मिले 1134 करोड़ के बागवानी प्रोजेक्ट पर विवाद शुरू हो गया है। बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने इस प्रोजेक्ट की डीपीआर पर सवाल उठाते हुए इसे रिव्यू करने के आदेश दिए थे। कांग्रेस ने इसका विरोध शुरू कर दिया है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी सदस्य व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रवक्ता कुलदीप राठौड़ ने कहा कि भाजपा सरकार इस पर राजनीति कर रही है। शिमला में प्रेस वार्ता के दौरान उन्होंने बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि प्रोजेक्ट के नाम पर हिमाचल को सेब और गैर सेब उत्पादन वाले क्षेत्रों में बांटने का प्रयास कर रहे हैं। इस प्रोजेक्ट की सारी डीपीआर अप्रूव हो चूकी है। इस पर काम भी शुरू हो चूका है। अब इस से छेड़छाड़ की तो प्रोजेक्ट कैंसिल हो जाएगा। उन्होंने सरकार को चेताते हुए कहा कि यदि प्रोजेक्ट कैंसिल होता है तो कांग्रेस बागवानों के हकों को लेकर सड़कों पर उतर कर सरकार के खिलाफ आंदोलन करेगी। यदि जरूरत पड़ी तो कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया जाएगा।

महज 4 महीनों के कार्यकाल में ही गिर गई सरकार की साख

कांग्रेस नेता कुलदीप राठौड़ ने कहा कि प्रदेश में भाजपा की सरकार बने अभी महज 4 महीने हुए हैं। सरकार की साख इन चार महीनों में ही गिर गई है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासन की लापरवाही से कसौली में गोलीकांड जैसी घटना पेश आई। चोरी, हत्या और बलात्कार की घटनाएं आए दिन पेश आ रही है। प्रदेश में बढ़ रहे अपराधों को देखकर ऐसा लगता है आपराधिक मानसिकता के लोगों पर कानून का कोई डर नहीं रह गया है। उनको लगता है कि शासन कमजोर है।

अवैध निर्माण जिन अफसरों के सामने हुआ उन पर करें कार्रवाई

कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य में अवैध निर्माण के लिए अधिकारी पूरी तरह जिम्मेदार है। जिस वक्त अवैध निर्माण हुआ वह कहां पर थे। उन्होंने कहा कि जिन अधिकारियों के सामने अवैध निर्माण हुआ है उन पर सरकार कार्रवाई करे। कोर्ट भी इस पर संज्ञान ले। उन्होंने कहा कि कानून में उन अपराधियों के लिए सजा है, जो अपराध को संरक्षण देते हैं। इस मामले में उन अधिकारियों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए जोकि इस घटना के पीछे हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को देखना चाहिए कानून व्यवस्था सख्ती से लागू की जाए।

X
Click to listen..