Home | Himachal | Shimla | तीन जिलों से जुड़ा है जाहू, हवाई अड्डा यहीं बने ः इंद्र

तीन जिलों से जुड़ा है जाहू, हवाई अड्डा यहीं बने ः इंद्र

सरकाघाट के विधायक इंद्र सिंह ठाकुर ने मंडी में प्रस्तवाित नए हवाई अड्डे के खिलाफ अपनी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल...

Bhaskar News Network| Last Modified - May 17, 2018, 02:05 AM IST

तीन जिलों से जुड़ा है जाहू, हवाई अड्डा यहीं बने ः इंद्र
तीन जिलों से जुड़ा है जाहू, हवाई अड्डा यहीं बने ः इंद्र
सरकाघाट के विधायक इंद्र सिंह ठाकुर ने मंडी में प्रस्तवाित नए हवाई अड्डे के खिलाफ अपनी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने कहा कि अगर हवाई अड्डे के लिए कोई जगह सही है तो वह जाहू है। हवाई अड्डे को लेकर की जा रही झूठ की सियासत पर जल्द ही विराम लगने वाला है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री परिपक्व एवं समझदार हैं वह समय आने पर सही निर्णय लेंगे। जन प्रतिनिधि के नाते उन्होंने जाहू में हवाई अड्डे के सर्वेक्षण किए जाने का आग्रह किया था। जिसे कुछ लोगों ने राजनीतिक रंग दे डाला। विधायक ने कहा कि आरोप लगाने वाले क्या यह नहीं जानते कि हम सब इसी जिला और प्रदेश के रहने वाले हैं। सरकाघाट विस क्षेत्र को भी विकास के लिए मांगने का अधिकार है। इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। पार्टी के कुछ चाटुकार उनके खिलाफ सोशल मीडिया में कई दिनों से भ्रामक प्रचार करके तथ्यों को छुपाने में लगे हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल से बार-बार उनका नाम जोड़े जाने के पीछे आखिर क्या मंशा है। प्रो. धूमल प्रदेश के कद्दावर नेता हैं और उनके नाम पर पार्टी सत्ता में आई है।

वर्तमान मुख्यमंत्री के पास नेतृत्व की क्षमता है और उनकी अगुआई में प्रदेश का चहुंमुखी विकास हो रहा है। लेकिन कुछ लोग सुर्खियां बटोरने के लिए सनसनी फैला रहे हैं जबकि वह आज भी इस बात पर अडिग हैं कि जाहू में हवाई अड्डा बनने से मंडी, हमीरपुर और बिलासपुर आदि जिलों को फायदा होगा। यह क्षेत्र उपयुक्त होने के बावजूद तीनों जिलों से जुड़ा हुआ है।

विधायक बोले, जाहू में हवाई अड्डा बनने से मंडी, हमीरपुर और बिलासपुर आदि जिलों को फायदा होगा

पर्यटन की दृष्टि से जाहू क्षेत्र विकसित नहीं

प्रदेश के गठन के बाद यह क्षेत्र विकास की दृष्टि से अभी तक विकसित नहीं हो पाया। आज जहां बिलासपुर में एम्स बनने जा रहा है तो मंडी में आईआईटी व नेरचौक में ईएसआई सी अस्पताल खुला हमीरपुर में मेडिकल कॉलेज, कांगड़ा में केंद्रीय विश्वविद्यालय व स्मार्ट सिटी की स्थापना शिमला में राजधानी इसी तरह सिरमौर में आईआईएम की स्थापना से पता चलता है की प्रदेश में हर जगह कुछ न कुछ मिला लेकिन इस 5 विधानसभा क्षेत्र के लाखों लोगों की आबादी वाले क्षेत्र के लिए न तो कुछ मिल पाया न बन पाया। विधायक कर्नल इंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से आग्रह किया कि राष्ट्रीय विमानपत्तन प्राधिकरण की टीम का हवाई अड्डे के लिए सर्वेक्षण अवश्य कराया जाना चाहिए।

जिला प्रशासन ने मंडी में देखी हैं ये तीन साइटें

मंडी में जिला प्रशासन की ओर से तीन साइटों को का चयन एयरपोर्ट के लिए किया गया है। जिसमें मुख्य साइट बल्ह विस क्षेत्र में नेर ढांगू रखी गई है। जहां पर लगभग 5 किमी एरिया एयरपोर्ट के रनवे के लिए चिन्हित किया गया है। चिन्हित एरिया पूरी तरह से समतल है और यहां पर प्लेन की लैंडिंग व टेकऑफ में कोई दिक्कत भी नहीं आनी है। इसके अलावा दूसरी साइट नाचन विस क्षेत्र के मौवीसेरी में चिन्हित है। लेकिन वहां पर फॉरेस्ट एरिया ज्यादा है। इसके अलावा तीसरी साइट द्रंग के घोघरधार में चिन्हित है लेकिन प्रशासन की नजर में इस साइट पर हवा का बेग ज्यादा है व पहाड़ी पर स्थिति होने के चलते 5 किमी का एरिया पहाड़ों को काट कर बनाना पड़ेगा।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |