--Advertisement--

द ग्रेट खली को ब्रांड एंबेसडर बनाने पर अभी उलझन

हिमाचल सरकार भले ही द ग्रेट खली को ब्रांड एंबेसडर बनाने का दावा करे, लेकिन सरकारी तौर पर इसका फैसला होने में लंबा...

Danik Bhaskar | Jul 03, 2018, 02:05 AM IST
हिमाचल सरकार भले ही द ग्रेट खली को ब्रांड एंबेसडर बनाने का दावा करे, लेकिन सरकारी तौर पर इसका फैसला होने में लंबा समय लग सकता है। द ग्रेट खली को ब्रांड एंबेसडर बनाने का प्रस्ताव पिछली कैबिनेट में लाया गया था। इस पर लंबी चर्चा के बाद इसे डैफर कर दिया, यानि सरकार ने अभी फैसला नहीं लिया। इस मसले पर कैबिनेट अपनी अगली बैठक में चर्चा के बाद कोई नतीजा ले सकती है। सूत्र बताते हैं कि बैठक में इसके साथ ही खली की कुश्ती के लिए फंडिंग खेल परिषद से ले जाने का प्रस्ताव लाया गया । इस पर भी कैबिनेट में सहमति नहीं बन सकी है। अब इस इवेंट की फंडिंग सरकारी बजट से न करने की बात कहीं जा रही है। प्रदेश सरकार इनसे पहले पूर्व में सिने तारिका कंगणा रणौत को हिमाचल का ब्रांड एंबेसडर बनाने का प्रयास कर चुकी है, लेकिन पूर्व सरकार के समय में यह प्रस्ताव भी सिरे नहीं चढ़ सका था। अब सरकार की आेर से फिर से हिमाचल के एचिवर को ब्रांड एंबेसडर बनाने की तैयारी है। इसमें सैदांतिक तौर पर तो खेल मंत्री मंजूरी दे चुकी है, लेकिन कैबिनेट की सहमति नहीं बन पा रही है।

अब अगली कैबिनेट में हो सकता है फैसला

यह भी हैं पेंच

राज्य में पूर्व में ब्रांड एंबेसडर बनाने का प्रस्ताव पर्यटन विभाग की आेर से लाया जाता रहा है। हिमाचल में जब भी किसी को ब्रांड एंबेसडर बनाने का प्रस्ताव लाया गया। इसकी पूरी कसरत पर्यटन महकमें के माध्यम से होती रही है, लेकिन पहली मर्तबा खेल विभाग की आेर से इस पर काम किया जा रहा है।

बुधवार को पहली कुश्ती के लिए तैयारी

मंडी के पड्डल मैदान में खली की पहली कुश्ती करवाने के लिए सरकारी अमला भी तैयारी में जुटा है। राज्य के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से लेकर खेल मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर भी इस पर अपनी निगरानी रख रहे हैं।