शिमला

--Advertisement--

15 दिन से चली है हड़ताल रूटों पर नहीं जा रहीं बसें

शहर में जहां कूड़ा नहीं उठ रहा है, वहीं अब बसों के लिए भी लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ट्रेनी...

Dainik Bhaskar

May 07, 2018, 02:10 AM IST
शहर में जहां कूड़ा नहीं उठ रहा है, वहीं अब बसों के लिए भी लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ट्रेनी कंडक्टरों की पिछले 15 दिनों से हड़ताल चली हुई है, इसके बावजूद भी एचआरटीसी प्रबंधन न तो कोई वैकल्पिक व्यवस्था कर पा रहा है न ही रूटों पर बसें भेज पा रहा है। कांग्रेस कमेटी कसुम्पटी ने भी निगम की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं। आरोप है कि पिछले दो सप्ताह से उपनगरों के रूटों पर चलने वाली सरकारी बसों की सेवाएं बंद है। कमेटी के प्रधान भूपेंद्र कंवर का कहना है कि जिस तरह की सेवाएं एचआरटीसी की ओर से मिल रही है, उससे आम लोग परेशान हो रहे हैं। स्कूल जाने वाले बच्चों, कर्मचारियों और शिमला की ओर आने वाले लोगों को खासी परेशानी हो रही है। वहीं, एचअारटीसी के आरएम लोकल देवासेन नेगी का कहना है, वे कोशिश कर रहे हैं कि हर रूट पर बस जाएं। रेगुलर कंडक्टरों को ड्यूटी पर भेजा जा रहा है।

ये रूट लगातार हो रहे हैं प्रभावित

रूट का नाम बस जाने का समय

लक्कड़ बाजार से रामनगरी शाम 6 बजे

लक्कड़ बाजार से धार शाम 6 बजकर 5 मिनट

लक्कड़ बाजार से मोहनपुर कोई टाइमिंग नहीं

शिमला से कोट शाम 7 बजे

लक्कड़ बाजार से नीन शाम 6 बजे

लक्कड़ बाजार से गुम्मा जाबल शाम 6 बजे

संजौली से चमयाना, शुराला शाम 4 बजे

शिमला से शुराला वाया कसुम्पटी मल्याणा व चमयाना शाम 6 बजकर 10 मिनट

ऑकलेंड टनल से डुम्मी सुबह 7 बजकर 30 मिनट

ऑकलेंड टनल से काकर बगोरा शाम 6 बजकर 15 मिनट

ऑकलेंड टनल से लोअर भौंट सुबह 7 बजे, शाम 6 बजे

ऑकलेंड टनल से अपर भौंट शाम 7 बजे

ऑकलैंड टनल से डुमी शाम 6 बजे

ऑकलेंड टनल से क्यारकोटी रात्रि ठहराव

ऑकलेंड टनल से केलटी बरमू सुबह 7 बजे व 11 बजे दिन को

शिमला से जुन्गा, साधुपूल दोपहर 2.30 बजे व शाम 5.20 बजे

न्यू बस स्टैंड को भी कम बसें न्यू बस स्टैंड के लिए जाने वाले पर्यटकों व स्थानीय लोगों को पांच मिनट के बजाए 20 से 25 मिनट के बीच बसें मिली। न्यू शिमला, समरहिल और जुन्गा जैसे रूटों पर भी दिन और शाम के समय काफी कम बसें चली हैं। शिमला यूनिट-2 से चलने वाली बसों के सबसे ज्यादा रूट प्रभावित हो रहे हैं। अभी भी ट्रेनी कंडक्टर आमरण अनशन पर डटे हुए हैं। उपनगरों से शहर पहुंचने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। धमून, गड़काहन,नेरी सेरी, जुन्गा, घणाहट्टी, कनलोग, चनोग, न्यू बस स्टैंड आैर अन्य उपनगरों से किसान हर रोज सब्जियां निगम की बसों में शिमला सब्जी मंडी के लिए सब्जियां लाते हैं। कम बसें होने से समय पर वह सब्जियां बाजार नहीं पहुंचा पाए। इसी तरह कर्मचारियों, स्कूली छात्रों को भी समय पर बसें न मिलने के चलते काफी परेशानियां हो रही हैं।

X
Click to listen..