• Hindi News
  • Himachal Pradesh News
  • Shimla News
  • सवा साल से बिना रिकग्निशन के चल रहे 41 स्कूल 30 मई तक आपत्तियां दूर नहीं की तो हो जाएंगे बंद
--Advertisement--

सवा साल से बिना रिकग्निशन के चल रहे 41 स्कूल 30 मई तक आपत्तियां दूर नहीं की तो हो जाएंगे बंद

शिमला जिले के निजी स्कूलों को हर पांच साल के बाद उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा कार्यालय से रिकग्निशन के लिए...

Dainik Bhaskar

May 13, 2018, 02:10 AM IST
शिमला जिले के निजी स्कूलों को हर पांच साल के बाद उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा कार्यालय से रिकग्निशन के लिए औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती है। लेकिन जिले में कई ऐसे स्कूल है जिन्होंने शिक्षा विभाग की ओर से दी गई आपत्तियों को पूरा न करके रिकग्निशन के बगैर स्कूल से चल रहे है। प्रांरभिक शिक्षा विभाग ने इन आपत्तियों को दूर करने के लिए इन स्कूलों के लिए कई बार पत्राचार किया। लेकिन इन स्कूलों की ओर से प्रारंभिक शिक्षा विभाग के लिए अभी तक कोई भी जवाब नहीं आया है। अब शिक्षा विभाग की ओर से इन स्कूलों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिए हैं। इन स्कूलों को 30 मई तक अपनी आपत्तियों को दिखाना होगा। जवाब न देने पर विभाग इन स्कूलों में कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। विभाग की ओर से इन स्कूलों में आपत्तियों को पूरा न करने वाले स्कूलों पर बंद करने की नौबत आ सकती है। विभाग का कहना है कि इसके लिए स्कूल स्वयं जिम्मेवार होंगे।

शिक्षा िवभाग ने कई बार स्कूलों को अापत्तियां दूर करने को कहा, अब बंद होने की नौबत

तो बंद होंगे स्कूल जिला शिमला के निजी स्कूलों की बात करें तो 2017 से 2022 के लिए 41 स्कूलों द्वारा अापत्तियों को अभी तक पूरा नहीं किया गया है। शिमला जिले के 41 स्कूलों की मान्यता 28 फरवरी 2017 को समाप्त हो गई। यह स्कूल अब बिना रिकग्निशन के चल रहे हैं। विभाग का कहना है कि 2018-19 के सेशन के तीन माह व्यतीत हो गए हैं इससे पहले कि स्कूल के विरुद्घ मामले में कड़ी कार्यवाही की जाए इससे पहले आपत्तियों को पूरी करके वर्ष 2017-2022 के लिए मान्यता कोड प्राप्त करें।

कड़ी कार्रवाई होगी प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने इन स्कूलों को निर्देश दिए है कि जिन्होंने अपनी रिकग्निशन नहीं करवाई है वह जल्द से जल्द विभाग के कार्यालय में आकर इन सब आपत्तियों को पूरा करने की सूची दें। आपत्तियों को पूरा नहीं किया गया तो उनकी रिकग्निशन खत्म कर दी जाएगी। विभाग का कहना है कि हर पांच साल बाद निजी स्कूल स्वयं आकर ही अपने रिकग्निशन के इन कार्य को पूरा करके दें। जिससे शिक्षा विभाग को भी कोई भी दिक्कत नहीं आएगी ना ही निजी स्कूलों को परेशानी होगी।

कारण बताओ नोटिस जारी किए जाएंगे उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा राकेश कुमार वशिष्ठ का कहना है कि जिन स्कूलों ने रिकग्निशन के लिए 2017 से 2022 के लिए मान्यता कोड नहीं लिया है ऐसे स्कूलों को कारण बताओ नोटिस दिए गए हैं। इन स्कूलों को 30 मई अपनी आपत्तियों को पूरा करके देना होगा। जो स्कूल अपनी इन आपत्तियों को पूरा करके नहीं देगा उन स्कूलों को बंद करने के आदेश दिए जाएंगे। जिला शिमला के 41 स्कूलों की रिकग्निशन 28 फरवरी 2017 को समाप्त हो गई है। विभाग अब इन स्कूलों पर कड़ी कार्रवाई करेगा। इन स्कूलों से जुर्माना वसूला जाएगा। राकेश कुमार वशिष्ठ, उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा विभाग

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..