शिमला

  • Hindi News
  • Himachal Pradesh News
  • Shimla News
  • माता के जागरण में हंगामा, ग्रामीणों का अारोप, पुलिस कर्मी जूते डालकर पंडाल में पहुंचे फिर जोत के पास
--Advertisement--

माता के जागरण में हंगामा, ग्रामीणों का अारोप, पुलिस कर्मी जूते डालकर पंडाल में पहुंचे फिर जोत के पास

सुन्नी बाजार में बीती शनिवार रात को माता के जागरण में हंगामा हो गया। युवक मंडल सुन्नी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर...

Dainik Bhaskar

May 14, 2018, 02:10 AM IST
सुन्नी बाजार में बीती शनिवार रात को माता के जागरण में हंगामा हो गया। युवक मंडल सुन्नी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि वे जूते पहनकर पंडाल में पहुंचे और हंगामा करने लगे। इसके बाद तीन पुलिस कर्मियों का मेडिकल भी करवाया गया है। जानकारी के मुताबिक सुन्नी बाजार के युवा हर बार माता का जागरण करवाते हैं। इस बार भी जागरण रखा गया था। बीती शनिवार रात करीब 11.30 बजे कुछ पुलिस कर्मी पंडाल में आए और उन्होंने माइक व डीजे की साउंड कम करने को कहा। युवाओं का कहना है कि इसके बाद डीजे की साउंड कम कर दी गई और पुलिस कर्मी भी वहां से चले गए। इसके थोड़ी देर बाद फिर से कुछ पुलिस कर्मी पंडाल में आए और जागरण को बंद करने के लिए कहा। यही नहीं युवक मंडल सुन्नी का आरोप है कि तीन पुलिस कर्मी जूते पहनकर ही पंडाल में रखी हुई माता की जोत के सामने पहुंच गए। जब इन्हें रोकने का प्रयास किया तो ये धक्का मुक्की करने लगे। युवक मंडल सुन्नी का एक प्रतिनिधिमंडल इस मामले में सोमवार को शिमला ग्रामीण के विधायक विक्रमादित्य सिंह से मुलाकात करेंगा। युवक मंडल के प्रधान सुरेश की अध्यक्षता में युवा विधायक को पुलिस कर्मियों की शिकायत करेंगे। उनका कहना है कि इस तरह से धार्मिक कार्य में खलल डालना ठीक नहीं हैं।

हमारा हर वर्ष जागरण होता है, इसमें खलल डाला सुन्नी बाजार युवक मंडल के सदस्य हरीश का कहना है कि हम हर वर्ष माता के जागरण करवाते हैं। जब पुलिस कर्मियों ने साउंड को कम करने के लिए कहा था, हमने साउंड काफी कम कर दी थी। जबकि तीन पुलिस कर्मी पंडाल में जूते लेकर पहुंच गए और धक्का मुक्की करने लगे। हमने उन्हें काफी समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने। हम इसमें जांच की मांग करते हैं।

हमने सिर्फ डीजे की साउंड कम करने को बोला था: एसएचओ पुलिस स्टेशन सुन्नी के एसएसचओ जयदेव का कहना है कि पुलिस कर्मी वहां साउंड को कम करने के लिए गए थे। लोगों को साउंड कम करने को कहा गया। ऐसा कोई विवाद नहीं हुआ है। किसी भी पुलिस कर्मी ने काेई बदसलूकी नहीं की। ये आरोप गलत है कि पुलिस कर्मियों ने हंगामा किया। इसमें किसी भी पुलिस कर्मी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

X
Click to listen..