शिमला

--Advertisement--

जयराम सरकार ने दीपक सानन को दी बड़ी राहत

शिमला. पूर्व आईएएस अधिकारी दीपक सानन को जयराम सरकार ने बड़ी राहत दी है। सरकार ने पूर्व सरकार के समय में बिना वेतन के...

Danik Bhaskar

May 15, 2018, 02:10 AM IST
शिमला. पूर्व आईएएस अधिकारी दीपक सानन को जयराम सरकार ने बड़ी राहत दी है। सरकार ने पूर्व सरकार के समय में बिना वेतन के काटी छुट्टियों को नियमित कर दिया है। इसे नियमों में छूट देते हुए स्टडी लीव में कन्वर्ट किया है। तीन महीने की छुट्टी दीपक सानन ने वीरभद्र सिंह की सरकार में स्टडी लीव न मिल पाने के कारण बिना वेतन के काटी थी। उस समय यह तर्क दिया था कि ट्रेनिंग से आने के बाद इनकी सेवानिवृत्त नजदीक होगी, इनके प्रशिक्षण हासिल करने का लाभ राज्य को नहीं मिल सकेगा। इसके साथ ही इस अवकाश का न ही पहले एडवांस में आवेदन किया आैर न ही किस संस्थान से ट्रेनिंग करनी है, इसका हवाला दिया था। इस आधार पर पूर्व सरकार ने इसे रिजेक्ट कर दिया था। अब इन नियमों में छूट देते हुए जयराम सरकार ने इनकी छुट्टी को स्टडी लीव माना है। 90 दिन बिना वेतन की नौकरी को स्टडी लीव में कन्वर्ट कर इन्हें वित्तीय लाभ भी जारी कर दिए हैं। सूत्र बताते हैं कि कार्मिक विभाग के पाए आए आवेदन पर लंबी कसरत के बाद सीएम आफिस से मंजूरी दी है। पूर्व सरकार के समय में उस समय पूर्व आईएएस की स्टडी लीव को कैंसिल किया था, लेकिन वर्तमान में मुख्य सचिव विनीत चौधरी की स्टडी लीव मंजूर की थी।

पूर्व सरकार के समय में मुख्य सचिव के चयन में वरिष्ठता से नाराज दीपक सानन काफी समय तक अवकाश पर रहे। पहले तो जितने भी अवकाश बचे थे, उसे विरोध स्‍वरूप छुट्टी में अवेल किया। इसके बाद स्टडी लीव के लिए अप्लाई किया था, लेकिन इसके मंजूर न होने के कारण तीन महीने या 90 दिन का अवकाश बिना वेतन के काटा।

एचपीसीए मामले में चार्जशीट भी किए थे सानन

पूर्व आईएएस दीपक सानन को सरकार ने पूर्व सरकार ने एचपीसीए मामले में चार्जशीट भी किया था। इन पर आरोप था कि धूमल सरकार में प्रधान सचिव राजस्व रहते हुए इन्होंने एचपीसीए को कैबिनेट की मंजूरी के बगैर लैंड यूज चेंज करने की मंजूरी दी। इसी आरोप में राज्य सरकार ने एचपीसीए मामले में इन्हें आरोपी भी बनाया था।

Click to listen..