Hindi News »Himachal »Shimla» Lay Officer Shailbala Killed In Himachal Kasauli

अवैध निर्माण तोड़ने गई अफसर को मार डाला, SC ने कहा- अफसोस कि पुलिस देखती रही

गेस्ट हाउस की मालकिन के बेटे पर गोली चलाने का आरोप है। वह खुद भी सरकारी कर्मचारी है।

Bhaskar News | Last Modified - May 02, 2018, 03:15 PM IST

    • कसौली/शिमला. कसौली में अवैध निर्माण हटाने के दौरान की गई फायरिंग में महिला अफसर की मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान ले लिया है। कोर्ट ने इस घटना पर पुलिस को फटकार लगाई। कहा- अफसोस की बात है कि दिन में गोली मारकर महिला अफसर की कथित रूप से हत्या कर दी गई, आरोपी फरार हो गया और पुलिस देखती रही। बता दें कि असिस्टेंट टाउन प्लानर (एटीपी) शैलबाला शर्मा प्रशासन की टीम के साथ यहां एक गेस्ट हाउस का अतिक्रमण हटाने पहुंची थीं। गेस्टहाउस की मालकिन के बेटे पर गोलियां चलाने का आरोप है।

      ऐसा हुआ तो हम ऑर्डर पास करना बंद कर सकते हैं

      - हिमाचल में यह कार्रवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर ही की जा रही थी। कोर्ट ने कहा, अगर ऐसे ही लोगों की हत्या हुई तो हम ऑर्डर देना बंद कर सकते हैं।

      - कोर्ट ने कहा कि यह केस चीफ जस्टिस के सामने रखा जाएगा। उनसे गुजारिश की जाएगी कि वे इस पर गुरुवार को सुनवाई करें।

      हिरासत में लेने लगे तो विजय ने मांगी थी मोहलत

      - शैलबाला के नेतृत्व में प्रशासन की टीम मंगलवार सुबह 11 बजे नारायणी गेस्ट हाउस पहुंची थी।
      - शैलबाला ने गेस्ट हाउस की मालकिन नारायणी देवी और बेटे विजय को काफी समझाया, लेकिन वे नहीं माने और कार्रवाई का विरोध करते रहे।
      - एसडीएम और डीएसपी परवाणू ने कार्रवाई मे खलल डाल रहे विजय को हिरासत में लेने को कहा। तब विजय ने अफसरों से कुछ समय मांगा। इस दौरान प्रशासन की टीम दूसरी जगह कार्रवाई के लिए चली गई। विजय खुद भी बिजली विभाग में सरकारी कर्मचारी है।

      टीम दोबारा पहुंची तो दाग दीं गोलियां
      - करीब 2.30 बजे शैलबाला फिर गेस्ट हाउस पहुंचीं। टीम के सदस्य जैसे ही गेस्टहाउस के अंदर पहुंचे, रिसेप्शन के पास खड़े विजय ने पिस्टल से दो फायर किए। इससे भगदड़ मच गई।
      - शैलबाला बचने के लिए पीछे की ओर दौड़ीं। तभी एक गोली उन्हें भी लग गई। डॉक्टरों ने अस्पताल पहुंचने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया। गोलीकांड के बाद अवैध निर्माण तोड़ने का काम रोक दिया गया।

      मां से बोला- मैं मर जाऊंगा, बच्चे देख लेना
      - जब प्रशासन ने नारायणी देवी को गेस्टहाउस खाली करने का कुछ समय दिया तो आरोपी विजय अपनी मां से कह रहा था, "मैं मर जाऊंगा, आप मेरे बच्चों को देख लेना।"

      आरोपी पर एक लाख का इनाम
      - फरार आरोपी विजय की सूचना देने वाले को सोलन पुलिस ने एक लाख रुपए इनाम देने का एलान किया है। एडीजीपी लॉ एंड ऑर्डर अनुराग गर्ग ने कहा कि सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।

      सुप्रीम कोर्ट ने दिया था 15 दिन का समय
      - सुप्रीम कोर्ट ने हिमाचल के होटलों और गेस्टहाउसों में अवैध निर्माण तोड़ने के आदेश दिए हैं।
      - होटल मालिकों से कहा गया था कि वे खुद ही 15 दिन के भीतर अवैध निर्माण हटा लें।
      - समय खत्म होने के बाद मंगलवार को प्रशासन की चार टीमें धर्मपुर-कसौली क्षेत्र में अवैध निर्माण हटाने पहुंची थीं।

      13 अवैध होटलों और गेस्ट हाउस पर होनी है कार्रवाई
      - कसौली-धर्मपुर क्षेत्र के 13 होटलों में अवैध निर्माण हटाए जाने हैं। इनमें होटल शिवालिक, नारायणी गेस्ट हाउस, दीपशिखा, एएए, होटल वर्ड व्यू, सनराइज कॉटेज, सेवन पाइनस, व्हिसपरिंग विंड्स होटल, नीलगिरी होटल, ईशर स्वीट्स, होटल पाइन व्यू, होटल इन और एक अन्य है। प्रशासन अगले दो-तीन दिन में अवैध निर्माण हटाने की बात कह रहा है।

    • अवैध निर्माण तोड़ने गई अफसर को मार डाला, SC ने कहा- अफसोस कि पुलिस देखती रही
      +2और स्लाइड देखें
    • अवैध निर्माण तोड़ने गई अफसर को मार डाला, SC ने कहा- अफसोस कि पुलिस देखती रही
      +2और स्लाइड देखें
      हिमाचल में होटलों और गेस्ट हाउस का अतिक्रमण हटाने की यह कार्रवाई सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हो रही थी। जिसका लोग विरोध कर रहे हैं।
    Topics:
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    More From Shimla

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×