• Hindi News
  • Himachal
  • Shimla
  • Shimla News parents39 performance in dublu school was also on the second day students did not come to school

डुबलू स्कूल में अभिभावकाें का प्रदर्शन दूसरे दिन भी हुआ, स्टूडेंट नहीं अाए स्कूल

Shimla News - राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल डुबलू में लगातार दूसरे दिन भी अभिभावकाें ने अपना विराेध प्रदर्शन जारी रखा। खास...

Feb 14, 2020, 07:30 AM IST

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल डुबलू में लगातार दूसरे दिन भी अभिभावकाें ने अपना विराेध प्रदर्शन जारी रखा। खास बात ये है कि अब स्टूडेंट भी स्कूल नहीं अा रहे हैं। अभिभावकाें का कहना है कि स्कूल में टीचर ही नहीं है, एेसे में बच्चे स्कूल अाकर भी क्या करेंगे। डुबलू स्कूल के एसएमसी प्रधान कमल वर्मा का कहना है उन्हाेंने सीएम से गुहार लगाई की मार्च में परीक्षाएं हाेने वाली है। जबकि उनके स्कूल में टीचर ही नहीं हैं।

करीब 250 स्टूडेंट यहां पढ़ाई कर रहे हैं। प्रिंसिपल की ट्रांसफर कर दी गई है। स्कूल में पहले से ही स्टाफ नहीं है। उनका कहना है कि शिक्षा विभाग गैर जिम्मेदाराना काम कर रहे हैं। स्कूल में बच्चों की वार्षिक परीक्षा मार्च में हाेनी हैं। इससे छात्राें के परीक्षा परिणामों में विपरीत असर पड़ेगा। इस निर्णय से शिक्षक वर्ग, प्रबंधन समिति और अभिभावक वर्ग असंतुष्ट है। जब तक उन्हें लिखित में अाश्वासन नहीं मिलता है, तब तक वे अपना विराेध प्रदर्शन जारी रखेंगे।

15 फरवरी तक नहीं मानी मांगें तो सचिवालय के बाहर करेंगे अिभभावक प्रदर्शन: डुबलू स्कूल के एसएमसी ने निर्णय लिया है कि 15 फरवरी तक ही वह सरकार अाैर शिक्षा विभाग की अाेर से लिखित में मांगें पूरी करने का इंतजार करेंगे। इसके बाद सचिवालय के बाहर सभी अभिभावक प्रदर्शन करेंगे। एसएमसी का कहना है कि पिछले साल भी उन्हें सड़काें पर उतरकर प्रदर्शन करना पड़ा था। इस बार भी यही स्थिति है। स्कूल प्रबंधन समिति का कहना है कि उनकी मांग नहीं मानी जा रही है, इसलिए स्कूल खुलते ही बच्चे, एसएमसी, शिक्षक वर्ग और अभिभावक अनिश्चित काल के लिए बहिष्कार कर रहे हैं। डुबलू स्कूल में करीब 250 छात्र छात्राएं पढ़ाई कर रहे हैं।

स्कूल में खाली पड़े है शिक्षकाें के पद: स्कूल में पिछले काफी समय से प्रिंसिपल और शिक्षकों के आठ पद खाली पड़े हुए हैं। प्रिंसिपल न होने के कारण इस स्कूल के इतिहास के प्रवक्ता कपिल शर्मा बतौर प्रिंसिपल कार्यभार संभाल रहे हैं, लेकिन उनकी भी ट्रांसफर कर दी गई है। स्कूल में शिक्षकों की कमी के कारण छात्रों की पढ़ाई में मुश्किलें आ रही हैं और यहां तैनात शिक्षकों पर भी अतिरिक्त भार पड़ रहा है। इसके अलावा डीपीई, ड्राइंग टीचर और टीजीटी आर्ट्स के पद भी खाली पड़े हुए हैं। स्कूल शिक्षकों की कमी तो झेल ही रहा है पर साथ ही अन्य कर्मचारियों के पद भी नहीं भरे गए हैं। इससे पहले भी इस स्कूल में प्रबंधन समिति की अाेर से अांदाेलन किया जा चुका है। कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में इसी स्कूल से डेपुटेशन पर शिक्षकाें काे भेजा गया था। इसकाे लेकर अभिभावकाें ने यहां काफी दिन तक अांदाेलन किया था।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना