क्यारा में 30 साल से नहीं बनी स्कूल की ईमारत

Shimla News - ठियोग उपमंडल की दूरदराज की ग्राम पंचायत क्यारा के मुख्यालय में 15 साल पूर्व स्तरोन्नत हुए वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल का...

Sep 11, 2019, 07:30 AM IST
ठियोग उपमंडल की दूरदराज की ग्राम पंचायत क्यारा के मुख्यालय में 15 साल पूर्व स्तरोन्नत हुए वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल का भवन आज तक नहीं बन पाया है। क्यारा सहित आसपास की सिंहल, जदूण, कोटशिलारू आदि चार-पांच पंचायतों के विद्यार्थी यहां पढ़ने के लिए आते हैं लेकिन यहां पर स्कूल का भवन न बनने के कारण विद्यार्थियों को 30 साल पूर्व हाई स्कूल के लिए बनाए गए चार कमरों के भवन में पढ़ना पड़ रहा है जो जर्जर हालत में है।

स्थानीय लोगों के अनुसार कई बार यहां भवन के निर्माण को लेकर सरकार से लिखित आग्रह किया जा चुका है। भवन निर्माण का एस्टीमेट भी बना हुआ है जो एक करोड़ 70 लाख का है। लेकिन लोकनिर्माण विभाग के पास कई सालों से इस भवन के लिए केवल 40 लाख रुपए जमा हैं।

इसमें आठ लाख रुपए और दिए गए हैं। कुल मिलाकर भवन के लिए अभी तक मात्र 48 लाख रुपए की विभाग के पास जमा हुए हैं। भवन न बनने से इस स्कूल में न तो सभी कक्षाओं के लिए कमरे हैं न स्टॉफ रूम व कार्यालय के लिए स्थान है। प्रधानाचार्य विनोद कैंथला ने बताया कि भवन बनने में हो रही देरी से स्कूल संचालन में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पुराना भवन गिरने के कगार पर है। भवन के अलावा इस स्कूल में एमएससी व बीएससी अध्यापक भी नहीं हैं इस कारण इस दूरदराज के क्षेत्र में गांवों से आने वाले बच्चों की पढ़ाई अच्छी तरह से नहीं हो रही है।

एसएमसी प्रधान का कहना है कि इस बारे में कई बार सरकार व विभाग को अगवत करवाया गया है, लेकिन आजतक समस्या हल नहीं हुई है। अध्यापकों की कमी के चलते यहां पर बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है।

बरसात के मौसम में यहां पानी भरा रहता है: स्कूल के ऊपर से बनी सड़क का पानी मैदान व भवन में घुस जाता है। क्यारा में 45 साल पहले प्राथमिक स्कूल खोला गया था उसके दो साल बाद यहां मिडल स्कूल और 1989 में हाई स्कूल बना। 2004 में इस स्कूल का दर्जा बढ़ाकर जमा दो कर दिया गया लेकिन तब से लेकर इस स्कूल में भवन का निर्माण नहीं हो पाया है। 43 साल पहले मिडल स्कूल के लिए बने जर्जर भवन में ही जमा एक व दो की कक्षाएं बिठाई जाती हैं जो हालत में है।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना