• Hindi News
  • Himachal
  • Shimla
  • Shimla News the hospital will no longer be able to purchase themselves the free medicines available in hospitals will be applicable only after the code of conduct

अस्पताल नहीं अब सरकार खुद खरीदकर देगी अस्पतालों में मिलने वाली फ्री दवाइयां, आचार संहिता के बाद ही लागू हों जाएंगे ये नियम

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:26 AM IST

Shimla News - सरकारी अस्पतालों में मिलने वाली फ्री दवाएं अब न हर अस्पताल में अलग-अलग कंपनी की हाेगी अाैर न ही इसके लिए लाेगाें...

Shimla News - the hospital will no longer be able to purchase themselves the free medicines available in hospitals will be applicable only after the code of conduct
सरकारी अस्पतालों में मिलने वाली फ्री दवाएं अब न हर अस्पताल में अलग-अलग कंपनी की हाेगी अाैर न ही इसके लिए लाेगाें काे इंतजार करना पड़ेगा।

अस्पतालों में मिलने वाली फ्री दवाअाें की खरीद अब अस्पताल प्रशासन नहीं बल्कि सरकार खुद अपने स्तर पर करेगी। सरकार ने इसके लिए पूरी तैयारी कर ली है। अस्पतालों काे इसके लिए निर्देश जारी कर दिए हैं कि वह अपने स्तर पर काेई भी दवा की खरीद नहीं करेंगे। इसके लिए सरकार सीविल सप्लाई के माध्यम से दवा की खरीद करेगा अाैर फिर अस्पतालों में इसका अाबंटन करेगा। अाचार संहिता के हटते ही इसे लागू कर दिया जाएगा। उसके बाद अस्पतालों में मिलने वाली फ्री दवाएं सरकार स्वयं अस्पतालों में पहुंचाएगी।

ये हाेगा फायदा अस्पतालाें में मिलने वाली फ्री दवाअाें की खरीद जब सरकार करेगी ताे इसका सबसे बड़ा फायदा यह हाेगा की प्रदेश के सभी अस्पतालों में एक ही कंपनी की दवाएं उपलब्ध हाेंगी। इसमें सरकार बेहतर कंपनी से दवाअाें की खरीद करेगा। हालांकि इससे पहले अस्पताल प्रशासन के पास दवाअाें की खरीद की पाॅवर दी गई थी। इसमें कुछ अस्पतालों में दवाअाें की खरीद पर सवाल भी उठ चुके हैं कि वह या ताे महंगी दवाएं खरीद रहे हैं या भी गुणवत्ता जांचे बिना ही दवाअाें की खरीद हाे रही है। एेसे में जब सरकार स्वयं दवाअाें की खरीद करेगी ताे यह परेशानी नहीं रहेगी।

इससे कुछ दिक्कतें भी अाएंगी एक अाेर जहां सरकार के दवाअाें के स्वयं खरीद करने से फायदा हाेगा, वहीं दूसरी अाेर इसमें कुछ परेशानी हाेना भी तय है। सरकार पूरे प्रदेश के अस्पतालों के लिए दवाअाें की खरीद करेगी ताे वह एक बार ही दाे या तीन माह की दवाअाें की खरीद करके डिमांड के अनुसार अस्पतालों में भेजेगी। मगर अाईजीएमसी, टांडा मेडिकल कालेज में मरीजाें की भारी भीड़ रहती है। यहां पर राेजाना मरीजाें का अांकड़ा 3000 से पार रहता है। एेसे में यहां पर दवाएं काफी जल्दी खत्म हाे जाती है। एेसे में जब तक टेंडर नहीं हाेंगे दवाएं नहीं अाएगी। जबकि अस्पताल प्रशासन अपने स्तर पर दवाअाें की खरीद करता है ताे वहां पर डिमांड के अनुसार दवाएं खरीद सकता है।

अस्पतालों में मिलती है 330 दवाएं फ्री सरकारी अस्पतालों में 330 दवाएं फ्री दी जाती है। इसमें हर वर्ग काे यह दवाएं मिलती है। हर अस्पताल की डिस्पेंसरी में निशुल्क दवाएं देने का प्रावधान है। इसमें बुखार से लेकर कई गंभीर बीमारियां की दवाएं फ्री दी जा रही है। इसमें केवल पर्ची दिखाकर अस्पतालों में हर वर्ग काे यह दवा फ्री दी जाती है। दवाएं न मिलने पर 104 टाॅल फ्री शिकायत नंबर भी जारी किया है।

X
Shimla News - the hospital will no longer be able to purchase themselves the free medicines available in hospitals will be applicable only after the code of conduct
COMMENT