सीटें बेशक चार, फिर भी आखिरी 15 दिन खूब चली स्टार वॉर

Shimla News - चुनावी माहौल में पहाड़ों पर 15 दिन में मौसम ने भी गर्मी आैर सर्दी दोनों का खूब अहसास करवाया। राजनीतिक तपिश मई के...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:26 AM IST
Shimla News - the seats are four yet the last 15 days have starred star wars
चुनावी माहौल में पहाड़ों पर 15 दिन में मौसम ने भी गर्मी आैर सर्दी दोनों का खूब अहसास करवाया। राजनीतिक तपिश मई के महीने में तपी रही। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, अमित शाह सहित राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी आैर नवजोत सिंह सिद्दू ने रैलियां की। पीएम ने पहले मंडी तो बाद में सोलन में चुनावी जनसभा की। इसी तरह से राहुल गांधी ने अपनी पहली जनसभा ऊना जिले में तो दूसरी सोलन में की। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने हिमाचल का तूफानी दौरा करते हुए एक ही दिन में तीन चुनावी रैलियां की। उन्होंने चंबा, बिलासपुर आैर नाहन में चुनावी जनसभाआें को संबोधित किया। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने वीरवार को कुल्लू में चुनावी जनसभा कर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में वोट मांगे। कांग्रेस के स्टार प्रचार नवजोत सिंह सिद्दू ने हिमाचल में कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए वोट मांगते हुए पीएम नरेंद्र मोदी को घेरा। स्मृति ईरानी ने भी हिमाचल में चुनावी जनसभा कर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरा आैर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान की बात कहीं। चुनावी शोर खूब रहा, राजनेताआें ने राजनीतिक तपिश खूब बढ़ाई, लेकिन पूरे चुनाव में आम आदमी पूरी तरह से गुम रहा। नेताआें ने एक दूसरे पर आरोप लगाते हुए समय निकाल दिया। कांग्रेस के लिए राजबब्बर आैर भाजपा के लिए नीतिन गडकरी ने भी एक चुनावी हिमाचल में रैली की।

पीएम मोदी, अमित शाह, राहुल गांधी व नवजाेत सिद्धू ने मांगे वोट

बेरोजगारी, बागवान, किसान, कर्मचारी रहा गुम

लोकसभा 2019 की तैयारी में चुनावी सरगर्मी कम नहीं रही। पूरे चुनाव में बेरोजगार गुम रहा। किसान के नाम पर राजनीति होती है, लेकिन किसान बागवान का नाम महज घोषणापत्र में ही आया। नेताआें ने अपनी जुबान को खराब करते हुए एक दूसरे पर आरोप लगाते हुए समय निकाल दिया। राज्य की राजनीति को कर्मचारी तय करते हैं, लोकसभा चुनावों में ऐसा कुछ नहीं दिखा। हालांकि सीएम ने चुनावों से पहले हर वर्ग के अस्थाई कर्मचारी के लिए कुछ करने का प्रयास किया, लेकिन कर्मचारी के लिए केंद्र में आने के बाद क्या होगा, इसकी बात कहीं नहीं हुई है। हालांकि रविवार को वोट इन सभी ने देना है। राज्य में 10 लाख बेरोजगार, तीन लाख कर्मचारी तो सरकारी आंकड़े के मुताबिक, 8 लाख से ज्यादा किसान है।

खराब मौसम के कारण प्रियंका नहीं कर पाई रैली

देश की राजनीति में पहली बार फील्ड में उतरी प्रियंका गांधी को सुनने का मौका हिमाचल की जनता को नहीं मिला। उनका घर हिमाचल में बन रहा है। हिमाचल से होने राजनीतिक कार्ड वे भी खेल सकती थी। कांग्रेस ने ठियोग आैर सुंदरनगर में उनकी रैलियां करवाने का कार्यक्रम तय किया था, लेकिन पहले क्लीयरेंस न मिलने आैर बाद में खराब मौकम के कारण वे हिमाचल चुनावी रैली नहीं कर सकी। हिमाचल के लोगों को उन्हें पहाड़ी राज्य में सुनने के लिए अगले चुनावों तक इंतजार करना पड़ सकता है।

X
Shimla News - the seats are four yet the last 15 days have starred star wars
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना