--Advertisement--

कांग्रेस-माकपा ने िमलकर लड़ा चुनाव: दीपराम

ठियोग मंडल भाजपा की बैठक फरवरी को ठियोग के सरॉय हॉल में आयोजित की जाएगी। इस बैठक में विस चुनावों में हार के बाद पहली...

Dainik Bhaskar

Feb 04, 2018, 02:10 AM IST
ठियोग मंडल भाजपा की बैठक फरवरी को ठियोग के सरॉय हॉल में आयोजित की जाएगी। इस बैठक में विस चुनावों में हार के बाद पहली बार पूर्व विधायक राकेश वर्मा भी भाग लेंगे। उल्लेखनीय है कि इससे पहले मंडल की दो बैठकें विस चुनावों के परिणामों के बाद हो चुकी हैं जिनमें राकेश वर्मा नहीं आए थे। इसके चलते ठियोग में राकेश वर्मा खेमे के भाजपाई काफी मायूस थे। भाजपा का दूसरा खेमा पहले की मंडल से दूर है। मंडल के कई पदाधिकारी व वरिष्ठ कार्यकर्ता राकेश वर्मा से बार बार आग्रह कर रहे थे कि वे बैठकों में आएं। मंडल के इन पदाधिकारियों को कहना था कि राकेश वर्मा भले ही दो हजार से कम वोटों से हारे हैं लेकिन ठियोग कुमारसैन के 23 हजार मतदाताओं ने उन्हें वोट दिया है। वर्मा समर्थक भाजपाइयों को यह भी डर है कि ठियोग में जिन लोगों पर ये भितरघात का आरोप लगा रहे हैं कहीं सरकार व संगठन में पैठ के चलते वे कोई पद न हासिल कर लें।

इस बार विस चुनावों में जीत की पूरी उम्मीद के बाद जिस प्रकार से राकेश वर्मा की हार हुई है उससे भाजपा के राकेश वर्मा खेमे में काफी मायूसी है। ठियोग में राकेश वर्मा समर्थक भाजपाई यह आरोप लगाते रहे हैं कि राकेश वर्मा की जीत से डरे कांग्रेस नेताओं ने अपना वोटबैंक माकपा के राकेश सिंघा की ओर शिफ्ट करवाया। भितरघातियों ने भी माकपा का साथ दिया। मंडल अध्यक्ष दीपराम वर्मा का कहना है कि इस बार भाजपा की जीत पक्की थी। लेकिन कांग्रेस नेताओं ने अपने प्रत्याशी की जमानत जब्त करवाई और माकपा को जितवा दिया।

प्रदेशाध्यक्ष को की थी भितरघातियों की शिकायत

विस चुनावों के बाद मंडल की बैठक में ठियोग में भितरघातियों का मुद्दा कार्यकर्ताओं ने जोर शोर से उठाया था। इस मामले में मंडल अध्यक्ष की ओर से एक शिकायत भी मुख्यमंत्री व पार्टी अध्यक्ष को भेजी गई थी जिसमें पांच जिला व प्रदेश पदाधिकारियों के नाम उल्लेखित कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की मांग की गई थी। 6 फरवरी को मंडल की बैठक में भी कार्यकर्ता राकेश वर्मा के समक्ष यह मुद्दा उठा सकते हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..