--Advertisement--

एनएच की क्षतिग्रस्त रेलिंग से बढ़ रहा दुर्घटना का ग्राफ

राष्ट्रीय राजमार्ग पांच में ढली से ठियोग के बीच विभाग की ओर से पक्की रेलिंग लगाने से एक ओर जहां वाहनों की सुरक्षा...

Dainik Bhaskar

Jan 17, 2018, 02:10 AM IST
राष्ट्रीय राजमार्ग पांच में ढली से ठियोग के बीच विभाग की ओर से पक्की रेलिंग लगाने से एक ओर जहां वाहनों की सुरक्षा बढ़ी है वहीं एनएच के इस हिस्से में सबसे खतरनाक स्थान सरोग गली ढांक के आसपास कई साल पहले लगाई गई रेलिंग बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी है जिसे बदले जाने की जरूरत है। ठियोग व भेखलटी के बीच आने वाले इस ढांक में इस रेलिंग को लगाए जाने से पहले कई वाहन दुर्घटनाएं हुईं जिनमें कई जाने चली गई थीं। यहां सड़क के निचले हिस्से में कई सौ फुट गहरी खाईयां हैं। एक दशक पहले यहां रेलिंग लगाए जाने के बाद वाहन दुर्घटनाएं बंद हो गईं।

क्षतिग्रस्त हुई रेलिंग

बार बार इस रेलिंग से वाहनों के टकराने के कारण यह काफी क्षतिग्रस्त हो चुकी है और कई जगह से रेलिंग टूट कर गायब हो चुकी है। यहां पर काफी तीखे मोड़ होने और एक ओर ऊँचा ढांक होने के कारण सड़क भी काफी संकरी है।

ढांक के बीच से गुजरती इस सड़क पर अतिक्रमणों के कारण भी वाहन चालकों को परेशानी है। यहां पर रिपेयर के लिए कई कारें सड़क के किनारे खड़ी रहती हैं जिसकारण यहां एनएच वन वे बन जाता है। लोगों की मांग है कि सरोग गली ढांक में एनएच की टूटी रेलिंग ठीक की जाए और सड़क के निचले हिस्से में जहां डंगे लगने हैं उसे लगाया जाए ताकि वाहन यहां से सुरक्षित निकल सकें। विभाग के जेई सुभाष नेगी ने बताया कि सड़क की रेलिंग की आवश्यक मुरम्मत की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस हिस्से की रेलिंग बदलने को नए प्लान में डाला जा रहा है। उन्होंने सड़क पर अतिक्रमणों के विरूद्ध भी कारवाई की जा रही है। पुलिस में भी विभाग ने रिपोर्ट करवा रखी है।

समस्या

ठियोग व भेखलटी के बीच आने वाले इस ढांक में रेलिंग को लगाए जाने से पहले हुए कई वाहन दुर्घटनाग्रस्त

सरोग गली ढांक के पास एनएच पांच पर टूटी पुरानी रेलिंग ठीक करने की मांग।

रेलिंग से टकराकर सै कड़ों दुर्घटनाएं टलीं

इस आधा किलोमीटर सड़क के हिस्से में कई वाहन रेलिंग से टकराकर खाई में जाने से बच चुके हैं। कुछ साल पहले चौपाल की ओर जाने वाली एक बस भी यहां रेलिंग के कारण सैंकड़ों फुट गहरी खाई में जाने से बच चुकी है। इसके अलावा एक एलपी ट्रक और सैंकड़ों कारें भी इस रेलिंग के कारण खाई में गिरने से बच चुके हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..