Hindi News »Himachal »Thiyog» देवभूमि को नशे से बचाना शिक्षकों का भी दायित्व

देवभूमि को नशे से बचाना शिक्षकों का भी दायित्व

प्रदेश के शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा है कि देवभूमि को ड्रग भूमि बनने से रोकने में शिक्षक अपनी भूमिका...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 25, 2018, 02:10 AM IST

देवभूमि को नशे से बचाना शिक्षकों का भी दायित्व
प्रदेश के शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा है कि देवभूमि को ड्रग भूमि बनने से रोकने में शिक्षक अपनी भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि शिक्षण केवल रोजगार का जरिया नहीं है बल्कि शिक्षकों पर एक अच्छे समाज व राष्ट्र निर्माण का महत्वपूर्ण दायित्व है। उन्होंने कहा कि कुछ ताकतें साजिश के तहत युवाओं को नशों की ओर धकेल रही हैं। ठियोग कालेज के सालाना पारितोषिक समारोह में छात्रों व शिक्षकों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि युवाओं को सही दिशा देने व उनके अच्छे संस्कार भरने के लिए सरकार प्रयासरत है। उन्होंने शिक्षकों से अपने सुझाव व विभाग से संवाद करने की अपील की।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि शिक्षण संस्थानों में पुरस्कारों से विद्यार्थियों को प्रेरणा मिलती है। जो छात्र इस बार चूक गए हैं वे अगले साल बेहतर कर सकते हैं। प्रधानाचार्य अनुपमा गर्ग ने कालेज की वार्षिक रिपोर्ट पेश करने के अलावा कालेज के छात्रावास में सुविधाएं उपलब्ध करवाने का आग्रह किया। मंत्री ने इन सुविधाओं को उपलब्ध करवाने का आश्वासन देते हुए 21 हजार रुूपए की ऐच्छिक निधि कार्यक्रम को देने की घोषणा की।

इस मौके पर शिक्षा मंत्री के साथ मंडल भाजपा अध्यक्ष दीपराम वर्मा, जिला महासू अध्यक्ष अजय श्याम, नप अध्यक्षा शांता शर्मा, एसडीएम मोहनदत्त शर्मा, विभिन्न विभागों के अधिकारी, कालेज एससीए के अध्यक्षा शीतल सभी पदाधिकारी, कालेज पीटीए के पदाधिकारी, कालेज के शिक्षकों के अलावा सैकड़ों की संख्या में छात्र छात्राएं उपस्थित थे।

ठियोग कालेज में वार्षिकोत्सव की शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने की अध्यक्षता

ठियोग हाविद्यालय में वार्षिक पारितोषिक सामारोह शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज।

शिक्षा मंत्री ने 239 विद्यार्थी किए पुरस्कृत

शिक्षा मंत्री ने कालेज में शैक्षणिक, खेल व अन्य सामाजिक गतिविधियों में अव्वल रहने वाले 239 विद्यार्थियों को अपने हाथों पुरस्कृत किया। कला स्नातक में अंतिम वर्ष के दीपक शर्मा को प्रथम शालु को दूसरा और आकांक्षा को तीसरा पुरस्कार मिला। विज्ञान संकाय में अंतिम वर्ष में दीप्ति प्रथम, प्रियंका दूसरे, पम्मी तीसरे पुरस्कार के लिए चुने गए। वाणिज्य संकाय में स्मृति प्रथम, ममता दूसरे व प्रतिभा तीसरे स्थान पर रहे। खेलों में वंदना को अखिल भारतीय अंतरविद्यालय वॉलीबाल प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए सम्मानित किया गया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Thiyog

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×