• Home
  • Himachal Pradesh News
  • Thiyog News
  • निष्कासितों को बुलाने पर ठियोग मंडल कांग्रेस की बैठक में हंगामा
--Advertisement--

निष्कासितों को बुलाने पर ठियोग मंडल कांग्रेस की बैठक में हंगामा

ठियोग में कांग्रेस की मंडल बैठक वीरवार को बैंक्विट हॉल ठियोग में आयोजित की गई जो काफी हंगामेदार रही। यह बैठक 2019 के...

Danik Bhaskar | Apr 06, 2018, 02:10 AM IST
ठियोग में कांग्रेस की मंडल बैठक वीरवार को बैंक्विट हॉल ठियोग में आयोजित की गई जो काफी हंगामेदार रही। यह बैठक 2019 के लोकसभा चुनावों की तैयारियों और पार्टी के अभियान सांसद हिसाब दें के तहत बुलाई गई थी जिसकी अध्यक्षता ब्रह्मानंद शर्मा ने की। बैठक में वरिष्ठ नेता विद्या स्टोक्स, प्रदेश उपाध्यक्ष केहरसिंह खाची, ठियोग से चुनाव लड़ने वाले दीपक राठौर सहित सभी पदाधिकारी व युवा कांग्रेस के पदाधिकारी मौजूद थे। बैठक में स्टोक्स ने पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं से एकजुट होकर आगामी लोकसभा चुनावों में कांग्रेस को जिताने के लिए कार्य करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि पुराने विवाद व गिले शिकवे व विवाद मिटाकर पार्टी मजबूत करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पार्टी 2019 लोकसभा चुनावों में चारों सीटें जीतेगी। इसके बाद युकां अध्यक्ष राकेश वर्मा के संबोधन के बीच में कार्यकर्ताओं में तीखी नोकझोंक शुरू हो गई और ठियोग से चुनाव हारे दीपक राठौर के समर्थक इस बात पर काफी भड़क गए कि चुनावों में उनके विरुद्ध खुलेआम काम करने वाले कार्यकर्ता बैठक में क्यों आए हैं।

कार्यकर्ताओं ने रखें अपने विचार

बाद में पत्रकारों को संबोधित करते हुए मंडल अध्यक्ष ब्रह्मानंद शर्मा ने कहा कि बैठक में कार्यकर्ता अपने विचार रख रहे थे वहां किसी प्रकार का हंगामा नहीं हुआ। कार्यकर्ता अपनी शिकायत रख रहे थे। उन्होंने कहा कि कुछ ऐसे लोगों के बैठक में आने जिन पर विस चुनावों में पार्टी के विरुद्ध काम करने का आरोप है कुछ कार्यकर्ता भड़क गए। उन्होंने बताया कि ठियोग मंडल ने यह निर्णय किया है कि 2019 में ठियोग विस क्षेत्र से लोकसभा चुनावों का नेतृत्व स्टोक्स करेंगी। उन्होंने कहा कि वीरभद्रसिंह व स्टोक्स प्रदेश में कांग्रेस के सर्वोच्च नेता हैं। केहरसिंह खाची ने कहा कि ठियोग सहित पूरे प्रदेश में कांग्रेस फिर से मजबूत होगी और लोकसभा चुनावों में चारों सीटें जीतेगी। मंडल अध्यक्ष ने बताया कि लोकसभा सांसद ने पिछले चुनावों में जो वादे किए थे उसका हिसाब कांग्रेस मांगेगी और घर घर जाकर कार्यकर्ता सांसद वीरेंद्र कश्यप का पर्दाफाश करेंगे। इस अवसर पर दीपक राठौर, केहरसिंह खाची, लोकेन्द्र चंदेल आदि वरिष्ठ कांग्रेसी भी उपस्थित थे।

मंडल कांग्रेस बैठक में हंगामे से पहले से संबोधित करतीं विद्या स्टोक्स।

निष्कासित अतुल शर्मा को देख भड़के कांग्रेसी

ठियोग मंडल की इस बैठक में स्टोक्स के साथ पहुंचे पार्टी से निष्कासित अतुल शर्मा को लेकर कुछ कार्यकर्ता भड़क गए। इसके अलावा भी कई ऐसे कार्यकर्ता बैठक में पहुंचे थे जिन पर विस चुनावों में माकपा का खुलेआम समर्थन का आरोप है । कार्यकर्ताओं का कहना था कि पार्टी से निष्कासित लोगों को बैठक में नहीं आना चाहिए। एक कार्यकर्ता ने कहा कि ठियोग में कांग्रेस के कई बड़े नेताओं के बूथों से पार्टी को नाममात्र के वोट भी नहीं मिले जिस कारण पहली बार कांग्रेस की जमानत जब्त हुई जो शर्मनाक है। इस पर बैठक में हंगामा मच गया और कार्यकर्ता बैठक स्थल से बाहर निकलना शुरू हो गए। इस हंगामे के बीच स्टोक्स भी बैठक से चली गईं। बैठक रद्द होने के बाद केहरसिंह खाची ने विश्राम गृह में एकत्र कार्यकर्ताओं को संबोधित कर शांत करने की कोशिश की। इससे पहले यहां कार्यकर्ताओं ने नेताओं के विरुद्ध नारेबाजी शुरू की।

बैठक बंटी दो गुट में : वीरवार को मंडल कांग्रेस बैठक में माहौल इतना बिगड़ गया कि कुछ कार्यकर्ताओं ने स्टोक्स सहित बड़े नेताओं के विरुद्ध भी नारेबाजी शुरू कर दी। कार्यकर्ता बैठक में विस चुनावों में पार्टी विरोधी कार्य करने वालों की मौजूदगी पर नाखुश थे। साथ की कई कार्यकर्ता ठियोग में कांग्रेस की जमानत जब्त होने के पीछे बड़े नेताओं को दोषी मान रहे थे। स्टोक्स के पास समय न होने के कारण सबसे पहले वे बोलीं लेकिन युवा कांग्रेस अध्यक्ष राकेश वर्मा का संबोधन शुरू होते की हंगामा शुरू हो गया। बैठक में धड़ेबाजी साफ नजर आ रही थी।