Hindi News »Himachal »Thiyog» अस्पताल परिसर में वाहनों की पार्किंग, रोगी होते हैं परेशान

अस्पताल परिसर में वाहनों की पार्किंग, रोगी होते हैं परेशान

ठियोग सिविल अस्पताल परिसर में वाहनों की पार्किंग यहां आने वाले रोगियों के लिए लंबे समय से समस्या बनी हुई है। हालत...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 17, 2018, 03:20 AM IST

ठियोग सिविल अस्पताल परिसर में वाहनों की पार्किंग यहां आने वाले रोगियों के लिए लंबे समय से समस्या बनी हुई है। हालत यह है कि यहां वाहनों या एंबुलेंस में जो मरीज लाए जाते हैं उन्हें गेट के पास से पैदल या उठाकर अस्पताल पहुंचाना पड़ता है। यहां तक कि अस्पताल में किसी की मौत होने के बाद शव को वाहन में ले जाना भी कई बार कठिन हो जाता है। अस्पताल प्रशासन की तमाम कोशिशों के बाद भी परिसर में वाहनों को लोग पार्क कर जाते हैं। परिसर में रेत के ढेर लगे हुए हैं। आपातकाल के सामने वाहनों की लंबी कतार सुबह से शाम तक लगी रहती है। कहने को यहां एक नो पार्किंग बोर्ड लगा है लेकिन इस निर्देश का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई करने वाला कोई नहीं है। यह बोर्ड भी उचित स्थान पर नहीं लगा है।

ठियोग अस्पताल में सुरक्षा कर्मी की कोई तैनाती नहीं है। जिस कारण यहां परिसर में अव्यवस्था फैली रहती है। रोगी कल्याण समिति की बैठकों में कई बार यहां सुरक्षा कर्मी की तैनाती पर विचार हो चुका है। लेकिन अस्पताल प्रशासन के पास इतने फंड नहीं हैं कि वे सुरक्षा कर्मी रख सके। पुलिस कर्मी कभी कभार यहां आकर वाहनों को व्यवस्थित करने का प्रयास करते हैं लेकिन दूसरे दिन फिर से वही हालत हो जाती है। लोगों के अनुसार यहां वर्दी वाला सुरक्षा कर्मी न होने के कारण वाहन चालक परवाह नहीं करते। अस्पताल परिसर में स्टॉफ के अलावा आसपास रहने वाले लोगों के भी वाहन पार्क रहते हैं। इस कारण यहां रोगियों को लेकर आने वाली एंबुलेंसों और अन्य वाहनों के लिए स्थान नहीं बचता। इसके अलावा यहां पर चल रहे अस्पताल भवन निर्माण के कर्मचारियों के वाहन भी परिसर में ही खड़े होते हैं। परिसर के बाहर लगे गेट के बाहर भी कई निजी वाहन पार्क किए जाते हैं। लोगों के अनुसार आपातकालीन स्थिति में यहां अवैध पार्किंग एक बड़ी समस्या बन जाती है।

ठियोग अस्पताल परिसर में शुक्रवार को वाहनों का जमावड़ा।

प्रशासन करे इंतजाम :लोगों के अनुसार अस्पताल में वाहनों की व्यवस्था के लिए यहां नियमित रूप से पुलिस या होम गार्डस का कर्मचारी तैनात किया जाए। पार्किंग की अव्यवस्था के अलावा यहां भर्ती महिला रोगियों व उनके साथ रहने वाली महिलाओं के लिए भी सुरक्षा कर्मी का यहां होना जरूरी है। अस्पताल प्रभारी दिलीप टेक्टा का कहना है कि प्रशासन से कई बार यहां सुरक्षा कर्मी की तैनाती का आग्रह किया जा चुका है। वाहनों की व्यवस्था के लिए एक कर्मचारी की ड्यूटी भी लगाई गई है। कई बार भीड़ अधिक हो जाने से समस्या होती है। अधिकतर रोगी निजी वाहनों में आते हैँ और वे परिसर में ही वाहन खड़ा कर देते हैं। उन्होंने लोगों से सहयोग की अपील की है।

नो पार्किंग के बोर्ड का असर नहीं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Thiyog

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×