--Advertisement--

नरेश के एसएमसी अध्यक्ष बनने से किसानों बागवानों को उम्मीदें

ठियोग विस क्षेत्र से नरेश शर्मा के एपीएमसी शिमला किन्नौर का अध्यक्ष बनने से ठियोग के बेमौसमी सब्जी उत्पादक...

Dainik Bhaskar

May 07, 2018, 02:10 AM IST
नरेश के एसएमसी अध्यक्ष बनने से किसानों बागवानों को उम्मीदें
ठियोग विस क्षेत्र से नरेश शर्मा के एपीएमसी शिमला किन्नौर का अध्यक्ष बनने से ठियोग के बेमौसमी सब्जी उत्पादक किसानों को काफी आशाएं हैं। ठियोग के छोटे सब्जी उत्पादक किसान व बागवान हर साल उनकी फसलें सही ढंग से न बिकने की शिकायत करते रहे हैं। इन छोटे किसानों के पास ढली मंडी के अलावा अपने उत्पाद बेचने का कोई निकट का की मंडी है। बेमौसमी सब्जी उत्पादन के लिए तीन दशकों से मशहूर ठियोग में अभी तक एक ढंग की सुविधा संपन्न मंडी नहीं बन पाई है। जिससे उन्हें दूर की मंडियों में नहीं भटकना पड़ेगा।

इस साल फूल गोभी पिटी

इस साल निचले इलाकों के किसानों को शुरूआत में फूल गोभी का मूल्य काफी कम मिला जिससे उनका लागत मूल्य भी नहीं पूरा हो पाया। किसानों की सब्जियों के अस्थिर मूल्यों के कारण परेशान हैं कई बार एक ही दिन में काफी अंतर मूल्य में आ जाता है। किसान चाहते हैँ कि एपीएमसी ऐसी व्यवस्था करे कि किसानों का शोषण न हो। कई सब्जी मंडियों में प्रति नग एक से दो किलो काट होती है। तोल को लेकर भी शिकायत किसानों को रहती है। सड़कों के किनारे खुलने वाली मंडियों में भी किसानों का शोषण होता है। गावों में फारवर्ड भी किसानों के साथ कई बार धोखा करते हैं।

शुक्रवार को ठियोग व अन्य इलाकों के लोग नरेश शर्मा को एपीएमसी का अध्यक्ष बनाने के लिए धन्यवाद करने शिमला मुख्यमंत्री के आवास पर गए थे। एक स्मृति चिन्ह भी मुख्यमंत्री को दिया गया। इस मौके पर भी साथ गए पंचायत प्रतिनिधियों व किसान प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री के समक्ष थरमटी मंडी के निर्माण का भी आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने लोगों का अभिवादन किया व किसानों बागवानों क हितों लिए भरसक प्रयास करने का आह्वान करते हुए बधाई व शुभकामनाएं दी ।

एपीएमसी अध्यक्ष समर्थकों के साथ मुख्यमंत्री के आवास पर स्मृति चिन्ह भेंट करते हुए।

सब्जी के मूल्यों में रहे स्थिरता

किसानों के अनुसार स्थानीय व शहरी मंडियों में कई बार मूल्य का काफी अंतर रहता है। लेकिन छोटे किसान जिनके पास प्रतिदिन दो तीन नग होते हैं वह दूर की मंडियों में नहीं जा सकते। ठियोग नगर की मंडी में स्थान की कमी के कारण उन्हें ढली या अन्य मंडियों में जाना पड़ता है। ठियोग की मंडी को थरमटी में शिफ्ट करने की योजना काफी समय से है। पिछली कांग्रेस सरकार ने तो वहां पर अंतिम दिनों में शिलान्यास भी करवाया था।

नरेश पर भी पार्टी विरोधी कार्य करने का आरोप

ठियोग मंडल भाजपा ने चुनावों में राकेश की हार के बाद कुछ अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ नरेश पर भी पार्टी विरोधी कार्य करने का आरोप लगाते हुए उनपर अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग की थी। लेकिन नरेश शर्मा को पद देकर सरकार ने ठियोेग मंडल के जले पर नमक छिड़क दिया है। नरेश शर्मा को कई सालों से संगठन से जुड़े रहने का लाभ मिला है। उधर मंडल के अधिकतर पदाधिकारी मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करने वाले कार्यक्रम से दूर रहे। आने वाले लोकसभा चुनावों पर ठियोग की बढ़ती गुटबाजी का क्या असर पड़ेगा यह समय बताएगा।

X
नरेश के एसएमसी अध्यक्ष बनने से किसानों बागवानों को उम्मीदें
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..