Hindi News »Himachal »Thiyog» ठियोग नगर के कूड़े काे शिमला कूड़ा संयंत्र में ले जाने की तैयारी

ठियोग नगर के कूड़े काे शिमला कूड़ा संयंत्र में ले जाने की तैयारी

पिछले कई सालों से ठियोग नगर में उत्पन्न कूड़े को एनएच के समीप रौरू जंगल में फेंकने को लेकर आसपास की पंचायतों के साथ...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 09, 2018, 02:10 AM IST

ठियोग नगर के कूड़े काे शिमला कूड़ा संयंत्र में ले जाने की तैयारी
पिछले कई सालों से ठियोग नगर में उत्पन्न कूड़े को एनएच के समीप रौरू जंगल में फेंकने को लेकर आसपास की पंचायतों के साथ चल रहे विवाद व इस मामले की सुनवाई एनजीटी में चलने के बीच नगर परिषद ने नगर का कूड़ा शिमला कूड़ा संयत्र में भेजने के लिए निविदाएं आमंत्रित की हैं। ठियोग नगर में प्रतिदिन आठ से दस क्विंटल कूड़ा उत्पन्न होता है जिसे कई सालों से ठियोग व संधू के बीच रौरू जंगल में एनएच पांस के समीप खाली पड़े स्थान पर फेंका जा रहा है। दस स्थान पर नप ने लाखों रूपये खर्च कर फैंसिंग भी की है लेकिन चिखड़ पंचायत के अनुसार यह कूड़ा बरसात में बहकर नीचे खड्ड में मिल जाता है जिससे पानी दूषित होता है।

सरकार से मांगी सहायता : नगर परिषद ठियोग कई सालों से सरकार से कूड़ा संयत्र लगाने के लिए जमीन व आर्थिक मदद की मांग करती रही है लेकिन इसकी कोई सुनवाई नहीं होने से ठियोग नगर में यह समस्या लगातार बनी हुई है। पिछली नगर परिषदें भी कूड़ा संयत्र के लिए भूमि की मांग व धन के लिए मांग करती रही हैं इसके लिए वर्तमान स्थान के कागजात भी सरकार को भेजे गए थे। ठियोग नगर परिषद के पास अपनी कोई खाली भूमि इस कार्य के लिए नहीं है।

नप को चाहिए आर्थिक मदद: उधर ठियोग नप की अध्यक्षा शांता शर्मा का कहना है कि कई सालों से नप ठियोग कूड़ा ठिकाने लगाने के लिए जमीन व धन की मांग सरकारों से करती रही है। नप ने नगर का कूड़ा शिमला संयंत्रों के ले जाने के लिए निविदाएं की हैं जो पच्चीस मई को खोली जाएंगी। उन्होंने बताया कि ठियोग नप के पास धन व संसाधनों की कमी है जिसके लिए सरकार से मदद की गुहार उन्होंने लगाई है।

एनएच पांच के किनारे फैंसिंग कर यहां फेंका जा रहा है ठियोग का कूड़ा कचरा।

कई सालों से है समस्या :साठ साल से भी पुराने ठियोग नगर में निकलने वाले कूड़े कचरे को ठिकाने लगाने के लिए कोई प्रबंध आज तक नहीं हो पाया है। पहले यहां आबादी व भवन कम होने के कारण कूड़ा कम निकलता था जिसे जंगल में फेंक दिया जाता था लेकिन अब नगर के लगातार विस्तार व आबादी बढ़ने से कूड़े को ठिकाने लगाना एक समस्या बन चुका है।

एनजीटी में चल रही सुनवाईठियोग नगर के कूड़े कचरे से प्रदूषण को लेकर चिखड़ पंचायत की ओर से एनजीटी में मामला ले जाया गया है जिसकी सुनवाई चल रही है। पंचायत के प्रधान राकेश के अनुसार नप के इस कूड़े से आसपास के जंगल, पानी के स्त्रोत दूषित हो रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Thiyog

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×