--Advertisement--

कुफरी, महासू पीक, नारकंडा पर्यटकों से हुए गुलजार

मैदानी इलाकों में पारा चढ़ने और स्कूलों में छुटिट्यों के चलते ठियोग व आसपास के पर्यटक स्थलों में पर्यटकों की आमद बढ़...

Dainik Bhaskar

Apr 23, 2018, 02:10 AM IST
मैदानी इलाकों में पारा चढ़ने और स्कूलों में छुटिट्यों के चलते ठियोग व आसपास के पर्यटक स्थलों में पर्यटकों की आमद बढ़ गई है। कुफरी, चीनी बंगला, महासू पीक, नारकंडा, फागू की सुंदर वादियों में प्रतिदिन हजारों की संख्या में पर्यटक पहुंच रहे हैं। इन क्षेत्रों में शनिवार व रविवार को सबसे अधिक पर्यटक पहुंचते हैं। लेकिन आम दिनों में भी लगातार पर्यटकों का आना जारी है।

स्थानीय लोगों को रोजगार : गर्मियों का पर्यटक सीजन 15 अप्रैल के बाद शुरू हो जाता है। इन पर्यटक स्थलों में आसपास की पंचायतों के हजारों युवा विभिन्न व्यवसायों से अपनी रोजी रोटी कमाते हैं। गर्मियों के इस सीजन के लिए यहां काफी इंतजार किया जाता है। इस साल बर्फ न गिरने के कारण सर्दियों में सीजन काफी मंदा रहा है इस कारण अब व्यवसायियों को समर सीजन से काफी उम्मीदें हैं।

दक्षिण भारत से आ रहे पर्यटक : इन पर्यटक क्षेत्रों में दक्षिण व पश्चिम भारत के आंध्र पदेश, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र आदि राज्यों से अधिकतर पर्यटक आ रहे हैं। महासू पीक में टेलीस्कोप एसोसिएशन के प्रधान नरेन्द्र ख्यौरा ने बताया कि पर्यटकों की संख्या यहां बढ़ने लगी है हालांकि मौसम खराब होने पर यहां कम पर्यटक आते हैं। उन्होंने बताया कि महासू पीक से हिमालय की बर्फ से लदी चोटियों को वे लोग पर्यटकों को टेलीस्कोप से दिखाते हैं।

पर्यटक क्षेत्रों में सुरक्षा के इंतजामों की कमी

इन पर्यटक स्थलों पर पर्यटकों की सुरक्षा के लिए और इंतजामों की जरूरत पर्यटक व स्थानीय लोग चाहते हैं। लोगों के अनुसार यहां गर्मियों में यातायात के अलावा कई बार पर्यटकों को असामाजिक तत्वों से भी परेशानी होती है। कुफरी फागू, महासू पीक आदि में नियमित पुलिस व्यवस्था की जरूरत भी गर्मियों के पर्यटक सीजन में बढ़ जाती है।

मैदानी इलाकों में बढ़ने लगी गर्मी से राहत पाने के लिए हिमाचल की आेर कूच कर रहे लोग

महासू पीक में 200 से अधिक लोगों को रोजगार

ठियोग विकास खंड की बणी पंचायत में आने वाले महासू पीक में 200 से अधिक स्थानीय युवाŸ”ं को पर्यटकों से रोजगार मिलता है। यहां पर दूरबीन से हिमालय के नजारे दिखाने वाले 40 से अधिक टेलीस्कोप वाले युवा हैं। इसके अलावा याक, पहाड़ी ड्रेस, फोटोग्राफर, गाइड आदि का काम करने वाले भी बहुत से युवा रोजगार कमा रहे हैं। कुफरी व चीनी बंगला में सैकडों घोड़े वाले, टैक्सी वालों के अलावा कई प्रकार का व्यवसाय यहां लोग करते हैं। महासू पीक में पर्यटकों के लिए कई एडवेंचर स्पोर्टस भी हैं। हालांकि इसे लेकर यहां सुरक्षा के सवाल भी उठते रहे हैं लेकिन उनका कहना है कि अधिकतर युवा मनाली से प्रशिक्षित हैं। इसके अलावा न्यू कुफरी, महासू, कुफरी आदि में कई एडवेंचर व अन्य रिजार्ट भी यहां पर्यटकों को लुभाते हैं।

पंचायत लेती है स्वच्छता शुल्क : महासू पीक में बणी पंचायत की ओर से पर्यटकों से 10 रुपए पर्यटक शुल्क लिया जाता है। पंचायत प्रधान राजेन्द्र के अनुसार इस पैसे से यहां शौचालयों का संचालन होता है। पर्यटक स्थल के सौंदर्यीकरण और यहां पर्यटकों की सुरक्षा के लिए भी पंचायत कार्य करती है। उन्होंने बताया कि इस साल पंचायत ने 11 लाख की राशि महासू पीक को विकसित करने के लिए रखी है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..