India Result 2019

Check your result now

upcoming Results

Latest Results

  • Rajasthan Board 10th Result 2019 Declared, Check Here

    राजस्थान बोर्ड 10वीं कक्षा का रिजल्ट घोषित. दैनिक भास्कर के इस पेज पर आप अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं, RBSE 10वीं रिजल्ट 2019 की तमाम जानकारी और तजा खबरों के लिए पढ़े दैनिक भास्कर

Related Articles

6वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स के लिए ई कंटेंट लांच, कोरोना अपडेट के लिए भी जारी किया 1800118004 टोल फ्री नं.

पटियाला . कोरोना वायरस के खतरे के बीच एग्जाम पोस्टपोन करने के बाद सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने अपने स्टूडेंट्स व उनके पेरेंट्स के लिए एक हेल्पलाइन सर्विस स्टार्ट की है, जिसके जरिए कोरोनावायरस से जुड़ी जानकारी दी जाएगी और स्टूडेंट्स को जागरूक किया जाएगा। सीबीएसई ने स्टूडेंट्स के लिए टोल फ्री नंबर 1800118004 जारी किया है। इस नंबर पर सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक कॉल किया जा सकता है और कोरोनावायरस से जुड़े सवाल पूछे जा सकते हैं। इस टोल फ्री नंबर पर यह सुविधा 31 मार्च तक जारी रहेगी। 31 मार्च तक स्कूल बंद होने के कारण सीबीएसई ने घर में रह रहे स्टूडेंट्स के लिए अपने दीक्षा ऐप पर अगल-अगल सब्जेक्ट्स के ई-कंटेन्ट भी लॉन्च किया है। ऐप से 6वीं और 10वीं तक के सभी स्टूडेंट्स को पढ़ाई में मदद मिलेगी। दीक्षा एप को स्टूडेंट्स अपने एंड्रॉइड फोन पर इंस्टॉल कर ई-कंटेन्ट डाउनलोड कर सकते हैं। 7वीं से 10वीं तक के सभी बच्चों के लिए स्पेशल प्रश्न बैंक भी उपलब्ध कराएं हैं। यह ई-कंटेंट एनसीईआरटी की ई-पाठशाला के मुताबिक है, जो उमंग ऐप पर उपलब्ध है। इसमें सप्लीमेंटरी रीडिंग मटेरियल के साथ कक्षा 1 से 12 तक की ई-बुक्स भी शामिल हैं। यह मटेरियल अंग्रेजी, हिंदी और उर्दू में भाषा में उपलब्ध है। वहीं बोर्ड ने कोरोनावायरस से जुड़े सेफगार्ड्स बताने के लिए कुछ काउंसलर नियुक्त किए हैं, जो लगातार छात्रों और पैरेंट्स से बात कर रहे हैं और कोरोनावायरस से बचने की सलाह दे रहे हैं। सलाह : अफवाहों पर भरोसा न करें स्टूडेंट्स बोर्ड ने एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है, ताकि उड़ रही अफवाहों पर बच्चें विश्वास न करें। बोर्ड ने नोटिस के जरिए जानकारी दी कि यह नंबर कोरोना वायरस महामारी के बारे में छात्र-छात्राओं को जागरूक करने के लिए जारी किया है। इस नंबर पर पेरेंट्स भी फोन कर सवाल पूछ सकते हैं। ये हेल्पलाइन नंबर केवल 31 मार्च तक ही सक्रिय है। जिस तरीके से एग्जाम मुल्तवी किए गए हैं और 31 मार्च तक लाॅकडाउन किया गया है उसे देखते हुए सीबीएसई ने टोल फ्री नंबर जारी करके बच्चों को अफवाहों से बचाने का प्रयास है। अब बच्चे घर बैठ गए हैं, ऐसे में उनकी स्ट्डी खराब न हो, इसके लिए ई कंटेंट एप पर अपलोड किया गया है। सभी स्कूल सीबीएसई की इस कोशिश को बच्चों तक पहुंचा रहे हैं। - के पवन, चेयरमैन, श्री अरबिंदो इंटरनेशनल पब्लिक

मध्य प्रदेश बोर्ड ने जारी किए 9वीं-11वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम, कोरोना के चलते लिया फैसला

एजुकेशन डेस्क. मध्य प्रदेश बोर्ड ने 9वीं और 11वीं की परीक्षाओं के नतीजे जारी कर दिए हैं। परीक्षा में शामिल हुए स्टूडेंट्स बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट vimarsh.mp.gov.in पर रिजल्ट चेक कर सकते हैं। साथ ही छात्र अपना स्कोर कार्ड भी वेबसाइट पर दिए डायरेक्ट लिंक से चेक कर सकते हैं। कोविड-19 के चलते लिया फैसला मध्य प्रदेश सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए दोनों कक्षाओं के परिणाम हाल ही में लांच हुई नई वेबसाइट, vimarsh.mp.gov.in पर सोमवार को ही जारी किए है। इस के लिए विभाग ने सभी स्कूलों से 9वीं और 11वीं कक्षाओं की परीक्षाओं के परिणाम अपलोड करने का कहा था जिससे स्टूडेंट्स अपने रिजल्ट बिना किसी परेशानी के घर से बाहर निकले आसानी से चेक कर सकें। कोविड ;19 के बढ़ते प्रसार और इसकी रोकथाम के लिए विभाग ने सरकार के प्रयासों को देखते हुए यह निर्णय लिया था। ऐसे करें चेक रिजल्ट सबसे पहले ऑफिशियल वेबसाइट vimarsh.mp.gov.in पर जाएं। यहां होमपेज पर 9वीं- 11वीं के परीक्षा परिणाम के लिंक पर क्लिक करें। अब दिए गए ऑप्शंस में से अपने जिले, ब्लॉक, स्कूल और क्लास को सिलेक्ट करें। उसके बाद डिटेल्स सबमिट करने पर अपना स्कोर कार्ड देख

तनाव दूर करने के लिए सीबीएसई ने स्टूडेंट्स के लिए लाइव टेली-काउंसलिंग सेवा शुरू की

अजमेर। सीबीएसई ने स्टूडेंट्स के लिए कोरोनावायरस सेफ गार्ड टोल फ्री हेल्पलाइन सेवा शुरू की है। यह सेवा 31 मार्च तक जारी रहेगी। इस संबंध में सीबीएसई ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं। सीबीएसई ने कक्षा 10वीं और 12वीं की की परीक्षाएं पहले ही स्थगित कर दी हैं। ये परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए मनोवैज्ञानिक लाइव टेली-काउंसलिंग शुरू की गई है। हेल्पलाइन पर स्टूडेंट्स सुबह आठ बजे से रात 10 बजे तक महामारी कोरोना वायरस पर जागरूकता को लेकर भी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। यह सुविधा एक ही टोल फ्री नंबर 1800118004 पर सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक 31 मार्च तक उपलब्ध है। सचिव अनुराग त्रिपाठी ने बताया कि सीबीएसई ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मेमों के माध्यम से छात्रों / अभिभावकों और स्कूलों को दिशा-निर्देश जारी करने और कोरोना वायरस और इसकी रोकथाम के बारे में जागरूकता पैदा करने या परीक्षा हॉल में बैठने की व्यवस्था में बदलाव के लिए जनता में व्यापक जागरूकता पैदा करने में भी सक्रिय भूमिका निभाई है। एहतियात के तौर पर, 18 मार्च को बोर्ड ने 19 से 31 मार्च के बीच की दसवीं / बारहवीं की शेष परीक्षाएं स्थगित कर दी थीं। इन परीक्षाओं का फिर से निर्धारण करने का फैसला किया और मूल्यांकन कार्य को भी स्थगित कर दिया है। समर्पित कोरोना वायरस सुरक्षित टेली-काउंसलिंग सेवा अतिरिक्त प्रशिक्षित परामर्शदाताओं द्वारा प्रदान की जाएगी। छात्रों / अभिभावकों के साथ चर्चा कर कोरोना प्रसार को रोकने के लिए फर्स्ट एड पर परामर्श करेंगे। न्यूज और फोटो : आरिफ कुरैशी

छत्तीसगढ़ 10वीं-12वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद्द, स्कूल-कॉलेज बंद, शहरी क्षेत्रों मे लगी धारा 144

एजुकेशन डेस्क. देश में लगातार बढ़ रहे कोरना वायरस को रोकने के लिए मध्य प्रदेश के बाद अब छत्तीसगढ़ में भी 10वीं-12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया हैं। गुरुवार को मुख्यमंत्री भूपेश भघेल ने छ्त्तीसगढ़ बोर्ड एग्जाम के साथ ही राज्य में चल रहे सभी परीक्षाओं को स्थगित करने का आदेश दिया। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश के सभी शहरी क्षेत्रों में धारा 144 लगा दी गई है। इसके अवाला सभी स्पा,ब्यूटी पार्लर,मॉल,लाइब्रेरी, कोचिंग सेंटर्स आदि भी बंद कर दिए गए है। यूजीसी ने परीक्षाएं रद्द करने के दिए निर्देश इससे पहले यूजीसी के आदेश के बाद सभी यूनिवर्सिटी और सबंध्द कॉलेज की परीक्षाएं और मूल्यांकन कार्य भी 31 मार्च तक के लिए निरस्त कर दिया गया है। वहीं, दिल्ली सरकार ने भी पहले से ही सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने का आदेश जारी किया था। जिसके बाद गुरुवार को जारी राज्य सरकार के आदेश के बाद टीचिंग और नॉन- टीचिंग स्टाफ के लिए भी सभी स्कूलों को बंद कर दिया हैं। मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों की परीक्षाएं स्थगित कोरोना के चलते मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा में भी बोर्ड परीक्षाओं समेत सभी तरह की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। इसके अलावा सीबीएसई,आईसीएसई और एनटीए ने भी केंद्र के आदेश के बाद अपनी सभी परीक्षाएं 31 मार्च के लिए स्थगित कर दी हैं। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश सरकार ने भी राज्य में होने वाली सभी प्रतियोगी और अन्य परीक्षाएं 2 अप्रैल तक के लिए निरस्त कर दी है।

पंजाब में पहली बार पुलिस के सभी सेंर्ट्स में ट्रेनिंग बंद; 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं भी 31 मार्च तक स्थगित

चंडीगढ़. पंजाब में काेराेना वायरस से माैत और पाॅजिटिव केस मिलने के बाद पंजाब सरकार ने एहतियातन सभी परीक्षाएं 31 मार्च तक स्थगित कर दी हैं और अध्यापकों को छुट्टी पर भेज दिया है। सूबे में इन दिनों बोर्ड एवं दूसरी परीक्षाएं चल रही हैं। ऐसे में सब कमेटी ने बच्चों और शिक्षकों को काेरोना वायरस से बचाने के लिए 10वीं और 12वीं कक्षा की सभी बोर्ड की परीक्षाओं को भी 31 मार्च तक स्थगित कर दिया गया है। कोरोना वायरस के संक्रमण और केंद्र सरकार की एडवाइजरी के मद्देनजर राज्य सरकार ने पंजाब पुलिस के सभी ट्रेनिंग प्रोग्राम तुरंत प्रभाव से बंद कर दिए हैं। पंजाब के शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने बताया कि जरूरत पड़ने पर स्कूलों की इमारतों को आइसोलेशन वार्डों में तब्दील किया जा सकता है। सिंगला ने बताया कि स्कूली गतिविधियों पर अस्थाई तौर पर रोक लगाने के साथ-साथ पंजाब सरकार द्वारा लोगों को इस वायरस के प्रति जागरूक करने के लिए व्यापक स्तर पर मुहिम चलाई गई है। उन्होंने कहा कि इस मुहिम के तहत राज्य के हर गांव और शहरों के हर वार्ड में स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में प्रशिक्षण प्राप्त टीमों द्वारा लोगों को घर-घर जाकर कोरोना वायरस के लक्षणों और इससे बचने के लिए एहतियाती कदमों के बारे में सचेत किया जा रहा है। ‘पब्लिक डीलंग्स’; तत्काल प्रभाव से बंद इसके अलावा अपने कर्मचारियों का ध्यान रखते हुए सरकारी कार्यालयों में सभी प्रकार की ‘पब्लिक डीलंग्स’; तत्काल प्रभाव से बंद कर दी गई है। मंत्री ने कहा कि मंत्री समूह ने विवाह और अंतिम संस्कार जैसे किसी भी समारोह के लिए लोगों की संख्या को 20 तक सीमित करने का भी निर्णय लिया है। पहले यह संख्या 50 तय की गई थी। ऐसे समारोहों के आयोजकों को हैंड वॉशिंग प्रोटोकॉल और उचित सफाई का पालन करने की सलाह दी गई है। सभी हवालातियों को नहीं रखा जाएगा एक साथ इसके साथ ही सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी झगड़ में अगर दो से अधिक लोगों को हवालात में बंद करने की आवश्यकता पड़ती है तो उन्हें एक जगह इकट्ठा न रखा जाए। इसके लिए आसपास के थानों से संपर्क कर उन्हें वहां अलग अलग रखा जाए ताकि कोरोनावायरस के खतरे से बचा जा सके। बहादुरगढ़ पंजाब पुलिस एकेडमी बंद इनमें पीएपी, फिल्लौर, बहादुरगढ़ पंजाब पुलिस एकेडमी, जहानखेलां में चल रहे सेंटर्स पर ट्रेनिंग बद कर दी गई है। इन सभी ट्रेनिंग सेंटर्स पर वर्तमान समय में लगभग 3000 कर्मचारियों की ट्रेनिंग चल रही थी, जिसे तुरंत स्थगित कर दिया गया है। यह फैसला डीजीपी, होम सेक्रेटरी और अन्य विभागीय अधिकारियों की संयुक्त मीटिंग के बाद लिया गया। प्रदेश में ऐसा पहली बार किया गया। डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि स्थिति नियंत्रित होने के बाद ट्रेनिंग दोबारा शुरू कर दिया जाएगा। फिलहाल अगले आदेशों तक सभी सेंटर्स पर ट्रेनिंग स्थगित रहेगी। स्टेट बैंक में बारी-बारी से 5-5 लोगों को ही अंदर जाने की इजाजत सादिक में पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस के बढ़ने से भारतीय स्टेट बैंक की सादिक शाखा ने अब बैंक का गेट बंद कर काम करना शुरू किया है। इसके तहत अंदर जाने वाले ग्राहकाें की संख्या पांच तक सीमित कर दी गई है। 5 लोगों के काम संपन्न होने के बाद उनके बाहर जाने पर ही फिर 5 लोगों को अंदर जाने दिया जा रहा है। बैंक प्रबंधकों ने बताया कि यह वैकल्पिक प्रबंध कोरोना वायरस का प्रकाेप कम हाेने तक लागू रहेगा। सतर्कता केरल से पहुंची नर्स को आइसोलेशन वार्ड में रखा संगरूर में कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी ने बताया कि केरल से संगरूर पहुंची स्टाफ नर्स को निगरानी के लिए आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। हालांकि, कोरोना के लक्षण नजर नहीं आ रहे, लेकिन केरल में कोरोना का अधिक असर के चलते सावधानी बरती जा रही है। अब तक संगरूर में 5 शकी मरीजों की जांच निगेटिव आई है। नोवल कोरोना वायरस के चलते मेडिकल स्पेशलिस्ट वॉक इन इंटरव्यू स्थगित लुधियाना में कोरोना के चलते सेहत महकमे द्वारा लिया जाने वाला मेडिकल अफसर (स्पेशलिस्ट) का वॉक इन इंटरव्यू स्थगित कर दिया गया है। सेहत महकमे ने इस पोस्ट के लिए 360 पदों का इंटरव्यू 20 व 21 मार्च को चंडीगढ़ में रखा था। अगली तारीख बाद में घोषित की जाएगी। 31 तक सालासर और खाटू श्याम मंदिर के कपाट बंद अबोहर में प्रशासन ने पब्लिक प्लेस पर ज्यादा लाेगाें के जुटने पर राेक लगा दी है। इसके तहत जिला प्रशासन और धार्मिक संस्थाओं ने एहतियात बररते हुए अलग-अलग आदेश जारी किए हैं। राजस्थान में श्रद्धालुओं के लिए विशेष आस्था के केंद्र सालासर में श्रीबालाजी धाम और खाटू श्याम मंदिर को 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला किया गया

यूपी बोर्ड की परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन 2 अप्रैल तक टला, नई तारीख का ऐलान नहीं

एजुकेशन डेस्क.कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों का असर अब सिर्फ परीक्षा पर ही नहीं बल्कि इसके मूल्यांकन और रिजल्ट पर भी पड़ने लगा है। उत्तर प्रदेश में 2 अप्रैल तक स्कूल बंद करने और बच्चों को अगली कक्षा में प्रोन्नत करने के फैसले के बाद अब यूपी बोर्ड की परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन भी दो अप्रैल तक स्थगित हो गया है। इस बारे में माध्यमिक शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव आराधना शुक्ला के जानकारी देने के बाद 16 मार्च से शुरू हुई यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं का मूल्यांकन अगले महीने की दो तारीख तक टाल दिया है। मूल्यांकन की अगली तारीख तय नहीं दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन स्थगित होने के बाद फिलहाल माध्यमिक शिक्षा विभाग की तरफ से इसकी अगली तारीख को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। इसका मतलब है कि 2 अप्रैल के बाद कॉपियों के मूल्यांकन को लेकर अगली तारीख तय नहीं हुई है। वहीं, आशंका जताई जा रही हैं कि कॉपियों के मूल्यांकन टलने और अगली तारीख के तय ना होने से इस बार बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट में भी देरी हो सकती है। इससे पहले दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं का रिजल्ट अप्रैल में आना तय था, जो अब मुश्किल लग रहा है। 3 करोड़ कॉपियों का मूल्यांकन रुका इस साल दसवीं और बारहवीं के लिए 56.7 लाख स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया था, जिनमें से करीब पौने पांच लाख स्टूडेंट्स ने परीक्षा छोड़ दी। जिसके बाद अब लगभग तीन करोड़ कॉपियों का मूल्यांकन किया जाना है। इससे पहले कोरोना के बढ़ते प्रकोप की वजह से शिक्षक संघ ने भी कॉपियों के मूल्यांकन को स्थगित करने की मांग की थी। इसी वजह से पहले दिन 41 फीसदी शिक्षक कॉपी चैकिंग के लिए नहीं पहुंचे थे। इस पर जब अनुपस्थित शिक्षकों को डीआईओएस ने नोटिस जारी किया तो शिक्षकों ने बीमार होने और बाहर होने का हवाला दिया था।

मध्‍यप्रदेश 12वीं बोर्ड के पेपर लीक मामले में नया मोड़,एक दिन पहले व्हॉट्सएप पर वायरल हुआ पेपर

एजुकेशन डेस्क. मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा जारी है। इसी बीच अशोक नगर जिले में लीक हुए 12वीं के फिजिक्स के पेपर के मामले ने अब नया मोड़ ले लिया है। अभी तक दावा किया जा रहा था कि पेपर एक घंटे पहले लीक हुआ था, लेकिन अब यू-ट्यूब पर 2 मिनट 11 सेकंड का वीडियो में वायरल हो रहा है, जिसके मुताबिक यह पेपर कुछ छात्रों को एक दिन पहले ही मिल चुका था। सबूत के तौर पर यू-ट्यूब में बताया जा रहा है कि कुछ छात्रों को व्हॉट्सएप के जरिए 12 मार्च को ही पेपर मिल गया था। जिसके बाद जब वह पेपर देने पहुंचे तो पेपर में प्रश्न वही मिले जो व्हॉट्सएप पर भेजे गए थे। बोर्ड अधिकारियों पर उठ रहे सवाल यू-ट्यूब में यह वीडियो वायरल होते ही हरकत में आए माध्यमिक शिक्षा मंडल अधिकारियों ने पुलिस विभाग को एक पत्र लिखकर प्रकरण की जांच करने को कहा है। वहीं दूसरी ओर बोर्ड के अधिकारियों से इस मुद्दे पर सवाल पूछे जा रहे हैं। इस पर अधिकारियों का कहना है कि कुछ शरारती तत्व इस तरह की गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं,जिससे बोर्ड की निर्बाध परीक्षा प्रक्रिया को बाधित किया जा सकें। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच कर रही है। 2 मार्च से शुरू हुई परीक्षा इस बार प्रदेश में 12वीं की परीक्षा 2 मार्च और 10वीं की परीक्षा अगले दिन 3 मार्च से शुरू हुई। बोर्ड परीक्षा में पिछली बार की तुलना में इस साल 78,450 ज्यादा स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया है। साल 2019 में 18,59,858 स्टूडेंट्स परीक्षा में शामिल हुए थे, जबकि इस साल कुल 19,30,308 स्टूडेंट्स बोर्ड की परीक्षा देंगे। वहीं, कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते राज्य को सभी शिक्षण संस्थान अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिए हैं। हालांकि, बोर्ड की परीक्षा तय शेड्यूल के मुताबिक जारी

हाउसिंग बोर्ड में 14 हजार फौजियों के फंसे‌ एक हजार करोड़ रुपए; 6 साल बाद स्थान बदलकर फ्लैट देने का ऑफर, कीमत बढ़ेगी

चंडीगढ़ (मनोज कुमार). राज्य में कांग्रेस की सरकार के दौरान छह साल पहले हाउसिंग बोर्ड की ओर से सेवारत और सेवानिवृत्त फौजियों को किफायती दर पर आशियाना का दिखाया गया सपना अभी तक पूरा नहीं हो पाया है। इस योजना को पांच साल से ज्यादा समय से सत्ता पर काबिज भाजपा की सरकार भी पूरा नहीं कर पाई। अब बोर्ड की ओर से पूर्व में फ्लैट के लिए निर्धारित किए गए स्थान को बदलने की तैयारी की जा रही है। फौजियों को पत्र भेजकर बदले गए स्थान पर फ्लैट लेने की सहमति या असहमति मांगी जा रही है। यदि असहमति जताई तो जमा कराई गई राशि वापस की जाएगी। यानि अब बोर्ड उन्हें कहीं भी यानि उनकी नापसंद जगह पर भी फ्लैट दे सकता है। खास बात यह है भी है कि जमीन और फ्लैट की लागत बढ़ने पर फौजियों को पैसे ज्यादा भी देने पड़ सकते हैं। बोर्ड की ओर से झज्जर और फरीदाबाद में फ्लैट के रेट 2018 में बढ़ा चुका है। यहां पर 3.20 लाख से 4.30 लाख रुपए प्रति फ्लैट के रेट किए गए हैं। छह साल के इंतजार के बाद भी फौजियों को उनकी पसंद की जगह फ्लैट मिलना मुश्किल है। जबकि फौजी इस स्कीम में करीब एक हजार करोड़ रुपए पूर्व में ही जमा करा चुके हैं। लगातार दबाव के बाद अब बोर्ड स्थान बदलने के नोटिस फौजियों को भेज रहा है। लेने और देने में ब्याज की दर अलग-अलग हाउसिंग बोर्ड की ब्याज की नीति अलग-अलग है। यदि बोर्ड को किसी से पैसे लेने हैं और उसमें देरी होती है तो वह 18 फीसदी ब्याज लेता है। जबकि लोगों का जमा पैसा वापस करने होते हैं तो वह 5.2 फीसदी ब्याज के हिसाब से अदा करता है। इस स्कीम के मामले में भी अधिकारियों का कहना है कि बोर्ड की पॉलिसी में 5.2 फीसदी ब्याज देने का प्रावधान है। यह है मामला हाउसिंग - हाउसिंग बोर्ड ने 2014 में जेसीओ रैंक या समकक्ष सेवारत/सेवानिवृत्त फौजियों और पैरामिलिट्री जवानों व उनके परिवारों के लिए 11 जिलों में 19 स्थानों पर स्कीम लांच की थी। 13696 फ्लैट बनने थे। इनमें टाइप ए श्रेणी में 720 वर्ग फीट साइज के 6848 फ्लैट और टाइप बी श्रेणी में 600 स्क्वायर फीट के भी 6848 फ्लैट की स्कीम थी। 17 फरवरी 2014 से 28 मार्च 2014 के बीच इस स्कीम में हजारों की संख्या में आवेदन हुए। 31 दिसंबर 2014 को ड्रा निकाला गया। सफल आवेदकों ने फरवरी 2015 में कुल निर्धारित फ्लैट कीमत की 25 प्रतिशत राशि एडवांस किश्त के रूप में जमा की। अनुमान के अनुसार फौजियों ने लगभग 600 करोड़ रुपए जमा कराए, जो पांच साल बाद एक हजार करोड़ रुपए के आस-पास हो चुके हैं। ये फ्लैट पंचकूला में ही बने हैं। फरीदाबाद, गुड़गांव, रोहतक, पंचकूला, पिंजौर, रेवाड़ी, महेंद्रगढ़, झज्जर, सांपला और बवानी खेड़ा में भी बनने थे। ज्यादातर जगह अभी तक जमीन ही एक्वायर नहीं की गई है। गुड़गांव में हुआ तीन बार जगह में बदलाव गुड़गांव में इस फ्लैट स्कीम के तहत बीते पांच साल में तीन बार स्थान बदले जा चूके हैं। सबसे पहले स्कीम लांच करते समय सेक्टर- 40 दर्शाया गया। उसके बाद स्थान बदलकर सेक्टर-102 ए कर दिया। पांच वर्ष तक अलॉटियों को सेक्टर-102 ए में फ्लैट बनाने का आश्वासन दिया गया लेकिन अब सेक्टर-102 ए से स्थान बदलकर सेक्टर- 106 कर दिया। मांग-18% ब्याज के साथ लौटाए राशि ऑल हरियाणा वेलफेयर रेजिडेंट्स सेक्टर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप वत्स ने कहा कि हाउसिंग बोर्ड की लापरवाही का खामियाजा हजारों सैनिकों व अर्धसैनिक बल के जवानों को भुगतना पड़ रहा है। बोर्ड को बिना जगह एक्वायर किए इतनी बड़ी फ्लैट स्कीम लांच नहीं करनी चाहिए थी। ये हजारों सैनिकों व उनसे जुड़े परिवारों के साथ धोखा है। सरकार को चाहिए कि वह दखल देकर रिफंड की राशि 18 फीसदी ब्याज के साथ वापस दिलाए। स्कीम पर काम किया जा रहा हाउसिंग बोर्ड के मुख्य प्रशासक शालीन ने कहा कि फौजियों की स्कीम पर काम किया जा रहा है। अप्रैल तक टेंडर किए जाएंगे। इसके बाद 3 माह में फ्लैट का काम शुरू होगा। सरकार फौजियों के फ्लैट को लेकर गंभीर

हरियाणा बोर्ड की परीक्षाएं बनीं मजाक, 7वां पेपर भी 15 मिनट में वायरल

टीम हरियाणा. नकल के आगे पूरा सिस्टम नतमस्तक है, क्योंकि गुरुवार को हरियाणा बोर्ड का लगातार सातवां पेपर भी परीक्षा शुरू होने के 15 मिनट में ही वायरल हो गया। यह दसवीं का अंग्रेजी का पेपर था, लिहाजा हर जिले में बेरोक-टोक नकल का अभियान जैसा चलता दिखा। कहीं स्कूल की पूरी बाउंड्री नकल कराने वालों से अटी दिखी तो कहीं मोबाइल से स्टूडेंट पेपर साल्व करते दिखे। इस पर बोर्ड के चेयरमैन डॉ जगबीर सिंह ने कहा कि हम पूरी कोशिश कर रहे हैं, पर टीचर ही नकल करा रहे हैं तो क्या करें, जबकि शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर का कहना है कि हम काफी सख्त हैं। फिर भी वाट्सएप से पेपर बाहर आ रहे हैं, पक्का इलाज अगली बार करेंगे। अब अलगे 18 दिनों में 20 पेपर और होने हैं। यह जिम्मेदारी लेने वाला कोई नहीं है कि आगे के पेपर वायरल नहीं होंगे। पहले दिन से लेकर अब तक सभी पेपर परीक्षा शुरू होते ही कुछ देर में फोन पर बाहर आते हैं। इसी के आधार पर नकल चलती रहती है। बोर्ड का यह तर्क नकल में मददगार: बोर्ड का तर्क है कि परीक्षा शुरू होने के बाद पेपर वायरल होता है तो उसमें हम कुछ नहीं कर सकते। परीक्षा शुरू होने से पहले पेपर बाहर आता है तो उसे लीक मानकर पेपर रद्द किया जाता है। रोल नंबर के साथ वायरल हो गया पेपर गुरुवार को दोपहर 12:30 बजे 10वीं का अंग्रेजी का पेपर शुरू हुआ। 12:45 बजे पानीपत के इसराना तो चरखीदादरी में छात्रा के रोल नंबर सहित पेपर वायरल हो गया। नकल के 401 मामले दर्ज भी किए गए। 15 सुपरवाइजर ड्यूटी से रिलीव किए गए। 4 केंद्रों की परीक्षा रद्द की गई है। 2 ऐसे लोगों पर केस दर्ज किया गया है जो दूसरे की जगह परीक्षा दे रहे थे। गुरुवार को 12 मोबाइल भी जब्त किए गए हैं। अब तक कुल 1683 केस दर्ज किए जा चुके हैं। एक्सपर्ट ने सुझाए नकल रोकने के दो तरीके -दिलबाग सिंह, पूर्व वाइस चेयरमैन, हरियाणा शिक्षा बोर्ड। नकल में शामिल शिक्षकाें पर कठोर कार्रवाई होगी तो खुद नकल रुक जाएगी। पेपर परीक्षा केंद्रों से ही आउट हो रहे हैं। सीबीएसई की तरह की ठोस प्लानिंग चाहिए। हमारी प्लानिंग ग्राउंड पर लागू ही नहीं होती। बोर्ड व विभाग में तालमेल जरूरी है। जब बाड ही खेती को खाने लगे ताे क्या कहा जाए: बोर्ड चेयरमैन बोर्ड चेयरमैन डॉ जगबीर सिंह- बोर्ड पूरा प्रयास कर रहा है। जब बाड ही खेती खाने लगे ताे क्या कहा जा सकता है। आज ही हमने महेंद्रगढ़ में 9 मोबाइल समेत 12 सेल फोन जब्त कर पुलिस को सौंपे गए हैं। पुलिस पता करेगी कि पेपर आउट करने वाले कौन हैं। जबकि होना ये चाहिए... 20 पेपर अभी और होने हैं। इनमें नकल रोकने के लिए तालमेल के साथ काम करके उदाहरण पेश करने की जरूरत है। किसी ने खिड़की से फोटो खींचकर वायरल किया: शिक्षा मंत्री शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर- यह पेपर आउट नहीं हुआ है। किसी ने खिड़की से मोबाइल से फोटो खींचा और सोशल मीडिया पर वायरल किया है। हम सख्ती कर रहे हैं। आगे से सुझाव मांग कर ठोस प्लानिंग की जाएगी। जबकि होना ये चाहिए... नकल में संलिप्त पाए गए शिक्षकों पर कठोर कार्रवाई कर तत्काल प्रभाव से नकल को रोका जा सकता

हाउसिंग बोर्ड 872 बीघा जमीन से अतिक्रमण हटा सकेगा और 350 करोड़ बकाया कर सकेगा वसूल

जयपुर. राजस्थान विधानसभा में गुरुवार को राजस्थान आवासन बोर्ड (संशोधन) विधेयक-2020 ध्वनिमत से पारित हुआ। इस विधेयक के पारित होने से हाउसिंग बोर्ड की शक्तियों में इजाफा होने से सशक्त हुआ है। अब बोर्ड खुद की भूमि और उस पर बनी हुई सम्पत्ति से अतिक्रमण हटा सकेगा। इसके साथ ही बोर्ड को यह अधिकार मिला है कि वह किश्तों की बकाया राशि एवं लीजमनी की बकाया राशि को वसूल कर सकेगा। बोर्ड ऐसे सम्पत्ति मालिकों के खिलाफ भी कुर्की की कार्रवाई करेगा, जिन्हांेने बकाया राशि का भुगतान ही नहीं किया है। बकाया वसूली के अधिकार मिलने से बोर्ड की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी हाउसिंग बोर्ड कमिशनर पवन अरोड़ा ने बताया कि बोर्ड की योजनाओं में भूमि अधिग्रहण के बाद अन्य सुविधाएं डवलप करने व आवासों का निर्माण करने के बाद आमजन को आवंटित करने में समय लगता है। इस अवधि में कई बार अतिक्रमियों द्वारा सम्पत्ति पर अवैध कब्जा या अतिक्रमण कर लिया जाता था, लेकिन इनको हटाने की शक्तियां आवासन बोर्ड अधिनियम में नहीं थी। राजस्थान आवासन बोर्ड अधिनियम 1970 खण्ड 2 में धारा 51 ख जोड़ी गई है, जिससे मंडल को यह अधिकार मिल गया है कि वह अपनी सम्पत्ति से खुद अतिक्रमण हटा सकेगा। अधिनियम 1970 के खण्ड 2 में धारा 51 क जोड़ी गई अरोड़ा ने बताया हाउसिंग बोर्ड अधिनियम 1970 के खण्ड 2 में धारा 51 क जोड़ी गई है। इसमें आवंटियों से किश्तों की राशि और लीज मनी वसूलने का अधिकार होगा। बकाया न चुकाने वालों की सम्पत्ति की कुर्की का भी अधिकार होगा। विकास एवं आवासन मंत्री शांति धारीवाल ने विधेयक को चर्चा के लिए सदन में प्रस्तुत किया। विधेयक पर सदन में हुई चर्चा के बाद धारीवाल ने कहा कि हाउसिंग बोर्ड द्वारा पूर्व में बनाए गए करीब 23 हजार आवास बिक्री के अभाव में पड़े हुए जर्जर हो रहे थे, इसलिए 25 से 50 प्रतिशत तक की छूट देकर इनकी बिक्री की जा रही है। अवैध निर्माण हटाने का जिम्मा नगरीय निकायों का ही धारीवाल ने कहा हाउसिंग बोर्ड की भूमि से ही अतिक्रमण हटाने का अधिकार दिया गया है। आवासीय कॉलोनियों में अवैध निर्माण हटाने का जिम्मा नगरीय निकायों का ही है। अतिक्रमियों को धारा-51 के तहत सजा का प्रावधान कोर्ट के माध्यम से ही है। ऐसा नहीं है कि किसी आरोप पर बोर्ड अधिकारियों पर कार्यवाही नहीं होगी। किसी अधिकारी पर लगे आरोपों का आधार होगा तो अधिकारियों पर भी कार्यवाही होगी। बोर्ड से संबंधित पौने चार हजार प्रकरणों के निस्तारण के लिए समझौता समिति तथा लोक अदालतें बनाने पर भी विचार किया जा रहा

दसवीं की बोर्ड परीक्षा में दो फर्जी परीक्षार्थी पकड़े, जीजा की जगह साला और साले की जगह जीजा दे रहा था एग्जाम

भरतपुर. जिले के बयाना कस्बे में धाधरैन गांव के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के परीक्षा केंद्र पर गुरुवार को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 10 वीं कक्षा में अंग्रेजी की परीक्षा दे रहे दो फर्जी परीक्षार्थी रंगे हाथ पकड़े गए हैं। जानकारी के अनुसार कन्जोली निवासी आरोपी लोकेन्द्र अपने जीजा अजब सिंह के स्थान पर परीक्षा दे रहा था। वह कोतवाली थाना क्षेत्र में ही खिरकवास का निवासी है। आरोपी लोकेन्द्र का भारतीय वायुसेना में चयन हो चुका है। उसे 30 मार्च को अपनी उपस्थिति दर्ज करवानी है। साले की जगह परीक्षा दे रहा था जीजा वहीं, गिरफ्तार हुआ दूसरा आरोपी लक्ष्मण सिंह महवा तहसील के नाहिड़ा गांव का रहने वाला है। वह नगला ज्ञानी निवासी अपने साले की जगह परीक्षा दे रहा था। परीक्षा कक्ष में तैनात वीक्षक को उनके हुलिये और मौजूद रिकाॅर्ड में मेल नहीं खाने पर शक हुआ। तब उसने इसकी सूचना केन्द्राधीक्षक को सूचना दी। उच्चाधिकारियों के निर्देंश पर केन्द्र अधीक्षक और प्राचार्य राकेश गोयल ने कोतवाली थाना पर सूचना दी। तब पुलिस दोनों आरोपियों को पकड़कर ले गई। उनके खिलाफ केंद्राधीक्षक द्वारा रिपोर्ट दी गई है। हो सकता है बड़ा खुलासा पकड़े गये दोनों आरोपियों की मानें तो धाधरैन स्थित इसी केन्द्र पर ऐसे लगभग दो दर्जन से अधिक मामले सामने आ सकते हैं। पूरे खेल का मास्टरमाइण्ड मदनपुर में पंजीकृत लेकिन वास्तव में नगला ज्ञानी से संचालित एक माध्यमिक स्कूल का संचालक बताया जा रहा है। जो भारतीय सेना में भर्ती कराने के लिये जन्मतिथि में हेराफेरी करने के लिये पहले से ही 10 वीं की परीक्षा पास अभ्यर्थियों को दोबारा से बदली हुयी जन्मतिथि अंकित कर परीक्षा दिलवाता था। फोटो व रिपोर्ट: महेश शर्मा,

16 मार्च से शुरू होंगी यूपी बोर्ड की कॉपी चैकिंग, 103 परीक्षकों को मूल्यांकन प्रक्रिया से किया वंचित

एजुकेशन डेस्क. यूपी बोर्ड की परीक्षाएं होने के बाद अब कॉपियों की चैकिंग की तैयारियां की जा रही है। इसके लिए मूल्यांकन की पूरी मॉनिटरिंग लखनऊ से की जाएगी। राज्य में कॉपी चैकिंग के लिए बनाए गए 5 केंद्रों में 16 मार्च 10वीं और 12वीं की कॉपियों की जांच की सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में की जाएंगी। इस बार 24 अप्रैल तक यूपी बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट घोषित होने की संभावना है। इस बार मूल्यांकन केंद्रों में 12 लाख कॉपियां चैक की जाएंगी। इसके लिए केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे आदि की मरम्मत की जा रही है। साथ ही इस दौरान केंद्रों पर पुलिस बल भी तैनात किए जाएंगे। 103 परीक्षक मूल्यांकन प्रक्रिया में नहीं होंगे शामिल वहीं मूल्यांकन की प्रक्रिया शुरू होने से पहले राज्य माध्यमिक शिक्षा परिषद ने परीक्षा के दौरान अनियमितताओं और लापरवाही में लिप्त पाएं गए कुल 103 परीक्षकों को मूल्यांकन की प्रक्रिया में शामिल होने से रोक दिया हैं। इनमें आगरा से 12, मेनपुरी से 53, एटा से 11, अलीगढ़ से 26 और मथुरा से 1 परीक्षक शामिल हैं। परिषद के मुताबिक इन परीक्षकों में उनके नाम शामिल है जो पिछले साल मूल्यांकन और इस साल परीक्षा के दौरान अनियमितताओं और लापरवाही में लिप्त पाएं गए। 4.5 लाख से ज्यादा ने छोड़ी परीक्षा वहीं, इससे पहले उत्तर प्रदेश के 5 जिलों के 72 एग्जाम सेंटर्स पर हुई 10वीं- 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद्द कर दी गईं। परीक्षा हुई अनियमितता के चलते डिस्ट्रिक इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल ने यह फैसला लिया। परीक्षा में पाईं गई विसंगतियों के बाद प्रयागराज,बलिया, गाजीपुर, मऊ और अलीगढ़ में हुई परीक्षा को रद्द कर दिया गया था। इस बार यूपी बोर्ड की परीक्षा में 56 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया था। इसमें से करीब 4,68,804 बच्चों ने परीक्षा में सख्ती के चलते एग्जाम्स छोड़ दिया।

10वीं बोर्ड परीक्षा में ‘आजाद कश्मीर’ से जुड़े 2 सवाल पूछे गए, पेपर तैयार करने वाले अधिकारी समेत 2 सस्पेंड

इंदौर. मध्य प्रदेश में 10वीं की बोर्ड परीक्षा में ‘आजाद कश्मीर’; को लेकर 2 सवाल पूछे गए हैं। इन पर विवाद खड़ा हो गया है। इस मामले में पर भाजपा ने कड़ी आपत्ति जताई है। आगर-मालवा में विरोध स्वरूप परीक्षा बोर्ड का पुतला फूंका गया। सरकार ने प्रश्न पत्र सेट करने वाले और मॉडरेट करने वाले दो अधिकारियों को शनिवार को निलंबित कर दिया। दरअसल, सामाजिक विज्ञान के पेपर में सही जोड़ी मिलाने वाले सवाल में ‘आजाद कश्मीर’; का विकल्प लिखा है। वहीं, दूसरे प्रश्न में भारत के मानचित्र में ‘आजाद कश्मीर’; दर्शाने के लिए कहा गया। पाकिस्तान पीओके को ‘आजाद कश्मीर’; कहता है जबकि भारत आजादी के समय से ही इस हिस्से को ‘गुलाम कश्मीर या पाक अधिकृत कश्मीर’; कहता आ रहा है। इस मामले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने भी संज्ञान लिया है। आयोग ने इसे आपराधिक कृत्य मान कर माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव से 7 दिन में जवाब मांगा है। सूत्रों के अनुसार, पेपर सेट करने के लिए तीन स्तरीय मॉडरेशन कमेटी बनाई जाती है। कमेटी का प्रमुख 5 सदस्यों का पैनल बनाता है। सभी सदस्य अलग-अलग पेपर तैयार करते हैं और इसे कमेटी के प्रमुख के पास जमा करते हैं। फिर प्रमुख 2 सदस्यों से फाइनल पेपर सेट कराता है, इसे प्रूफ के लिए दिया जाता है। इसके बाद कमेटी का प्रमुख पेपर की जांच करता है और गोपनीय दस्तावेज के तौर पर इसे प्रिंटिंग के लिए भेज देता है। सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रियाएं नरेंद्र मोदी फैन ने खिला- हे भगवान, मध्य प्रदेश में 15 साल लगातार भाजपा की सरकार रही, कभी ऐसा सवाल परीक्षा में नहीं आया। कांग्रेस की सरकार आते ही आजाद कश्मीर के सवाल हैं, कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ। मिथिलेश कुशवाहा ने खिला- यह मात्र एक गलती नहीं, सोच-समझ कर की गई गलती है। यह देश के सैनिकों और देश के लिए कुर्बान शहीदों का अपमान है। वहीं, राजीव पटेल ने लिखा- देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाए। हे भगवान मध्यप्रदेश में 15 साल लगातार BJP की सरकार रही, कभी ऐसा प्रश्न पत्र में सवाल नही आया कांग्रेस की सरकार आते ही आज़ाद कश्मीर के सवाल है कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ — Narendra Modi fan (@narendramodi177) March 7, 2020

उत्तर प्रदेश के 5 जिलों में हुई 10वीं- 12वीं की परीक्षाएं रद्द, 12 मार्च को फिर से होगी परीक्षा

एजुकेशन डेस्क. उत्तर प्रदेश के 5 जिलों के 72 एग्जाम सेंटर्स पर हो चुकी 10वीं- 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं। परीक्षा हुई अनियमितता के चलते डिस्ट्रिक इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल ने यह फैसला लिया। परीक्षा में पाईं गई विसंगतियों के बाद प्रयागराज,बलिया, गाजीपुर, मऊ और अलीगढ़ में हुई परीक्षा को रद्द कर दिया गया है। 12 तारीख को नए सेंटर में होगी परीक्षा इस बारे में बोर्ड सेक्रेटरी नीना श्रीवास्तव ने बताया कि रद्द हुई परीक्षा 12 मार्च को सुबह 8 से 11.15 के बीच दोबारा कराई जाएगी। इसके लिए डिस्ट्रिक इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल इन पांचों जिले में नए परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। बोर्ड के आदेश के मुताबिक 20 फरवरी को मऊ के 67 परीक्षा केंद्र में हुई 12वीं की फिजिक्स की परीक्षा रद्द कर दी गई है। जिसे अब नए परीक्षा केंद्र में 12 मार्च को फिर से कराया जाएगा। इसी तरह 26 फरवरी को प्रयागराज के दो सेंटर्स पर हुई परीक्षा भी रद्द कर दी गई हैं। 20,29 और 26 तारीख की परीक्षा रद्द साथ ही 20 फरवरी को बलिया के श्री पंच राजमुनी देवी इंटर कॉलेज में हुई 12वीं की फिजिक्स और 29 फरवरी को अलीगढ़ के आदर्श जनोद्वार इंटर कॉलेज में हुई 10वीं की साइंस की परीक्षा भी रद्द कर दी गई है। साथ ही 26 फरवरी को गाजीपुर के जयनाथ इंटर कॉलेज में हुई 12वीं की फिजिक्स की परीक्षा स्थगित कर दी गई

65 साल के दादा दे रहे हैं 12वीं की परीक्षा, ताकि 10वीं में पढ़ने वाले पोते को पढ़ा सके

कैथल. यहां 65 साल के सतपाल इस बार हरियाणा ओपन स्कूलिंग बोर्ड से 12वीं कक्षा की परीक्षा दे रहे हैं। सतपाल ने 12वीं की पढ़ाई का फैसला इसलिए लिया, क्योंकि वह 10वीं में पढ़ने वाले अपने पोते निशांत को गाइड कर सके। उन्होंने 45 साल पहले 10वीं की परीक्षा दी थी। इसके बाद अब वह किसी परीक्षा में बैठे हैं। सतपाल के इस फैसले से पोता निशांत भी खुश है और वो भी अपने दोस्तों को खुश होकर बताता है कि उसका दादा 12वीं कर रहा है। खेती करते हैं लेकिन फिर भी सुबह-शाम पढ़ते हैं कैथल के देवीगढ़ गांव में रहने वाले सतपाल घर चलाने के लिए खेती और पशुपालन करते हैं। इसके बावजूद वे सुबह और शाम को पढ़ने का समय निकाल रहे हैं। सतपाल सुबह 4 बजे उठते हैं और करीब एक घंटा पढ़ाई करते हैं। इसके बाद दिन में 2 से 5 बजे तक पढ़ते हैं। वे अपने पोते के साथ बैठकर भी पढ़ाई करते हैं। पढ़ने की कोई उम्र नहीं, 12वीं के बाद करूंगा ग्रेजुएशनः सतपाल सतपाल के इरादे बुलंद हैं। वे कहते हैं कि पढ़ने की कोई उम्र नहीं है। 12वीं करने के बाद वे रूकेंगे नहीं। इसके बाद ग्रेजुएशन भी करेंगे। इसके लिए उन्होंने पूरा मन बना लिया है। पोता बोला- दादा की मदद करता हूं सतपाल का पोता निशांत कहता है कि उसके दादा, कई बार उन्हीं के साथ बैठकर पढ़ते हैं। उन्हें कुछ समझ नहीं आता तो हमसे पूछ लेते हैं। दादा के बारे में उसकी क्लास में पढ़ने वाले स्टूडेंट भी पूछते

दूसरे दिन फिर परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट बाद सोशल मीडिया पर वायरल हुआ 10वीं का पेपर

पानीपत। हरियाणा बोर्ड की 10वीं कक्षा का सामाजिक विज्ञान का बुधवार को पेपर था। परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट बाद ही पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। पेपर वाट्सएप पर मौजूद था। लोगों ने इसे लगातार ग्रुप में शेयर किया। इसके बाद परीक्षा केंद्रों के बाहर मौजूद लोगों ने नकल बना-बनाकर परीक्षा केंद्रों के अंदर बैठे छात्रो तक पहुंचाई।एक बार फिर हरियाणा सरकार और विद्यालय शिक्षा बोर्ड नकल रोकने के नाकामयाब रहा। हालांकि अभी तक यह पुष्टि नहीं हुई है कि पेपर वाट्सएप पर कहां से लीक हुआ है। इस बारे में बोर्ड ने अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है। मंगलवार को 12वीं का पेपर हुआ था वायरल मंगलवार को प्रदेशभर में 12वीं कक्षा का हिंदी विषय का पेपर था। परीक्षा शुरू होते ही कुछ देर के अंदर पेपर वाट्सएप पर वायरल हो गया था। कहीं छात्रों ने खिड़की से पेपरों की फोटो क्लिक करवाई, जिसके बाद इसे वाट्सएप पर वायरल कर दिया गया। इससे बोर्ड के नकलमुक्त परीक्षा के दावे फेल हो गए। नकलची मंसूबों में पास हो गए। प्रदेशभर में नकल के 175 मामले दर्ज हुए हैं। बोर्ड प्रशासन ने 7 सुपरवाइजर ड्यूटी से रिलीव किए हैं। चार सेंटरों पर परीक्षा रद्द की गई। अम्बाला कैंट में दूसरे की जगह परीक्षा देने का एक केस दर्ज किया

धामनोद में 12 वीं की परीक्षा देने गए सिख छात्र की पगड़ी उतरवाई, केंद्राध्यक्ष समेत 3 शिक्षकों को हटाया

धार. धामनाेद में कक्षा 12वीं के पेपर देने गए सिख छात्र की पगड़ी उतरवाने का मामला सामने आया है। बीईओ ने केंद्राध्यक्ष समेत 3 शिक्षकों को हटा दिया गया है। छात्र का कहना है एग्जाम देने गया तो अचानक टीचर बोले- पगड़ी उतारना पड़ेगी। पगड़ी उतरवाकर चेकिंग की गई। मुझे अच्छा नहीं लगा। मामले में सिख समाज ने आपत्ति दर्ज करवाते हुए दोषियों पर कार्रवाई की मांग की। हरपल सिंह निवासी दूधी सरस्वती स्कूल में कक्षा 12वीं का छात्र है। सोमवार को कन्या हायर सेकंडरी स्कूल में हिंदी का पेपर था। सुबह 8.45 बजे परीक्षा देने पहुंचा। वहां मौजूद केंद्राध्यक्ष सुधा जैन, सहायक केंद्राध्यक्ष एमडी वर्मा, शिक्षक ममता चौरसिया ने हरपल को गेट पर ही रोक लिया और चेकिंग के नाम पर पगड़ी खुलवाई। छात्र ने कहा- यह गलत है। टीचर बोले- यह शासन के नियम हैं। पगड़ी खोलकर ही जांच की जाएगी। छात्र ने पगड़ी खोलकर दी। टीचर ने पगड़ी की जांच की और फिर छात्र को परीक्षा हॉल में जाने दिया। दोषी शिक्षकों से माफीनामा लिखवाया जाएगा बीईओ नीता श्रीवास्तव ने बताया- धामनोद केंद्र पर ऐसी शिकायत मिली थी। मैंने तीनों शिक्षकों से बात की और अधिकारियों को भी इस संबंध में अवगत कराया। प्रारंभिक रूप से शिक्षकों की गड़बड़ी सामने आई। इस पर तीनों शिक्षकों काे हटाने के आदेश दिए हैं। कल मैं खुद केंद्र पर जाऊंगी, अन्य स्टाफ से भी बात करूंगी। दोषी शिक्षकों से माफीनामा लिखवाया जाएगा और जांच में जो भी दोषी होगा, उस पर सख्त कार्रवाई होगी। इधर, डीईओ मंगलेश व्यास बोले- ऐसा कुछ मेरी जानकारी में नहीं है। इसकी जांच कराउंगा। विरोध किया तो नियम का हवाला दिया सिख छात्र हरपलसिंह ने बताया कि जब वह परीक्षा देने गया तो नियमित चेकिंग के दौरान उसकी पगड़ी को खुलवाया गया, हालांकि मैंने इसका विरोध किया और कहा कि पग मत उतरवाओ ये मेरी शान है, लेकिन उन्होंने नियमों का हवाला देकर मेरी पगड़ी उतरवाई। मामले में सिख समाज ने आपत्ति दर्ज कराई है। समाज का कहना है कि यह गंभीर मामला है, इसे हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। केंद्राध्यक्ष ममता चौरसिया ने कहा कि मैंने सभी से माफी मांगी है, जो कुछ हुआ, अनजाने में

12वीं की परीक्षा शुरू होने के आधे घंटे बाद सोशल मीडिया पर आया हिंदी का पेपर, इसराना में नकल के लिए परीक्षा केंद्र की दीवारें फांदी

पानीपत (इसराना). हरियाणा में मंगलवार को 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं शुरू हुईं। पहले दिन हिंदी का पेपर था, लेकिन परीक्षा शुरू होते ही आधे घंटे के अंदर पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। पेपर कहां से हुआ है, इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। चौकाने वाली बात ये है कि सभी कोड के पेपर लीक हुए हैं। इसराना के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में नकल कराने के लिए लोग दीवारें फांदते नजर आए। यहां छात्रों को झुंडों में बैठकर परीक्षा दिलवाते देखा गया। पेपर लीक होते ही तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, इससे लोगों ने जमकर नकल करवाई। परीक्षा दोपहर 12 बजे शुरू हुई थी। 12.30 बजे सभी कोड के पेपर वॉट्सएप पर थे। मामला भिवानी बोर्ड के संज्ञान में है। लेकिन, अभी तक कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया। चर्चा है कि बोर्ड ने पेपर लीक होने की जांच बैठा दी है। हालांकि, अभी तक पेपर रद्द किए जाने की सूचना नहीं है। खिड़की से ली गई है पेपर की तस्वीर एक कोड का पेपर किसी टीचर द्वारा वायरल किया गया है। क्योंकि उसे बिल्कुल सोफे पर रखकर फोटो क्लिक की गई है। जबकि कई कोड के पेपर परीक्षा कक्ष की खिड़की से क्लिक कर वायरल किए गए हैं। इसमें छात्रों के चेहरे भी साफ नजर आ रहे

परीक्षा का तनाव कम करने के लिए सीबीएसई ने स्टूडेंट्स के लिए रिलीज किया रैप सॉन्ग

एजुकेशन डेस्क. बच्चों में परीक्षा का तनाव कम करने के लिए फनी मीम्स जारी करने के बाद सीबीएसई ने रैप सॉन्ग जारी किया है। देशभर में चल रही 10वीं- 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के बीच स्टूडेंट्स में तनाव होना आम बात है। एग्जाम्स रिजल्ट की टेंशन के चलते स्टूडेंट्स अक्सर परीक्षाओं के दौरान अवसाद में आ जाते हैं। ऐसे में सीबीएसई लगातार बच्चों के लिए अपनी रचनात्मक कौशल में बढ़ोतरी कर रही है, ताकि इससे स्टूडेंट्स से सीधे तौर पर जुड़ा जा सकें। यूट्यूब और शिक्षावाणी पर किया जारी इससे पहले सीबीएसई ने युवाओं से जुड़ने के लिए मजेदार मीम्स भी बनाए थे। अब सीबीएसई ने अपनी क्रिएटिविटी लेवल को एक स्टेप और आगे बढ़ाया है। दरअसल, सीबीएसई ने स्टूडेंट्स के परीक्षा तनाव को दूर करने के लिए रैप गाना जारी किया है। इसका वीडियो यूट्यूब और ऑडियो सीबीएसई एप शिक्षावाणी पर जारी किया है। एग्जाम एनथम नाम के इस गाने को बॉलीवुड सॉन्गबहुत हार्ड की तर्ज पर बनाया गया है। स्टूडेंट्स दे रहे रिएक्शन इस गाने के बोल सीबीएसई बोर्ड की अध्यक्ष अनीता करवाल और उनकी टीम ने ही लिखे है। इस गाने को दिल्ली पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों ने रिकॉर्ड किया है। गाना रिलीज होने के बाद से ही इस स्टूडेंट्स की मिलीजुली प्रतिक्रिया आ रही हैं। कुछ को यह सॉन्ग पसंद आ रहा है, तो वहीं कुछ स्टूडेंट्स टफ आए फिजिक्स के पेपर की तुलना इस गाने से कर इसे ट्रोल कर रहे हैं।

10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के 3 विषयों के प्रश्नपत्र के बंडल गायब, 3 अफसर सस्पेंड, केस दर्ज

पंचकूला. हरियाणा शिक्षा बोर्ड की 10वीं और 12वीं कक्षा के 3 विषयों के प्रश्नपत्र गायब होने का मामला सामने आया है। प्रश्नपत्र के 120 बंडल को भिवानी शिक्षा बोर्ड से पंचकूला लाया जा रहा था। मामले में लापरवाही पाए जाने पर प्रश्न पत्र लेकर आ रहे 3 अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया है। आशंका जताई जा रही है कि प्रश्नपत्र या तो चोरी किये गए या फिर जानबूझकर गायब किए गए हैं। मामले में सेक्टर 14 थाना पुलिस ने शिकायत दर्ज कर ली है। गायब बंडलों में 10वीं के साइंस और 12वीं के दो अन्य विषय के प्रश्न पत्र थे। इन बंडल को सेक्टर-15 के गवर्नमेंट गर्ल्स स्कूल में लाया जा रहा था। तीनों अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश विभागीय अधिकारियों का कहना है कि मामले में प्रथम दृष्टया लापरवाही सामने आई है। तीनों अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिये हैं। इनमें सुपरिटेंडेट कुरडा राम, क्लर्क ओमबीर, असिस्टेंट राजेश गुप्ता शामिल हैं। जिस गाड़ी में बंडल लाए जा रहे थे, उसमें यह तीनों अधिकारी मौजूद थे। लीक होने की आशंका के चलते बदलाव इधर, शिक्षा बोर्ड ने पेपर लीक की आशंका के चलते प्रश्नपत्र में पूर्ण बदलाव करने का निर्णय लिया है। पहले के प्रश्नपत्र से किसी भी तरह के सवाल शामिल नहीं किए