--Advertisement--

इंदौर। करीब 15 साल पहले केंद्र सरकार ने निजी विश्वविद्यालयों की आवश्यकता महसूस की थी, आज देश में 269 प्राइवेट यूनिवर्सिटीज हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ नए कोर्स शुरू करना नहीं है, बल्कि हम लोकल और ग्लोबल इनवायरमेंट की स्टडी कर ऐसे कोर्स शुरू कर रहे हैं जो युवाओं को कॅरियर के नए आॅप्शन भी देंगे और देश के विकास में उनकी भूमिका भी सुनिश्चित करेंगे। ये बात श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय के कुलपति और देश के जाने माने शिक्षाविद डॉ. उपिन्दर धर ने dainikbhaskar.com से एक ख़ास मुलाक़ात में कही। डॉ. धर ने कहा कि हम शिक्षा के साथ स्टूडेंट्स के व्यक्तित्व को निखारने की भी कोशिश कर रहे हैं।

- एमिटी यूनिवर्सिटी नोएडा, जेके लक्ष्मीपत यूनिवर्सिटी जयपुर, आईएमएस इंदौर सहित देश के कई प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और इन्स्टीट्यूट्स में अहम जिम्मेदारी निभा चुके डॉ. धर अब एमपी के श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्विद्यालय की कमान संभाल रहे हैं। डॉ. धर ने कहा कि टेक्नोलॉजी बहुत तेजी से हमारी दुनिया बदल रही है, ऐसे में परंपरागत कोर्सेस को नए सांचे में ढालना और नई जरूरतों के मुताबिक़ नए कोर्स गढ़ना बेहद जरूरी है।

- उन्होंने बताया कि अब रिसर्च का महत्व और ज्यादा बढ़ गया है और सोशल साइंस और आर्ट्स का भी। हमें इनोवेटिव सोच वाले कम्प्यूटर इंजीनियर्स, आईटी एक्सपर्ट्स की जरूरत तो है ही, लेकिन साइंटिस्ट, आर्टिस्ट, लॉयर्स, आर्किटेक्ट, इकोनोमिस्ट, जर्नलिस्ट और क्रिएटिव फिल्मकारों की भी जरूरत है, इसलिए हर स्ट्रीम में हमें नए डायमेंशन तलाशने होंगे।

इनोवेटिव कोर्स बनेंगे ग्रोथ इंजिन

- डॉ. धर ने बताया कि हमने ऐसे कई कोर्स शुरू किए हैं, जो भविष्य में देश के आर्थिक सामाजिक विकास में अहम् भूमिका निभाएंगे। वैष्णव देश का पहला विवि है, जिसने रेलवे इंजीनियरिंग में बीटेक शुरू किया है। हमारे स्टूडेंट्स अगले कुछ सालों में देश की रेलवे को नया रूप देने में अहम भूमिका निभाएंगे। इसके साथ-साथ हमने एमबीए इन इंजीनियरिंग मैनेजमेंट, बीटेक इन एयरो इंजीनियरिंग और बीटेक इन क्लाउड कम्प्यूटिंग जैसे फ्यूचरिस्टिक कोर्स शुरू किए हैं। फोरेंसिक साइकोलोजी जैसे अनछुए, लेकिन संभावनाशील विषय में भी हमने कोर्स शुरू किए हैं। हमने यूएस की सेंट क्लाउड यूनिवर्सिटी के साथ एमओ यू भी साइन किया हैं।

Vaishnav Vidyapeeth

वैष्णव विद्यापीठ है मप्र की सबसे इनोवेटिव प्राइवेट यूनिवर्सिटी

इंदौर। करीब 15 साल पहले केंद्र सरकार ने निजी विश्वविद्यालयों की आवश्यकता महसूस की थी, आज देश में 269 प्राइवेट यूनिवर्सिटीज हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ नए कोर्स शुरू करना नहीं है, बल्कि हम लोकल और ग्लोबल इनवायरमेंट की स्टडी कर ऐसे कोर्स शुरू कर रहे हैं जो युवाओं को कॅरियर के नए आॅप्शन भी देंगे और देश के विकास में उनकी भूमिका भी सुनिश्चित करेंगे। ये बात श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय के कुलपति और देश के जाने माने शिक्षाविद डॉ. उपिन्दर धर ने dainikbhaskar.com से एक ख़ास मुलाक़ात में कही। डॉ. धर ने कहा कि हम शिक्षा के साथ स्टूडेंट्स के व्यक्तित्व को निखारने की भी कोशिश कर रहे हैं।