• Hindi News
  • National
  • Kargil martyr wife alleged denial treatment due to Aadhaar unavailability in Sonipat
--Advertisement--

डॉक्टर्स ने मां के इलाज से पहले आधार मांगा, देरी पर मौत हुई: करगिल शहीद के बेटे का आरोप

हरियाणा के एक हॉस्पिटल में करगिल जंग में शहीद जवान की पत्नी की शुक्रवार को मौत हो गई।

Dainik Bhaskar

Dec 30, 2017, 11:17 AM IST
Video: मां को इलाज के लिए सोनीपत के हॉस्पिटल लेकर गए थे पवन कुमार... Video: मां को इलाज के लिए सोनीपत के हॉस्पिटल लेकर गए थे पवन कुमार...

नई दिल्ली/सोनीपत. हरियाणा के एक हॉस्पिटल पर करगिल शहीद की पत्नी के इलाज के लिए आधार मांगने का आरोप है। शनिवार को उनके बेटे ने कहा कि आधार कार्ड साथ नहीं होने पर डॉक्टर ने वक्त पर मां का इलाज शुरू नहीं किया, जिससे उनकी मौत हो गई। जबकि मोबाइल में आधार की कॉपी दिखाने के बाद हार्ड कॉपी जमा करने की बात कही गई थी। करगिल में शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता ने घटना को अमानवीय बताते हुए कहा कि इससे आर्म्ड फोर्सेस का मनोबल गिरेगा। घटना को लेकर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और केंद्र सरकार ने जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के ऑर्डर दिए। हालांकि, हॉस्पिटल के डॉक्टर ने आरोपों को खारिज किया है।

बेटे ने एक घंटे में आधार लाकर देने की बात कही

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, करगिल में शहीद जवान के बेटे पवन कुमार तबीयत बिगड़ने के बाद अपनी मां को सोनीपत के ट्यूलिप हॉस्पिटल लेकर गए थे।
- पवन ने कहा, "मां की हालात बेहद नाजुक थी। डॉक्टर ने जब आधार कार्ड मांगा, तब वह साथ में नहीं था। मैंने मोबाइल में इसकी कॉपी दिखाई और कहा कि आप इलाज शुरू कीजिए, एक घंटे में घर से ऑरिजनल आधार लेकर आ जाऊंगा। पर इन्होंने ऐसा करने से साफ इनकार कर दिया।''

आर्मी हॉस्पिटल ने महिला को रेफर किया था

- जानकारी के मुताबिक, सोनीपत के महलाना गांव के पवन कुमार के पिता लक्ष्मण दास 1999 में करगिल जंग में शहीद हुए थे। मां शकुंतला देवी कई दिन से बीमार थीं। गुरुवार शाम को मां की तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर वह उन्हें आर्मी ऑफिस के हॉस्पिटल में ले गए।

- यहां से उन्हें इलाज के लिए प्राइवेट हॉस्पिटल में रेफर कर दिया गया। पवन मां लेकर सोनीपत के ट्यूलिप हॉस्पिटल पहुंचे तो यहां उनका ऑरिजनल आधार मांगा गया। इसके चलते इलाज में देरी हुई।

डॉक्टर ने क्या दी सफाई?

- सोनीपत हॉस्पिटल के डॉक्टर अभिमन्यु ने कहा, ''हम इलाज के लिए कभी मना नहीं करते हैं। वह (पवन) मरीज को लेकर हॉस्पिटल नहीं आए थे। कभी आधार के लिए इलाज नहीं रोका। यह इलाज के लिए जरूरी नहीं है, लेकिन कागजी कार्रवाई में लगाना जरूरी है।''

केंद्र सरकार ने जांच के ऑर्डर दिए

- केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा, ''राज्य सरकार को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए। हमने जांच के ऑर्डर दिए हैं। सभी राज्य सरकारों से कहा है कि वे क्लीनिकल एस्टेब्लिशमेंट्स एक्ट को लागू करें ताकि इस तरह की घटनाओं पर रोक लगाई जा सके।''

करगिल शहीदों की फैमिली ने क्या कहा?

- शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता वीएन थापर ने सोनीपत की घटना पर कहा कि यह खबर बेहद परेशान करने वाली है। हम लोग मानवता से दूर हो रहे हैं। इससे आर्म्ड फोर्सेस का मनोबल गिरेगा।

- करगिल शहीद मेजर सीबी द्विवेदी की बेटी ने कहा, ''सोच भी नहीं सकती कि ऐसा होगा। मुझे भी अपनी फैमिली की चिंता हो रही है। हमें ECHS का फायदा मिलता है, लेकिन इसे आधार नंबर से जुड़वाना बेतुका है।''

करगिल शहीद मेजर सीबी द्विवेदी की बेटी ने सोनीपत की घटना पर कहा कि ECHS को आधार से जुड़वाना बेतुका है। करगिल शहीद मेजर सीबी द्विवेदी की बेटी ने सोनीपत की घटना पर कहा कि ECHS को आधार से जुड़वाना बेतुका है।
शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता वीएन थापर ने इस घटना को अमानवीय बताया है। शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता वीएन थापर ने इस घटना को अमानवीय बताया है।
सोनीपत हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कहा है कि इलाज के लिए किसी से भी आधार नहीं मांगा जाता। -फाइल सोनीपत हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कहा है कि इलाज के लिए किसी से भी आधार नहीं मांगा जाता। -फाइल
X
Video: मां को इलाज के लिए सोनीपत के हॉस्पिटल लेकर गए थे पवन कुमार...Video: मां को इलाज के लिए सोनीपत के हॉस्पिटल लेकर गए थे पवन कुमार...
करगिल शहीद मेजर सीबी द्विवेदी की बेटी ने सोनीपत की घटना पर कहा कि ECHS को आधार से जुड़वाना बेतुका है।करगिल शहीद मेजर सीबी द्विवेदी की बेटी ने सोनीपत की घटना पर कहा कि ECHS को आधार से जुड़वाना बेतुका है।
शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता वीएन थापर ने इस घटना को अमानवीय बताया है।शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता वीएन थापर ने इस घटना को अमानवीय बताया है।
सोनीपत हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कहा है कि इलाज के लिए किसी से भी आधार नहीं मांगा जाता। -फाइलसोनीपत हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कहा है कि इलाज के लिए किसी से भी आधार नहीं मांगा जाता। -फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..