• Hindi News
  • National
  • venkaiah naidu says to rajya members not to use the term beg while tabling the listed official papers
--Advertisement--

विनती करने की जरूरत नहीं, राज्यसभा मेंबर्स सीधे कहें कि मैं पेपर पेश करना चाहता हूं: वेंकैया

कार्यवाही के दौरान वेंकैया ने कहा, ''कोई भी सदन के पटल पर रखी जानकारियों में 'आई बेग टू...' लाइन न लिखें।

Dainik Bhaskar

Dec 29, 2017, 04:11 PM IST
विंटर सेशन की शुरुआत वाले दिन (15 दिसंबर) भी नायडू ने कहा था कि मंत्री और मेंबर्स  को ब्रिटिश दौर की सोच से उबरना चाहिए। (फाइल) विंटर सेशन की शुरुआत वाले दिन (15 दिसंबर) भी नायडू ने कहा था कि मंत्री और मेंबर्स को ब्रिटिश दौर की सोच से उबरना चाहिए। (फाइल)

नई दिल्ली. राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने मेंबर्स से अंग्रेजों के समय से चली आ रही परंपरा को बदलने की बात कही है। उन्होंने मेंबर्स से कहा- "आई बेग टू ले द पेपर्स..."(मैं पेपर्स को सदन के पटल पर रखने की विनती करता हूं) जैसी शब्दावली का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसके बजाए उन्हें सीधे कहना चाहिए कि मैं सदन के पटल पर पेपर्स रख रहा हूं।

सदन की शुरुआत में भी नायडू ने सलाह दी थी

- विंटर सेशन की शुरुआत वाले दिन (15 दिसंबर) भी नायडू ने कहा था कि मंत्री और मेंबर्स को ब्रिटिश दौर की सोच से उबरना चाहिए और 'आई बेग टू ले...' का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
- शनिवार को ये मामला तब सामने आया जब कानून राज्य मंत्री पीपी चौधरी ने दस्तावेज पेश करते वक्त beg शब्द का इस्तेमाल किया। नायडू ने कहा कि इसकी जगह "आई राइज टू प्रेजेंट द पेपर्स लिस्टेड अगेंस्ट माई नेम...' का इस्तेमाल करना चाहिए।
- इस पर नायडू ने उन्हें पहले कही हुई सलाह दोहराई। उन्होंने चौधरी से कहा कि निवेदन न करें। - नायडू ने कहा कि जब उन्होंने पहले beg शब्द का यूज न करने के लिए कहा था तो चौधरी संभवत: मौजूद नहीं थे।

निवेदन करना सही नहीं

- नायडू ने कहा कि पेपर रखने का निवेदन करता हूं की जगह आप केवल पेपर रख रहा हूं, कह सकते हैं।
- 15 दिसंबर के बाद से किसी भी मंत्री या मेंबर ने beg शब्द का इस्तेमाल नहीं किया है।
- शुक्रवार को जब चौधरी की बारी आई तो उन्होंने भी beg शब्द का यूज नहीं किया।

चेयरमैन को क्यों कहना पड़ा- ये आजाद भारत है

- कार्यवाही के दौरान वेंकैया ने कहा, ''कोई भी सदन के पटल पर रखी जानकारियों में 'आई बेग टू...' लाइन न लिखें। इसके स्थान पर सिर्फ इतना लिखें कि 'आई रेज टू ले ऑन द टेबल।' किसी को विनती करने की जरूरत नहीं... यह आजाद भारत है।''
- राज्यसभा के सभापति ने ऐसा इसलिए कहा, क्योंकि सदन की शुरुआत से पहले कई मंत्रियों ने अपने विभागों की जानकारियों के साथ पेपर्स पर एक वाक्य लिखा था- "I beg to lay on the table the papers listed against my name in today's revised list of business."
- हालांकि, इसके बाद वेंकैया ने साफ किया कि यह कोई ऑर्डर नहीं, बल्कि केंद्रीय मंत्री इसे एक सुझाव की तरह ले सकते हैं।

नायडू ने कहा था कि किसी को पेपर पेश करने के दौरान किसी को विनती करने की जरूरत नहीं... यह आजाद भारत है। (फाइल) नायडू ने कहा था कि किसी को पेपर पेश करने के दौरान किसी को विनती करने की जरूरत नहीं... यह आजाद भारत है। (फाइल)
X
विंटर सेशन की शुरुआत वाले दिन (15 दिसंबर) भी नायडू ने कहा था कि मंत्री और मेंबर्स  को ब्रिटिश दौर की सोच से उबरना चाहिए। (फाइल)विंटर सेशन की शुरुआत वाले दिन (15 दिसंबर) भी नायडू ने कहा था कि मंत्री और मेंबर्स को ब्रिटिश दौर की सोच से उबरना चाहिए। (फाइल)
नायडू ने कहा था कि किसी को पेपर पेश करने के दौरान किसी को विनती करने की जरूरत नहीं... यह आजाद भारत है। (फाइल)नायडू ने कहा था कि किसी को पेपर पेश करने के दौरान किसी को विनती करने की जरूरत नहीं... यह आजाद भारत है। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..