Latest News

--Advertisement--

आंधी-तूफान से 5 राज्यों में 30 घंटे में 80 की मौत, उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 30 लोगों की जानें गईं

उत्तर भारत में आए आंधी-तूफान और दक्षिण भारत में बढ़ते तापमान की वजह से इस बार मानसून 4-5 दिन पहले दस्तक दे सकता है।

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 08:14 AM IST
आंधी-तूफान के कारण दिल्ली में पार्किंग में खड़े कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए। - फाइल आंधी-तूफान के कारण दिल्ली में पार्किंग में खड़े कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए। - फाइल

  • यही हालात रहे तो 25 मई को ही मानसून केरल पहुंच सकता है, आमतौर पर केरल में 1 जून तक मानसून आता है
  • दिल्ली में रविवार दोपहर तापमान 39.6 डिग्री था, लेकिन बारिश के बाद महज आधे घंटे में पारा 25 डिग्री हो गया

नई दिल्ली. देश के पांच राज्यों में पिछले 30 घंटे में आंधी-तूफान और बारिश आने और बिजली गिरने के कारण 30 लोगों की मौत हो गई है। 136 से अलग लोग घायल भी हुए हैं। सबसे ज्यादा लोग उत्तर प्रदेश में हताहत हुए हैं। गृह मंत्रालय के अनुसार, वहां 51 लोगों की जानें गईं, जबकि 123 लोग घायल हुए हैं।

उत्तर प्रदेश के बाद सबसे ज्यादा नुकसान पश्चिम बंगाल में

- गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश के बाद सबसे ज्यादा तबाही पश्चिम बंगाल में मची है। वहां 14 लोगों की मौत हुई है, जबकि आंध्र प्रदेश में 12, दिल्ली में दो और उत्तराखंड में एक लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा।
- रविवार शाम 4:30 बजे दिल्ली और उत्तर प्रदेश के 24 जिलों में आंधी-तूफान ने कहर बरपाया और बिजली गिरने की घटनाएं हुईं। वहीं पश्चिम बंगाल में 6, आंध्र प्रदेश में 3,

दिल्ली में 2 और उत्तराखंड में 1 जिले में आंधी-तूफान ने अपना प्रकोप दिखाया।
- रविवार शाम को 109 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। आंधी-तूफान और बिजली गिरनी की घटनाओं के कारण राष्ट्रीय राजधानी और उत्तर भारत के कई हिस्सों में

सड़क, रेल और हवाई सेवाएं बाधित हुईं।
- भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बताया है कि इसके अलावा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड, असम, मेघालय, महाराष्ट्र,

कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के भी कुछ हिस्सों में रविवार शाम आंधी आई।

12 दिन पहले भी आया था तूफान, 134 की हुई थी मौत

- बता दें कि 12 दिन पहले (3 मई) उत्तर प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और पंजाब में इसी तरह का आंधी-तूफान आया था। तब 134 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 400 से अधिक घायल हुए थे।
- उस समय भी सबसे ज्यादा तबाही उत्तर प्रदेश में मची थी। तब उत्तर प्रदेश में 80 लोगों की मौत हुई थी। इसमें सबसे ज्यादा आगारा जिलें में लोगों की जानें गईं थीं।
- इसके बाद 9 मई को उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में तेज आंधी आई थी, जिसके कारण 18 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 27 घायल हुए थे।

आज भी तूफान आने की आशंका, ओले भी गिर सकते हैं
- 15 मई को जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के दूरदराज के इलाकों में तेज हवाओं के साथ तूफान का अलर्ट, ओले भी गिर सकते हैं। ओडिशा और दक्षिण कर्नाटक के आंतरिक हिस्सों में तेज हवाओं के साथ आंधी का अलर्ट जारी किया गया है। राजस्थान और विदर्भ के कुछ इलाकों में लू के थपेड़े पड़ने की आशंका है।

जानमाल की हानि के अलावा देश के कई इलाकों में पेड़ भी उखड़ गए। - फाइल जानमाल की हानि के अलावा देश के कई इलाकों में पेड़ भी उखड़ गए। - फाइल
X
आंधी-तूफान के कारण दिल्ली में पार्किंग में खड़े कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए। - फाइलआंधी-तूफान के कारण दिल्ली में पार्किंग में खड़े कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए। - फाइल
जानमाल की हानि के अलावा देश के कई इलाकों में पेड़ भी उखड़ गए। - फाइलजानमाल की हानि के अलावा देश के कई इलाकों में पेड़ भी उखड़ गए। - फाइल
Click to listen..