देश

  • Home
  • National
  • 9 Delhi government advisers cancelled on Union home ministry recommendation
--Advertisement--

केंद्र ने केजरीवाल के 8 मंत्रियों के 9 सलाहकार हटाए, आप बोली- ये दिल्ली सरकार को लाचार करने की साजिश

मंत्रालय ने मंगलवार को विज्ञप्ति में कहा कि दिल्ली सरकार ने सलाहकारों की नियुक्ति से पहले इजाजत नहीं ली।

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 07:36 PM IST
मनीष सिसोदिया ने कहा कि मोदी स मनीष सिसोदिया ने कहा कि मोदी स

नई दिल्ली. गृह मंत्रालय की सिफारिश के बाद दिल्ली सरकार में 8 मंत्रियों के 9 सलाहकारों को हटा दिया गया। इनमें उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की सलाहकार अतिशी मरलेना भी शामिल हैं। मंत्रालय ने मंगलवार को बयान जारी कर कहा कि दिल्ली सरकार ने सलाहकारों की नियुक्ति से पहले इजाजत नहीं ली। वहीं, फैसले पर सिसोदिया ने कहा कि मोदी और उनकी पार्टी दिल्ली सरकार को लाचार करना चाहती है।

पदों के लिए नहीं दी गई थी मंजूरी- केंद्र

- दिल्ली सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग की उपसचिव प्रोमिला मित्रा ने बताया कि गृह मंत्रालय ने 9 सलाहकारों को हटा दिया है।

- गृह मंत्रालय की ओर से 10 फरवरी को जारी किए गए आदेश के मुताबिक, "जिन पदों पर इन सलाहकारों को नियुक्त किया गया था। उन पदों को मंत्रालय और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंजूरी नहीं दी थी।"

राघव चड्ढा और अरुणोदय प्रकाश​ समेत 9 पर गिरी गाज

- इनमें सिसोदिया के सलाहकार अतिशी मरलेना, वित्त मंत्री के सलाहकार राघव चड्ढा, मीडिया सलाहकार अरुणोदय प्रकाश, कानून मंत्री के सलाहकार अमरदीप तिवारी, स्वास्थ्य मंत्री के सलाहकार प्रशांत सक्सेना, समीर मल्होत्रा, रजत तिवारी, राम कुमार झा, और ब्रिगेडियर (रिटायर्ड) दिनकर अदीव शामिल हैं।

आप ने कहा- नियुक्तियां रद्द करना गलत

- आम आदमी पार्टी ने सरकार के इस फैसले को गलत बताया। मनीष सिसोदिया ने कहा, 'मोदी सरकार का यह फैसला दिल्ली की सुधरती शिक्षा व्यवस्था को खराब करने के लिए है। भाजपा हमारी सरकार के कामों को रोकना चाहती है। मोदी जी ने और उनकी पार्टी ने देश की शिक्षा व्यवस्था को बेड़ा गर्क करने का ठेका लिया हुआ है, ये इसलिए परेशान हैं, क्योंकि हमारी सरकार शिक्षा को और बेहतर तरीके से बच्चों तक पंहुचा रही है।"

सिर्फ एक रुपए की सैलरी पर काम कर रहीं थीं मरलेना

- पार्टी नेता संजय झा ने ट्वीट कर लिखा, 'दिल्ली में क्रांति लाने वाली शिक्षा सलाहकार मरलेना को हटा कर उपराज्यपाल और केंद्र सरकार दिल्ली से बदला लेना चाहते हैं। अतिशी मरलेना सरकारी स्कूलों में शिक्षा बेहतर करने के लिए काम कर रहीं थीं वे सिर्फ एक रुपए की सैलरी लेती थीं।"

Click to listen..