--Advertisement--

नाटकीय प्रदर्शन था सर्जिकल स्ट्राइक, आर्मी को सुरक्षा नहीं दे पा रही मोदी सरकार: कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित

कश्मीर के पुलवामा में 30 दिसंबर की रात आतंकियों ने फिदायीन हमला किया था, इसमें 5 जवान शहीद हो गए और 3 आतंकी मारे गए।

Dainik Bhaskar

Jan 01, 2018, 04:27 PM IST
संदीप दीक्षित दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं। -फाइल संदीप दीक्षित दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं। -फाइल

नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ कैंप पर हुए आतंकी हमले को लेकर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने मोदी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने सोमवार को कहा कि केंद्र सरकार हमारी सेनाओं को सुरक्षित नहीं रख पा रही है। सर्जिकल स्ट्राइक जैसे नाटकीय प्रदर्शन का भी कोई असर नहीं हुआ। बता दें कि 30 दिसंबर की रात तीन आतंकियों ने पुलवामा में फिदायीन हमला किया, जिसमें 5 जवान शहीद हो गए और 3 आतंकी मारे गए थे। इससे पहले दिसंबर के आखिरी हफ्ते में भारत ने PoK में दूसरी बार सर्जिकल स्ट्राइक की थी। कश्मीर घाटी से आतंकियों के सफाया करने के लिए सिक्युरिटी फोर्सेस पिछले कुछ महीने से ऑपरेशन ऑलआउट चला रही हैं।

सेना की सुरक्षा सरकार के बस में नहीं

- कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने न्यूज एजेंसी से कहा, ''एक बात तो साबित हो गई कि सरकार की नीति खासकर सर्जिकल स्ट्राइक जैसे इनके जो नाटकीय प्रदर्शन रहे हैं। उसका कोई असर नहीं हो पाया है। हमें दूसरे तरीके से सोचना पड़ेगा और मुझे नहीं लगता कि सरकार के बस में है कि वो सेनाओं को सुरक्षित रख सकें।''

रात 2 बजे आतंकियों ने किया था हमला

- कश्मीर के पुलवामा में शनिवार-रविवार की दरमियानी रात करीब 2 बजे सीआरपीएफ कैम्प पर फिदायीन हमला हुआ था। इस दौरान सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए थे।
- करीब 36 घंटे चले ऑपरेशन में सिक्युरिटी फोर्सेस ने तीनों आतंकियों को मार गिराया। इस दौरान कैंप में बनी एक बिल्डिंग को उड़ा दिया गया। आतंकी इसी के अंदर छिप गए थे। सोमवार सुबह से आर्मी ने इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया।

जैश-ए-मोहम्मद ने ली जिम्मेदारी

- हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सिर्फ पांच दिन पहले सिक्युरिटी फोर्सेस ने जैश के मोस्ट वॉन्टेड टेररिस्ट नूर मोहम्मद तांत्रेय को एनकाउंटर में मार गिराया था। नूर की हाइट सिर्फ 4 फीट थी और सिक्युरिटी एजेंसियों को लंबे वक्त से उसकी तलाश थी।
- माना जा रहा है कि जैश ने तांत्रेय की मौत का बदला लेने के लिए ही सीआरपीएफ कैम्प को निशाना बनाया।
- बता दें कि पिछले साल 1-2 जनवरी की रात आतंकियों ने इसी तरह पठानकोट वायुसेना बेस पर हमला किया था। 80 घंटे तक चली उस कार्रवाई में 7 जवान शहीद हो गए थे। सभी 6 आतंकी भी मारे गए थे।

15 महीने में दो सर्जिकल स्ट्राइक हुई

- दिसंबर, 2017 के आखिर में पाकिस्तान की ओर से हुई फायरिंग में मेजर समेत भारतीय सेना के 4 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद आर्मी ने 23 दिसंबर को दूसरी बार PoK में सर्जिकल स्ट्राइक की। इस दौरान पाकिस्तान के तीन सैनिक मारे गए।
- इससे पहले भारत ने 29 सितंबर, 2016 को एलओसी पार जाकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था। इसमें कम से कम 40 आतंकियों के मारे जाने का दावा किया गया था। कई कैम्प तबाह कर दिए गए थे। इसमें पाकिस्तानी के इलाके में आतंकी लांच पैड को निशाना बनाया था।

भारतीय सेना ने पिछले साल 23 दिसंबर को PoK में दूसरी बार सर्जिकल स्ट्राइक की। -सिम्बॉलिक भारतीय सेना ने पिछले साल 23 दिसंबर को PoK में दूसरी बार सर्जिकल स्ट्राइक की। -सिम्बॉलिक
X
संदीप दीक्षित दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं। -फाइलसंदीप दीक्षित दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं। -फाइल
भारतीय सेना ने पिछले साल 23 दिसंबर को PoK में दूसरी बार सर्जिकल स्ट्राइक की। -सिम्बॉलिकभारतीय सेना ने पिछले साल 23 दिसंबर को PoK में दूसरी बार सर्जिकल स्ट्राइक की। -सिम्बॉलिक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..