• Home
  • National
  • Terrorists attack CRPF camp in PulwamaJammu and Kashmir 3 jawans injured
--Advertisement--

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आधी रात को CRPF कैंप पर आतंकी हमला, 3 जवान घायल

कुछ आतंकी सीआरपीएफ की 185वीं बटालियन के कैंप में घुस गए। इन लोगों ने वहां फायरिंग शुरू कर दी।

Danik Bhaskar | Dec 31, 2017, 07:54 AM IST
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में रविवार तड़के आतंकी हमला हुआ। - फाइल जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में रविवार तड़के आतंकी हमला हुआ। - फाइल

श्रीनगर/नई दिल्ली. जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ कैंप पर हुए आतंकी हमले में 3 कैप्टन समेत 5 शहीद हो गए। CRPF के एडिशनल डीजी ने बताया कि हमारे पास इस बात के इनपुट्स थे कि ऐसा हमला अंजाम दिया जा सकता है। उन्होंने कहा, "हमारे जवान तैयार थे, अब तक 3 आतंकवादी मारे गए हैं। ऑपरेशन अभी जारी है। इसे जल्द खत्म किया जाएगा।" दिल्ली में CRPF अधिकारियों ने बताया कि जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। दूसरी तरफ, नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से की गई फायरिंग में एक जवान जगसीर सिंह शहीद हो गए। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी. वैद ने कहा- सीआरपीएफ के तीन जवानों को गोलियां लगी हैं। एक शहीद हो गया है। आतंकियों को हम जल्द काबू कर लेंगे।

एनकाउंटर में ये शहीद हुए

- सीआरपीएफ के कैप्टन शरीफुद्दीन गनेई, कैप्टन राजेंद्र नैन, कैप्टन प्रदीप कुमार पांडा, इंस्पेक्टर कुलदीप रॉय, हेड कॉन्स्टेबल तुफैल अहमद।

ये आतंकी मारे गए

- पुलवामा एनकाउंटर में दो टेररिस्ट मारे गए। इनकी पहचान पुलवामा का मंजूर अहमद बाबा और त्राल का फरदीन अहदम खानडे के तौर पर की गई है।

जैश ने ली हमले की जिम्मेदारी

- CRPF के स्पोक्सपर्सन राजेंद्र यादव ने कहा, "हमने दो आतंकियों को मार गिराया, उनकी बॉडी और हथियार बरामद किए गए हैं। हमें उम्मीद है कि एक और आतंकी एनकाउंटर में मारा गया है, लेकिन उसकी बॉडी अभी रिकवर नहीं हो पाई है। इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है। ऐसा पहली बार हुआ है, जब लोकल टेररिस्ट्स ने सुसाइड अटैक को अंजाम दिया है।"

तीन जवानों को गोलियां लगीं

- शनिवार-रविवार की दरमियानी रात अचानक कुछ आतंकी सीआरपीएफ की 185वीं बटालियन के कैंप में घुस गए। इन लोगों ने वहां फायरिंग शुरू कर दी।
- अचानक हुए इस हमले में 4 जवान शहीद हो गए जबकि तीन जवान जख्मी बताए गए हैं। उन्हें गोलियां लगी हैं। सभी को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है।
- हमले की खबर पाकर पुलिस और सीआरपीएफ के अफसर मौके पर पहुंचे। न्यूज चैनलों के मुताबिक, सभी आतंकियों को घेर लिया गया है।

इस साल 2 बड़े हमले हुए

- घाटी में 182 बटालियन बीएसएफ कैम्प पर अक्टूबर में फिदायीन हमला हुआ था। सिक्युरिटी फोर्स की कार्रवाई में सभी 3 आतंकी मारे गए थे। हालांकि, एक जवान भी शहीद हो गया था। तब जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली थी।
- इसके पहले जून में सीआरपीएफ के काफिले पर लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने हमला किया था। इसमें एक सब इंस्पेक्टर शहीद हो गया था। वहीं, दो जवान भी जख्मी हुए थे। हमले की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा ने ली थी। गाड़ी पर फायरिंग करने के बाद आतंकी पास के एक स्कूल में छिप गए थे। कुछ देर बाद आर्मी ने मोर्चा संभाला था और स्कूल में छिपे सभी आतंकियों को मार गिराया गया था।

2017 में 206 आतंकी मारे गए

- 2017 में सिक्युरिटी फोर्सेस ने जम्मू और कश्मीर में 206 आतंकवादियों को ढेर किया। J&K के पुलिस चीफ एसपी वैद ने कहा, "मैं ये साफ कर देना चाहता हूं कि हमारे ऑपरेशन केवल टेररिस्ट को मार गिराने के लिए ही नहीं, बल्कि उन्हें मुख्यधारा में शामिल करने के लिए भी था। हमने 75 युवाओं को मुख्यधारा में शामिल कराया है।"

बताया जाता है कि तीन से चार आतंकी सीआरपीएफ कैंप में घुसे।- फाइल बताया जाता है कि तीन से चार आतंकी सीआरपीएफ कैंप में घुसे।- फाइल