• Home
  • National
  • Mega health insurance scheme, likely to be launched either on August 15 or October 2
--Advertisement--

2 अक्टूबर या 15 अगस्त को लॉन्च हो सकती है आयुष्मान भारत स्कीम, 1000-1200 रु. होगा सालाना प्रीमियम

आयुष्मान भारत के तहत शुरू की जा रही नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम (आयुष्मान भारत) का प्रीमियम 1000-1200 रुपए सालाना होगा।

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 07:37 PM IST
बजट सेशन के दौरान संसद में नरेंद्र मोदी। बजट सेशन के दौरान संसद में नरेंद्र मोदी।

नई दिल्ली. आयुष्मान भारत के तहत शुरू की जा रही नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम (आयुष्मान भारत) का प्रीमियम 1000-1200 रुपए सालाना होगा। नीति आयोग ने शुक्रवार को ये जानकारी दी। ऑफिशियल सोर्सेस का कहना है कि स्कीम 2 अक्टूबर या 15 अगस्त को लॉन्च की जा सकती है। इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा कि इस स्कीम के लिए फाइनेंस की कोई समस्या नहीं होगी। गुरुवार को 2018-19 के बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस स्कीम का एलान किया था। इसमें 10 करोड़ गरीब परिवारों को हॉस्पिटलाइजेशन पर 5 लाख रुपए हर साल दिए जाने की बात कही गई थी। नरेंद्र मोदी ने जेटली की बजट स्पीच के बाद इस योजना को दुनिया की सबसे बड़े हेल्थकेयर स्कीम बताया था। इस स्कीम को मोदीकेयर स्कीम का नाम भी दिया जा रहा है।


किस तरह भरा जाएगा प्रीमियम?
- इस स्कीम के तहत सालाना प्रीमियम 1000 से 1200 रुपए होगा। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, योजना का खर्च राज्य सरकारें और केंद्र सरकार उठाएंगी। इसमें 60% रकम केंद्र देगी और 40% रकम राज्य सरकार देगी।

किस तरह फायदा उठा सकेंगे परिवार?
- नीति आयोग ने शुक्रवार को कहा, "इस योजना के तहत परिवारों के साइज पर किसी तरह की पाबंदी नहीं होगी। इसमें सेकंडरी (दूसरे) और टर्शिएरी (तीसरे) ट्रीटमेंट की सुविधा देश के चुने हुए अस्पतालों में दी जाएगी।"
- जेटली ने शुक्रवार को एक प्रोग्राम में कहा, "ये स्कीम कैशलेस स्कीम होगी ना कि री-इम्बर्समेंट (प्रतिपूर्ति) स्कीम, क्योंकि री-इम्बर्समेंट मॉडल में बहुत सारी शिकायतें आएंगी।"


स्कीम में रजिस्ट्रेशन कैसे होगा?
- नीति आयोग ने कहा, "इस स्कीम के लिए एलिजिबिलिटी (पात्रता) की जांच करने के लिए लोगों को स्कीम के तहत अपनी आधार डिटेल रजिस्टर करवानी होगी। इसके बाद अगर वे एलिजिबल हैं तो फिर वे किसी भी राज्य में इस स्कीम के तहत इलाज करवा सकते हैं.. चाहे वे किसी भी राज्य के रहने वाले हों। इस योजना को ट्रस्ट मोड या फिर इंश्योरेंस कंपनी मोड पर एडॉप्ट किया जाएगा।"

स्कीम पर कितना खर्च आएगा?
- जेटली ने अपने बजट भाषण में कहा था कि इस स्कीम के लिए पर्याप्त बजट की व्यवस्था की जाएगी, ताकि ये सही से लागू हो।
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नीति आयोग के CEO अमिताभ कांत ने कहा कि इस स्कीम के लिए 5500 से 6000 करोड़ रुपए के बजट का इंतजाम किया जाएगा।

स्कीम के बजट पर सरकार ने क्या कहा?

- केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा, "सरकार राज्यों के शेयर के साथ प्रीमियम पे करेगी। इसके लिए फिलहाल 2000 करोड़ रुपए रखे गए हैं। हम इसकी पूरी डिटेल देंगे, लेकिन अभी नहीं। हम अहम डिटेल पर काम कर रहे हैं। हम दूसरे डिपार्टमेंट्स के साथ भी काम कर रहे हैं। हमने इस योजना के लिए सारी व्यवस्थाएं कर ली हैं। इतिहास गवाह है कि जो भी हमारी सरकार ने वादा किया है, हमने उसे पूरा किया है। इसलिए इस योजना में भी फाइनेंस की कोई दिक्कत नहीं होगी। ये कभी समस्या थी भी नहीं और ना ही होगी।"

मोदी ने स्कीम पर क्या कहा था?

- बजट के बाद शुक्रवार को प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था, "बजट में नई योजना आयुष्मान भारत लाई गई है। ये समाज के सभी वर्गों दलितों से मध्यम वर्ग तक को फायदा देगी। करीब-करीब 45 से 50 करोड़ नागरिकों को फायदा मिलेगा। इन परिवारों को चिन्हित अस्पतालों में पांच लाख तक का इलाज मुफ्त मिलेगा। मैं जिम्मेदारी से कहता हूं कि ये दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस योजना है। इससे गांव में रहने वालों लोगों को हेल्थ सुविधाएं सुलभ होंगी।"

गुरुवार को बजट पेश करने जाते वित्त मंत्री अरुण जेटली। गुरुवार को बजट पेश करने जाते वित्त मंत्री अरुण जेटली।