• Home
  • National
  • There is scope in Shariyat for shifting the Mosque: Salman Nadvi who was expelled by AIPLMB
--Advertisement--

शरियत में मस्जिद को शिफ्ट करने की गुंजाइश, मैं अयोध्या में संतों से मिलूंगा: AIMPLB से निकाले जाने पर नदवी

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के एक्जिक्यूटिव मेंबर मौलाना सलमान नदवी को रविवार को बोर्ड से निकाल दिया गया।

Danik Bhaskar | Feb 11, 2018, 06:49 PM IST
मौलाना नदवी ने रविवार को कहा कि बाबरी मसले को सुलझाने के लिए हिंदू-मुस्लिम एकता जरूरी है। - फाइल मौलाना नदवी ने रविवार को कहा कि बाबरी मसले को सुलझाने के लिए हिंदू-मुस्लिम एकता जरूरी है। - फाइल

नई दिल्ली. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के एक्जिक्यूटिव मेंबर मौलाना सलमान नदवी को रविवार को बोर्ड से निकाल दिया गया। उन्होंने बाबरी मस्जिद को शिफ्ट किए जाने की सलाह दी थी, जिसके बाद उन्हें मुस्लिम बोर्ड से निकाल दिया गया। बता दें कि बोर्ड ने रविवार को कहा है कि बाबरी मस्जिद को फिर से बनाने के लिए लड़ाई जारी रहेगी और उसकी जमीन को गिफ्ट में नहीं दिया जाएगा। बता दें कि अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। कोर्ट ने अब वाल्मीकि रामायण, रामचरितमानस और गीता सहित 20 धार्मिक पुस्तकों से इस्तेमाल किए तथ्यों का अंग्रेजी में ट्रांसलेशन करवाने का आदेश दिया है। यूपी सरकार को 2 हफ्ते में ट्रांसलेशन सभी पक्षकारों को देना होगा। अगली सुनवाई 14 मार्च को होगी।


बाबरी पर नदवी ने क्या कहा?
- नदवी ने कहा, "शरियत में मस्जिद को शिफ्ट किए जाने का स्कोप है। मैं इस मसले को सुलझाने के लिए हिंदू-मुस्लिम एकता की बात कर रहा हूं। मैं अयोध्या में संतों से मुलाकात करूंगा। इसके अलावा मेरी हिंदुस्तानभर के हिंदू भाइयों से भी चर्चा होगी।"
- शुक्रवार को नदवी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा था, "मैंने श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात की। मैंने राम मंदिर निर्माण का समर्थन करने की बात कही। हमारी प्राथमिकता लोगों के दिलों को जोड़ना है।"
- नदवी ने कोर्ट के बाहर समझौते का भी जिक्र िकया और कहा था- कोर्ट कभी भी लोगों के दिलों को नहीं जोड़ती। फैसला हमेशा एक के पक्ष में और दूसरे के खिलाफ होता है।

नदवी को निकाले जाने पर बोर्ड ने क्या कहा?
- मुस्लिम बोर्ड के मेंबर सैयद कासिम रसूल इलियास ने कहा, "बाबरी मस्जिद मुद्दे पर बोर्ड के नजरिए से समझौता नहीं किया जाएगा। सलमान नदवी अभी भी बोर्ड के फैसले के खिलाफ बोल रहे हैं इसलिए बोर्ड के पास कोई रास्ता नहीं बचा है। कमेटी ने एकमत से उन्हें निकाले जाने का फैसला किया है।'

मुस्लिम बोर्ड का बाबरी पर क्या स्टैंड है?
- AIMPLB ने कहा है कि बाबरी मस्जिद बनाने की लड़ाई जारी रहेगी। मस्जिद की जगह नहीं बदली जाएगी और जमीन भी किसी को तोहफे में नहीं दी जाएगी। इससे पहले बोर्ड ने कहा था कि अयोध्या मसले पर उसका रुख नहीं बदलेगा। एक बार मस्जिद बन गई तो फिर वहां हमेशा मस्जिद ही रहेगी। AIMPLB ने ये बात हैदराबाद में चल रही 26वीं प्लेनरी में कही।

ओवैसी ने बाबरी मुद्दे पर क्या कहा?
- ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि बाबारी मस्जिद मसले पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा।
- हैदाराबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ओवैसी बोले, "मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का रुख बाबरी मस्जिद मसले पर समझौते करने का कतई नहीं है। ये साफ कहा गया है कि जब एक मस्जिद बना दी गई तो वो हमेशा मस्जिद ही रहेगी। जो लोग इससे समझौता करेंगे, उन्हें अल्लाह को जवाब देना होगा।"


सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ?
- कोर्ट ने यह साफ कर दिया कि अयोध्या विवाद को धार्मिक नजरिये से नहीं, बल्कि सिर्फ भूमि विवाद के तौर पर ही देखा जाएगा।
- सीजेआई दीपक मिश्रा समेत तीन जजों की स्पेशल बेंच के सामने सुनवाई शुरू होते ही पिटीशनर्स के वकील ने कहा कि अयोध्या विवाद लोगों की भावनाओं से जुड़ा है। इस पर चीफ जस्टिस बोले- ऐसी दलीलें मुझे पसंद नहीं, यह सिर्फ भूमि विवाद है।

श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात के दौरान मौलाना नदवी (बादामी कपड़ों में)। - फाइल श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात के दौरान मौलाना नदवी (बादामी कपड़ों में)। - फाइल