• Home
  • National
  • Bill Melinda Gates Foundation announces USD 170 mn for women empowerment
--Advertisement--

भारत समेत 4 देशों में महिला सशक्तिकरण के लिए 11 हजार 4 करोड़ रुपए इंवेस्ट करेगी बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन

गेट्स फाउंडेशन भारत के अलावा केन्या, तनजानिया और यूगांडा में भी महिला सशक्तिकरण के लिए निवेश करेगा।

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 10:22 AM IST
बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के मुताबिक- इस निवेश में महिला को सशक्त बनाने के लिए जेंडर इक्वालिटी, डिजिटल फाइनेंशियल इंक्लूजन, महिलाओं के लिए रोजगार और महिलाओं को एग्रीकल्चर फील्ड में सपोर्ट करने जैसे फील्ड शामिल किए गए हैं।- फाइल बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के मुताबिक- इस निवेश में महिला को सशक्त बनाने के लिए जेंडर इक्वालिटी, डिजिटल फाइनेंशियल इंक्लूजन, महिलाओं के लिए रोजगार और महिलाओं को एग्रीकल्चर फील्ड में सपोर्ट करने जैसे फील्ड शामिल किए गए हैं।- फाइल

वॉशिंगटन. बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने भारत समेत 4 देशों में महिला सशक्तिकरण को आगे बढ़ाने के लिए 1100 करोड़ रुपए (170 मिलियन अमेरिकी डॉलर) निवेश करने की घोषणा की है। भारत के अलावा केन्या, तंजानिया और युगांडा को भी इसमें शामिल किया गया है। बिल गेट्स फाउंडेशन ने ये एलान अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) के एक दिन पहले किया है।

इन फील्ड्स को मिलेगी प्रायरिटी
- फाउंडेशन के मुताबिक, इस निवेश में महिला को सशक्त बनाने के लिए जेंडर इक्वालिटी, डिजिटल फाइनेंशियल इंक्लूजन, महिलाओं के लिए रोजगार और उन्हें एग्रीकल्चर में सपोर्ट करने जैसे फील्ड शामिल किए गए हैं।

- फाउंडेशन की को-चेयरपर्सन मेलिंडा गेट्स के मुताबिक, "महिलाएं आर्थिक रूप से अपने और अपने परिवार का जीवन बेहतर बना सकती हैं। जब महिलाओं के पास खुद का पैसा होता है और उसे खर्च करने की आजादी होती है तब उनके विश्वास और ताकत में इजाफा होता है। इससे महिलाएं उन अलिखित नियमों को भी बदल देती हैं जिनमें महिलाओं को पुरुषों से कम आंका जाता है।"

- फाउंडेशन की मानें तो ये इन्वेस्टमेंट उनके पिछले कमिटमेंट पर आधारित है, जिसमें लिंग समानता के लिए 519 करोड़ 64 लाख (80 मिलियन अमेरिकी डालर) और महिलाओं के आंदोलन को समर्थन देने के लिए 129 करोड़ 91 लाख रुपए (20 मिलियन अमेरिकी डालर) निवेश किए गए थे।

जीडीपी में ग्रोथ में मददगार होती हैं महिलाएं
- फाउंडेशन ने डाटा का हवाला देते हुए कहा कि जब-जब महिलाओं को घर से बाहर काम करने का या फाइनेंशियल सर्विस में भाग लेने का मौका मिलता है तो उनका परिवार गरीबी से बाहर निकलता है और देश की जीडीपी में ग्रोथ होती है।
- फाउंडेशन के मुताबिक, महिलाओं के हाथ में कैश या मोबाइल मनी जैसे फाइनेंशियल रिसोर्सेज होते हैं, तो ये उनके और उनके परिवार के भविष्य को प्रभावित करती है।
- फाउंडेशन में जेंडर इक्वालिटी की डायरेक्टर सारा हेंरिक्स के मुताबिक, हमारा उद्देश्य महिलाओं और लड़कियों को ज्यादा से ज्यादा आर्थिक मौके देना है जिससे वे समाज में बराबर हों।

18 साल पहले शुरू किया था चैरिटी फाउंडेशन
- गेट्स ने 2000 में माइक्रोसॉफ्ट सीईओ पद छोड़ने के बाद पत्नी मेलिंडा के साथ बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन बनाया था। यह दुनिया की सबसे बड़ी निजी चैरिटी संस्था है।
- उन्होंने 1999 में एक लाख करोड़ रुपए के माइक्रोसॉफ्ट के शेयर दान किए थे। जिसके बाद 2000 में 32,000 करोड़ रुपए से बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की शुरूआत की थी।
- फाउंडेशन का मकसद फिलहाल अगले तीन साल में पूरी दुनिया को पोलियोमुक्त बनाने का है।
- हेल्थ फैसेलिटी मुहैया कराना और गरीबी मिटाना भी इसके मकसद में शामिल है। यह फाउंडेशन पिछले कुछ समय से महिला सशक्तिकरण को लेकर भी काम कर रहा है।

गेट्स ने 2000 में माइक्रोसॉफ्ट सीईओ पद छोड़ने के बाद पत्नी मेलिंडा के साथ बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन बनाया था। यह दुनिया की सबसे बड़ी निजी चैरिटी संस्था है।-फाइल गेट्स ने 2000 में माइक्रोसॉफ्ट सीईओ पद छोड़ने के बाद पत्नी मेलिंडा के साथ बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन बनाया था। यह दुनिया की सबसे बड़ी निजी चैरिटी संस्था है।-फाइल