--Advertisement--

महबूबा जैसे लोग केवल पाक के लिए महबूबा, भारत के लिए नहीं: सुब्रमण्यम स्वामी

शनिवार को महबूबा ने एक कार्यक्रम के दौरान नरेंद्र मोदी को पाक से बातचीत के लिए आग्रह करने की सलाह दी थी।

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:20 PM IST
महबूबा ने 10 फरवरी को सुंजवान मे महबूबा ने 10 फरवरी को सुंजवान मे

  • महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को कहा था कि मोदी को पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की तरह पाक से बातचीत करनी चाहिए।

नई दिल्ली. सुब्रमण्यम स्वामी ने रविवार को जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की पाक से बातचीत की सलाह पर तंज कसा। स्वामी ने कहा, "महबूबा जैसे लोग हमारे लिए नहीं सिर्फ पाक के लिए महबूबा हो सकते हैं।" बता दें कि शनिवार को महबूबा ने एक कार्यक्रम के दौरान नरेंद्र मोदी को पाक से बातचीत की पहल करने की सलाह दी थी।

स्वामी ने क्या कहा?

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, "मैं ये नहीं समझता कि क्यों पाकिस्तान से सबसे पसंदीदा राष्ट्र का तमगा खत्म नहीं हो रहा है? ये सिर्फ महबूबा जैसे लोगों की वजह से है जो इसके लिए दबाव डालते हैं। महबूबा सिर्फ पाक के लिए महबूबा हो सकती हैं, हमारे लिए नहीं।"

पाकिस्तन से बात करने की जरुरत- महबूबा
- महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को कश्मीरी पंडितों के कार्यक्रम के दौरान कहा था कि वे नरेंद्र मोदी से गुजारिश करती हैं कि कश्मीर में शांति के लिए भारत को पाकिस्तान से बातचीत के लिए आगे आना चाहिए।
- मुफ्ती ने कहा, "भारत को पाकिस्तान से यह तय करने के लिए कहना चाहिए कि भारत के खिलाफ उसकी जमीन का इस्तेमाल न हो। हम सभी जानते हैं कि दोनों देशों में शांति बनाए रखने का यही रास्ता है।"
- "हमें पता है कि कश्मीर में शांति की चाबी पाकिस्तान के पास है। वे हमारे राज्यों में आतंकी भेजते हैं। इन्हीं से हम कश्मीर में उठने वाले आजादी के नारे को खत्म कर सकते हैं।"

वाजपेयी की तरह कदम उठाएं मोदी
- महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मोदी को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तरह ही पाकिस्तन की तरफ बातचीत का प्रस्ताव रखना चाहिए।
- उनके मुताबिक, भारत और पाकिस्तान दोनों ही युद्ध की स्थिति में नहीं हैं। दोनों देश ये जानते हैं कि अगर युद्ध हुआ तो कुछ नहीं बचेगा। सब कुछ खत्म हो जाएगा।

यह बात पहले भी कह चुकीं महबूबा
- महबूबा भारत को पाकिस्तान से बात की पहल करने की सलाह पहले भी दे चुकी हैं।

- सुंजवान में हुए आतंकी हमले के बाद भी उन्होंने कहा था, "भारत और पाकिस्तान के बीच खूनी खेल को रोकने के लिए हमें बातचीत का रास्ता चुनना होगा।"

- बता दें कि सुंजवान आर्मी कैंप पर आतंकियों ने 10 फरवरी में हमला किया था। इसमें 6 जवान शहीद हुए थे। वहीं एक नागरिक भी मारा गया था।

X
महबूबा ने 10 फरवरी को सुंजवान मेमहबूबा ने 10 फरवरी को सुंजवान मे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..