• Home
  • National
  • Candidates May lose Air Force job if tattoo engraved on body says delhi HC
--Advertisement--

अगर बॉडी पर टैटू बना है तो एयरफोर्स में नौकरी मिलेगी या नहीं, इसकी गारंटी नहीं: हाईकोर्ट

अगर कैंडिडेट की बॉडी पर कोई टैटू बना है तो उसे एयरफोर्स में नौकरी मिलेगी, इसकी कोई गारंटी नहीं है।

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 05:34 PM IST
एयरफोर्स में सिलेक्ट हुए एक नौजवान की अप्वाइंटमेंट सिर्फ इसलिए रद्द कर दी गई, क्योंकि उसने हाथ पर परमानेंट टैटू बनवाया था। -फाइल एयरफोर्स में सिलेक्ट हुए एक नौजवान की अप्वाइंटमेंट सिर्फ इसलिए रद्द कर दी गई, क्योंकि उसने हाथ पर परमानेंट टैटू बनवाया था। -फाइल

नई दिल्ली. अगर कैंडिडेट की बॉडी पर कोई टैटू बना है तो उसे एयरफोर्स में नौकरी मिलेगी, इसकी कोई गारंटी नहीं है। दरअसल, हाथ पर परमानेंट टैटू बने होने से एयरमैन पोस्ट के लिए पिछले साल सिलेक्ट हुए एक नौजवान का अप्वाइंटमेंट एयरफोर्स ने रद्द कर दिया था। कैंडिडेट ने इसे दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। सुनवाई के दौरान बेंच ने पिटीशन खारिज करते हुए कहा कि टैटू नियमों के मुताबिक नहीं बना है तो हम IAF के फैसले पर रोक नहीं लगा सकते हैं। बता दें कि एयरफोर्स में सिर्फ ट्राइबल कम्युनिटी के नौजवानों को कुछ कंडीशन में टैटू को लेकर छूट मिली हुई है।

कैंडिडेट ने टैटू के फोटो नहीं सौंपे

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, जस्टिस हेमा कोहली और रेखा पल्ली की बेंच ने कहा कि जो जानकारियां दी गईं, उनसे साफ है कि पिटीशनर की बॉडी पर बना टैटू एयरफोर्स के एडवरटाइजमेंट में दी गई छूट के दायरे में नहीं आता है।
- कैंडिडेट ने टैटू के फोटोज भी अफसरों को नहीं सौंपे। इसके बाद दिसंबर, 2017 में अप्वाइंटमेंट रद्द हुआ। कोर्ट को अप्वाइंटमेंट रद्द किए जाने वाले ऑर्डर में कोई कमी नजर नहीं आती है, इसलिए ऑर्डर पर रोक नहीं लगाई जा सकती।

ट्राइबल कम्युनिटी के नौजवानों को छूट: वकील

- एयरफोर्स के वकील ने कोर्ट को बताया कि ट्राइबल (जनजाति) कम्युनिटी के नौजवानों को बॉडी पर परमानेंट टैटू के लिए छूट दी गई है। लेकिन टैटू हाथ के अंदरूनी हिस्से (कोहनी से कलाई के बीच) और हथेली के रिवर्स साइड पर ही बना होना चाहिए।
- यह छूट इसलिए दी गई है क्योंकि ये ट्राइबल्स की परम्पराओं में शामिल है। हालांकि, किसी कैंडिडेट को एयरफोर्स के लिए सिलेक्ट करना है या नहीं। यह कमेटी के फैसले पर निर्भर होता है।

क्या है मामला?

- एयरफोर्स ने एयरमैन पोस्ट के लिए चुने गए नौजवान का अप्वाइंटमेंट हाथ के ऊपरी हिस्से पर टैटू बने होने के चलते रद्द कर दिया था। उसने दिल्ली हाईकोर्ट में IAF के फैसले को चुनौती दी। पिटीशनर ने बताया कि उसने ज्वाइनिंग से पहले लिखित में अधिकारियों को बताया था कि बॉडी पर एक टैटू बना हुआ है।
- इस कैंडिडेट ने सितंबर, 2016 में एयरमैन की परीक्षा पास की। फिजिकल के बाद फरवरी, 2017 में मेडिकल भी क्लियर हो गया। उसे नवंबर में कॉल लेटर मिला, इसमें ज्वाइनिंग के लिए 24 दिसंबर को रिपोर्ट करने की बात कही गई।
- अगले ही दिन उसे अप्वाइंटमेंट रद्द करने का लेटर थमा दे दिया। इसमें बॉडी पर परमानेंट टैटू होने का हवाला दिया गया था। अफसरों ने यह भी बताया कि एयरफोर्स के विज्ञापन में टैटू को लेकर साफ गाइडलाइन्स लिखी गई थीं।

एयरफोर्स के नियमों के मुताबिक, टैटू बनवाने को लेकर ट्राइबल कम्युनिटी को कुछ कंडीशन में छूट मिली है। -फाइल एयरफोर्स के नियमों के मुताबिक, टैटू बनवाने को लेकर ट्राइबल कम्युनिटी को कुछ कंडीशन में छूट मिली है। -फाइल