Hindi News »National »Latest News »National» Delhi Sealing Protests 48 Hours Bandh News And Updates

दिल्ली में सीलिंग के विरोध में आज से 48 घंटे का बंद, 2500 बाजारों में नहीं होगा कारोबार

चैंबर आफ ट्रेड एंड इंडस्ट्रीज ने भी अलग से 3 दिन के बंद का एलान किया है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 02, 2018, 01:41 PM IST

नई दिल्ली. सीलिंग के विरोध में कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने यहां 48 घंटे का बंद आज से शुरू हो गया है। इस दौरान 2500 बाजारों में कारोबार नहीं होगा। शहर के 7 लाख से ज्यादा कारोबारी इस बांद का सपोर्ट कर रहे हैं। 500 बाजारों में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। शुक्रवार को इस मुद्दे पर राज्यसभा में हंगामा भी हुआ। इस बीच राजनिवास में लेफ्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल के साथ डीडीए की बैठक में सीलिंग में राहत देने का फैसला किया गया है।

क्या राहत दी गईं?
- दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता और डीडीए सदस्य विजेन्द्र गुप्ता ने बताया सीलिंग से राहत देने के लिए मास्टर प्लान 2021 में बदलाव पर तीन बडे फैसलों पर सहमति बनी है।
- इसमें फ्लोर एरिया रेशियो (एफएआर) में बदलाव को मंजूरी दी गई है।
- 12 मीटर चौड़ी सड़कों पर गोदामों को परमानेंट करने का फैसला किया गया है।
- फ्लोर एरिया रेशियो (एफएआर) को 180 से बढ़ाकर 300 करने पर फैसला हुआ है।
- एफएआर में बढ़ोत्तरी से बेंसमेंट भी सीलिंग के दायरे से बाहर हो जाएंगे।
- कन्वर्जन चार्ज पर पेनल्टी 8 गुना कम की गई है।

कनाॅट प्लेस समेत ये बाजार रहेंगे बंद

- चांदनी चौक, सदर बाजार, चावड़ी बाजार, खारी बावली, नया बाजार, भागीरथ प्लेस, कनॉट प्लेस, लाजपतराय मार्केट समेत दिल्ली के बाजार बंद हैं।

- 2 से 4 फरवरी तक दिल्ली की 8 लाख दुकानें और 1.5 लाख फैक्ट्रियां पूरी तरह से बंद रहेंगी।

- इस बंद को 750 ट्रेड एसोसिएशन्स और 20 से अधिक इंडस्ट्रियल एरिया ने समर्थन दिया है।

क्यों हो रही है सीलिंग?

- सीलिंग की यह कार्रवाई 2007 में आए दिल्‍ली के मास्‍टर प्‍लान को पूरा करने के लिए की जा रही है।
- इसके तहत दिल्‍ली को वर्ल्ड क्लास सिटी बनाना है, ताकि शहर के लोगों को हर सुख-सुविधा मिल सके।
- इस मास्टर प्लान में शहर में 2021 के तहत कुल 2183 सड़के हैं जहां कमर्शियल और मिक्स रोड का इस्तेमाल करने की इजाजत दी गई है। ऐसे में इन जगहों पर नियम के खिलाफ अगर कंस्ट्रक्शन किया गया है तो उन्हें सील किया जा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×