Hindi News »National »Latest News »National» Farooq Abdullah Says Jinnah Is Not Responsible For Partition Of India

बंटवारे के पक्ष में नहीं थे जिन्ना, नेहरू ने कमीशन का फैसला नहीं माना तो पाकिस्तान बना: अब्दुल्ला

अब्दुल्ला ने कहा कि बंटवारे के वक्त जो नफरत के बीज बोए गए थे, उसकी कीमत देश को आज चुकानी पड़ रही है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Mar 03, 2018, 11:59 PM IST

  • बंटवारे के पक्ष में नहीं थे जिन्ना, नेहरू ने कमीशन का फैसला नहीं माना तो पाकिस्तान बना: अब्दुल्ला, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    फारुख अब्दुल्ला ने देश के बंटवारे पर अपने विचार रखे। -फाइल

    श्रीनगर.जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने शनिवार को भारत और पाकिस्तान के बंटवारे पर कहा कि मोहम्मद अली जिन्ना हिंदुस्तान का बंटवारा करने और पाकिस्तान बनाने के समर्थन में नहीं थे। वो तो उस कमीशन की बात मानने के पक्ष में थे, जिसमें मुस्लिमों, अल्पसंख्यकों और सिखों के लिए खास अधिकार देने की बात कही जा रही थी। लेकिन जब देश के पहले प्रधानमंत्री पं. नेहरू, मौलाना आजाद और सरदार पटेल ने इसे नहीं माना तो देश का बंटवारा हुआ।

    तो भारत एक होता...

    - चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, जम्मू की ओर से आयोजित कार्यक्रम में अब्दुल्ला ने कहा, ''जिन्ना साहब पाकिस्तान बनाने के समर्थन में नहीं थे, कमीशन में फैसला लिया कि हिंदुस्तान का बंटवारा नहीं करेंगे, हम मुसलमानों के लिए अलग से लीडरशिप रखेंगे, अल्पसंख्यकों और सिखों के लिए अलग से व्यवस्था रखेंगे, लेकिन देश का बंटवारा नहीं करेंगे।''

    - ''जिन्ना ने कमीशन की बातों को मान लिया लेकिन जवाहरलाल नेहरू, मौलाना आजाद और सरदार पटेल ने इसे दरकिनार कर दिया। जब ऐसा नहीं हुआ तो जिन्ना ने पाकिस्तान मांगने की बात कर दी। नहीं तो ऐसा मुल्क कहीं नहीं होता, आज ना बांग्लादेश होता ना ही पाकिस्तान होता, भारत एक होता।''

    कब तक देश को बांटते रहेंगे

    - अब्दुल्ला ने आगे कहा कि उस समय जो नफरत के बीज बोए गए थे, उसकी कीमत देश को आज चुकानी पड़ रही है। हम कब तक धर्म, जाति और क्षेत्र के नाम पर लोगों को बांटते रहेंगे।

    राहुल को वक्त देने की जरूरत

    - शनिवार को त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड विधानसभा चुनाव के नतीजों को लेकर अब्दुल्ला ने कहा, ''मैं नहीं मानता कि राहुल गांधी फेल हुए हैं। वो अभी कांग्रेस पार्टी के प्रेसिडेंट बने हैं। उन्हें अभी बढ़ने में कुछ समय लगेगा। यह उनकी हार नहीं है। इलेक्शन तो आते-जाते रहते हैं। कोई भी पार्टी अगर लोगों के लिए काम करें तो वह वापसी कर सकती है।''

  • बंटवारे के पक्ष में नहीं थे जिन्ना, नेहरू ने कमीशन का फैसला नहीं माना तो पाकिस्तान बना: अब्दुल्ला, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    अब्दुल्ला के मुताबिक, जिन्ना हिंदुस्तान का बंटवारा नहीं चाहते थे, वो अल्पसंख्यकों के लिए विशेषाधिकार के पक्ष में थे। -फाइल
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Farooq Abdullah Says Jinnah Is Not Responsible For Partition Of India
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×